vivek saxena

Joined February 2017

Copy link to share

बुंदेली ग़ज़ल

बुंदेली अपनी बिथा कौन से कहिए जैसो राम रखे सो रहिए जैसी बहे बखत की धारा बई के संगे संगे बहिए दोई टेम को चले गुजारो और बत... Read more

कोरोना के खतरे से देश को बचाइये

भारी महामारी प्रभु, फैली हाहाकारी प्रभु, भक्तन की पीड़ा देख कृपा बरसाइये। नाम सुमिरन तेही रोग दोष दूर होते, तुलसी उवाच सच करके द... Read more

राम नाम महिमा

राम नाम का प्रभाव, अपने हिये में लाओ, इससे असम्भव के भाव घबराते हैं। राम जी पे जिनको भरोसा है अटूट वह, किसी ठौर मुश्किलों से न... Read more

कोरोना के खतरे से देश को बचाइये

ताड़का मारीच व सुबाहु को संहारे आप, वही दया दृष्टि नाथ फिर दिखलाइये। रावण को मार सुर भय हीन कीन्हे सभी, एक बार फिर तीर धनु पे चढ़... Read more

कोरोना के खतरे से देश को बचाइये

विनय नाथन के नाथ दीनानाथ मुरली बजइया, संकट में भक्त पड़े कृपा दिखलाइये। एक महामारी ने है सुख चैन छीन लिया, मन में भरा है डर ... Read more

हास्य कविता

नाम बाद में रख लेंगे कानों में मिश्री सी घोली मॉडर्न पत्नी पति से बोली कहो आज क्या तुमको खाना श्रीमान जी मुझे बताना झटपट कि... Read more

महिला और मोबाईल

महिला और मोबाईल जियो वाले दफ्तर में महिला ने फोन किया, मेरी तकलीफ इसी वक्त सुलझाइए। मोबाइल में ना मेरे नेट आज चल रहा, हो रही हूं... Read more

महिला और मोबाईल

महिला और मोबाईल जियो वाले दफ्तर में महिला ने फोन किया, मेरी तकलीफ इसी वक्त सुलझाइए। मोबाइल में ना मेरे नेट आज चल रहा, हो रही हूं... Read more

बाबाओं का दौर

बाबाओं का दौर बाबाओं का दौर है ये सिर्फ बाबाओं का दौर, धर्म वाली नौका भक्ति सागर में खे रहे। मरने के बाद साथ धन नहीं जाता कभी, य... Read more

ग़ज़ल

पेट जब गीत गुन गुनाता है आदमी ज्ञान भूल जाता है मुश्किलों से न यूँ डरो प्यारे फूल काँटों में मुस्कुराता है तन मन बिखेरता खुश... Read more

प्यारे

जिंदगी की किताब में प्यारे क्या क्या आया हिसाब में प्यारे वक्त पूछेगा जब कभी उत्तर दोगे क्या क्या जबाब में प्यारे दर्द कब तक... Read more

दर्दे दिल अपनों से बाँटें

दर्दे दिल अपनों से बाँटें पर अपनों को कैसे छांटें रही स्वार्थी नजर सदा ही, कैसे खुलतीं मन की गांठें जो आदर्श बने थे अपने वे दूज... Read more

बताओ का करिए

बेजा पर रओ घाम, बताओ का करिए कैसे हूँ हैं काम बताओ का बताओ का करिए कैसे मिलन करें राधा से यू पी में सोच रहे घनश्याम बताओ का क... Read more

जिंदगी में गलतियों से सीखते चलो

जिंदगी में गलतियों से सीखते चलो जीत की उड़े फुहार भीगते चलो कोई गलती ऐसी नहीं जिसका ना हल सही रास्ते को चुन उस पे निकल दुनिया ... Read more

हिंदी

जन जन की है भाषा हिंदी भारत की अभिलाषा हिंदी विश्व पटल पर कदम बढ़ाती एक नई आशा है हिंदी विश्व गुरू का मान है हिंदी निज गौरव ... Read more

क्षणिकायें

खजाना उसकी तरक्की को दुनिया ने माना है जिसके पास उम्मीद का खजाना है। 2- आंसू मौन नहीं होता है आंसू उसमें भी स्वर गा... Read more

विवेक सक्सेना के दोहे

उनसे क्या निभ पायेंगे,प्रेम, प्रीत,संबंध। जिनको भाती ही नहीं, ये माटी की गंध।। सत चरित्र संगति सदा, शुभ होता परिणाम। ज्यों कोयल... Read more