yogesh dhyani

Joined January 2017

हिंदी साहित्य मे रूचि विशेष तौर पर काव्य के क्षेत्र मे । पेशे से मरीन इंजिनियर ।करीब 15 साल से निजी लेखन मे सक्रिय ।

Copy link to share

बेटियां

गहरे दरिया से लेकर वो ऊंचे अम्बर चूम रहीं हो सहरा की गर्म रेत या जंगल पर्वत घूम रहीं उनने अपनी हिम्मत से ही लांघी कठिन दिवारे... Read more