Copy link to share

कल्पतरू गीत

🌳🌳✍🏻 *कल्पतरू गीत*✍🏻🌳🌳 *कल्पतरू ने हर इक़ दिल में अद्भुत अलख जगाया है।* *पर्यावरण सुरक्षा हेतु उत्तम कदम उठाया है।।* कल तक ... Read more

ख़ुदा मिलेगा कहाँ ढूंढूं किन ठिकानों में

1122 1212 122 22 ख़ुदा मिलेगा कहाँ ढूंढूं किन ठिकानो में या वो है महलों में या है यतीमखानो में वो गीत ग़ज़लों में है या भजन की संध्य... Read more

रिस्तों को दिल से निभाना चाहिये

रिश्तों को दिल से निभाना चाहिये अपने गर रूठें मनाना चाहिये उगते सूरज को सभी सजदा करें ढलते को भी सर झुकाना चाहिये जीता जाता है ... Read more

अदभुत अलख जगाया है

कल्पतरु ने हर एक दिल में, अदभुत अलख जगाया है पर्यावरण सुरक्षा हेतु ,उत्तम कदम उठाया है कलतक हमनें खुशियाँ मनाई, घर की चार दीवारी म... Read more

राहे वफ़ा पर चला कीजियेगा

2212/2122/122 राहे वफ़ा पर चला कीजियेगा होगा भला जो भला कीजियेगा दुनियां चले अपने नक़्शे कदम पर जीने में ऐसी कला कीजियेगा होठों प... Read more

बेटियाँ भगवान का वरदान होती हैं

बेटियाँ भगवान का ,वरदान होती हैं बेटियाँ अपने पापा की ,जान होती है बाबुल का ये घर महकाऐं, रोज़ नई खुशियां बरषाऐं आज बेटियां हैं स... Read more

हमको मस्ती में अपनी रहने दो

जो भी कहती है, दुनिया कहने दो हमको मस्ती में,अपनी रहने दो जाति मजहब की ,जो है दीवारें वक्त के साथ ,इनको ढहने दो नफरतों से न हो... Read more

दिल है.नादाँ. समझ न पाया है

दिल है नादाँ समझ न पाया है। अपना है कौन और पराया है।। दीं खुशी हमने जिसे गम लेकर। आज उसने ही दिल दुखाया है।। इक्तिजांअब ... Read more

वो गिरगिट सा रंग, बदलने लगे हैं

वो गिरगिट सा रंग अब, बदलने लगे हैं मगर उनसे अब हम, सम्हलने लगे हैं।। नवाज़ा जो मालिक ने थोड़ा सा उनको। अभी से ही तेवर, बदलने लग... Read more

मोबाइल द्वारा मोबाइल निंदकों से शिकायत

अगर दोष मुझमें है तो फिर, क्यों मुझको अपनाते हो। मेरे सदगुण छोड़ महोदय, अवगुण क्यों गिनवाते हो।। नहीं सिखाया झूठ बोलना, मैंने पति ... Read more

ऐसे दिल को लगाने से क्या फायदा

दिल लगाने से गर चैन मिलता नहीं ऐसे दिल को लगाने से क्या फायदा। उम्र भर के लिये जो निभा न सको ऐसे रिश्ते बनाने से... Read more

वो ख्वाबों में आकर

वो ख्वाबों में आकर, मेरा चैन चुराते हैं। हम तारे गिनगिन कर, सारी रात बिताते हैं।। इन प्यार के भौरों से, कभी प्यार नही करना ये होत... Read more

चलो सब साथ मिलकर, स्वर्ग धरती पर बनाये हम

चलो सब साथ मिलकर, स्वर्ग धरती पर बनाये हम न अपने दिल में कोई भाव रक्खें जाति पांति का न अपने दरमियाँ दीवार रक्खें भाषा मज़हब की। न... Read more

संभल जाओ जहाँ वालो,क़यामत आने वाली है

ईंट पत्थर के महलों से, जमी तुमने भर डाली है। सम्हल जाओ जहाँ वालो,क़यामत आने वाली है।। जिन्होंने काटकर जंगल, महल अपने बनाये हैं। कि... Read more

गजल

मैंने कहा जो यार से, कितना बदल गया कहने लगा कि वक्त के ,साँचे में ढल गया नजरें मिली जो उनसे मेरी ,इत्तफाक से मुरझाया कबसे दिल था,... Read more