Skip to content

××× आँसुओं का राज़ ×××

दिनेश एल०

दिनेश एल० "जैहिंद"

लघु कथा

November 13, 2017

लघुकथा: आँसुओं का राज़
// दिनेश एल० “जैहिंद”

एक दिन सुबह-सुबह राजेश अपने बाल-बच्चों सहित
अपने माता-पिता के आगे खड़ा था ।
उनके पैर छुए और उनको निहारते हुए एक टूक ही कहा –
“मेरी नौकरी चली गई ।”
पिछले सात सालों से राजेश अपने बूढ़े माता-पिता को
अकेले छोड़कर अमेरिका में परिवार सहित रह रहा था ।
इस बीच उसने कभी माँ-बाप की सुध नहीं ली,
कभी याद भी आए तो सिर झटक दिया ।
आज वही राजेश माँ-बाप के आगे निश्शब्द व असहाय खड़ा था ।
माँ ने एक शब्द भी नहीं बोला, गुमसुम उसे निहारते हुए रोती रही ।
राजेश ने देखा, माँ की आँखों से झर-झर आँसू बह रहे थे ।
मगर राजेश ने उन आँखों के आँसुओं का राज़ समझ नहीं पाया ।
वे मिलन में खुशी के आँसू थे या बीते बिछोह की पीड़ा के ?

===============
दिनेश एल० “जैहिंद”
05. 10. 2017

Author
दिनेश एल०
मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का... Read more
Recommended Posts
हो जाते माता पिता ,कोमल कभी कठोर
हो जाते माता पिता ,कोमल कभी कठोर बच्चों का जिसमे भला ,ले जाते उस ओर ले जाते उस ऒर, सोचते अच्छा उन का होते वो... Read more
माता-पिता ईश्वर के समान
???? वृद्धाआश्रम में छोड़ गया, ये कैसा संतान। माता-पिता की फिर भी, बसती है इन्हीं में जान। ? माता-पिता तो रूप हैं ईश्वर के समान।... Read more
बेटियाँ
बेटियाँ बेटियाँ, बचपन से ही अपने माता पिता की 'माँ' बन जातीं हैं, नन्ही हथेली से सहलाती हैं पिता का दुखता माथा, छिंतीं हैं माँ... Read more
?माता-पिता?
?? *मुक्तक* ?? ?बह्र - 1222 1222 1222 1222? ?????????? अभागे लोग होते हैं पिता-माँ को सताते हैं। कभी भी चैन जीवन में न वे... Read more