Vivek Sharma

Joined January 2017

नाम : विवेक कुमार शर्मा
उपनाम : विवेक बिजनोरी
जन्म तिथि : ०९/१०/१९९१
जन्म स्थान : जिला-बिजनोर (उ.प्रदेश)
प्रमुख कृतियाँ : अपनी तकदीर, बेटी की आवाज, कामयाबी की चमक, और अन्य
शेक्षणिक योग्यता : बी ए, एम् बी ऐ, कंप्यूटर इंजीनियरिंग
व्यवसाय : कंप्यूटर नेटवर्क इंजीनियर
https://www.facebook.com/kavivivekbijnori/
दूरभाष : 9756419102
ई-मेल : vivekinfotrend@gmail.com

Copy link to share

ऐ सुनो!!

ऐ सुनो!! मुझको कुछ कहना है, संग तुम्हारे रहना है। डोर संग पतंग सा, गीत संग तरंग सा। नींद संग ख़्वाब सा, कातिब संग क़िताब सा। ता... Read more

हैरानी (विवेक बिजनोरी)

"मुझे जानकर ये हैरानी बहोत है, ये सन्नाटे की चीखें पुरानी बहोत है कहाँ गुम हो गयी आँगन की रौनक, घरों में आजकल वीरानी बहोत है।" ... Read more

मैं चाहता हूँ...(विवेक बिजनोरी)

"मेरे ख़्वाब में फ़िर यूँ आने से पहले, मुझे इस तरहा फ़िर सताने से पहले। मैं चाहता हूँ तुम भी मेरे साथ जागो यूँ रातों में मुझको जगाने... Read more

क्या लिखूँ (विवेक बिजनोरी)

“सोचता हूँ क्या लिखूँ दिल ए बेकरार लिखूँ या खुद का पहला प्यार लिखूँ सावन की बौंछार लिखूँ या सैलाबो की मार लिखूँ खुशियों का वो ढ़... Read more

भूल गया (विवेक बिजनोरी)

“जबसे होश संभाला है खुशियों का जमाना भूल गया, इससे अच्छा पहले था अब हँसना हँसाना भूल गया। पहले ना थी चिंता कोई बेफिक्रा मैं फिरता ... Read more

“काश” (विवेक बिजनोरी)

“काश कोई जुल्फों से पानी झटक के जगाता, काश कोई ऐसे हमको भी सताता काश कोई बतियाता हमसे भी घंटो, काश कोई होता जो तन्हाई मिटाता” ... Read more

मुफ़लिसी (विवेक बिजनोरी)

“गुलिस्तां -ऐ-जिंदगी में खुशबू सा बिखर के आया हूँ, हर एक तपिश पर थोड़ा निखर के आया हूँ इतना आसां कहाँ होगा मेरी हस्ती मिटा देना, म... Read more

ख्वाइश (विवेक बिजनोरी)

“मेरे ताक -ऐ- हुजरे के दीपक जला दे कोई, दिया,बाती, तेल सब तैयार है बस माचिस दिखा दे कोई मैं भूलता सा जा रहा हंसी क्या ख़ुशी क्या, ... Read more

इंसान कहाँ इंसान रहा (विवेक बिजनोरी)

“आज सोचता हूँ कि कैसा है इंसान हुआ, इंसान कहाँ इंसान रहा अब वो तो है हैवान हुआ कभी जिसको पूजा जाता था नारी शक्ति के रूप में, उसकी... Read more

बिटिया प्यारी

उजियारा लेकर के आई अँधेरे इस जीवन में, बहुत ख़ुशी थी घर पे सबको, था उल्लास भरा सबके मन में लोग न जाने फिर भी क्यूँ बेटो पे ही खुश ह... Read more