Ajad Mandori

Joined November 2018

Copy link to share

एक कवि का दर्द

आज की कविता कवि को समर्पित है ज़रा दिल से पढना दोस्तों . कवि दिल की तस्वीर को कागज पे उतारता है अपने मन के भावों से, कव... Read more

कवि

मैं कवि नहीं कवि बनने में अभी तो बहुत कसर है जो भी लिखता हूं ये आपकी दुआओं का असर है . मैं अपने माता पिता गुरू ईश्वर का वंदन करता... Read more

बलात्कार और हत्या

एक दर्द एक अपील हवस के भेडियों ने तो हद ही करदी है इंसानियत कि तो हत्या करके धरदी है . ना जाने वो बेचारी कितनी चीखी होगी उस... Read more

प्रकृति का मजाक

छोटी सी कविता समर्पित है . . देखो यहां कितने इतराने लगे हैं लोग प्राकृति का मजाक उडाने लगे हैं लोग . जब से खबर आई के कोरोना ... Read more

नारी

नारी अपने जीवन में नारी लाखो त्याग देती है बांटती खुशियां सबको खुद वैराग लेती है . नारी सैकड़ों गमो को चुप सह जाती है फिर भी... Read more

मां की ममता

मां सा दुनिया में दूजा है और नहीं मां की ममता का कोई भी छोर नहीं मां ही मां की कोख में मैं नौ मास रहा मेरी ख़ातिर मेरी मां ने द... Read more