छतीसगढ़ के कोरिया जिले से हूँ, संवेदंशील विषयों पर मंचीय कविताएं लिखता हूं, श्रृंगार को छोड़ बाकी सभी विधाओं पर कलम चलाता हूँ ।

Copy link to share

बिटिया

घर आँगन की शान है बिटिया,माँ की जैसे जान है बिटिया बिटिया घर की रौनक होती, चेहरे की मुस्कान है बिटिया ख़ुशी ख़ुशी हर गम को स... Read more

भूली बिसरी यादें

भूली बिसरी यादें सफर जिंदगी का,कुछ ऐसा ही है कुछ मिले होंगे,कुछ छूटे भी होंगे मजा तो यारों की,महफिल में है कुछ सच्चे होंगे... Read more