कवि आलोक सिंह प्रतापगढ़ी

Copy link to share

बड़ो से कर ली दोस्ती, तो कोई बड़ा नहीं होता

बड़ो से कर ली दोस्ती, तो कोई बड़ा नहीं होता। मुकद्दर बदलने के वास्ते कोई खड़ा नहीं होता।। समुद्री लहरों से सीख लो, बढ़ना और घटना... Read more

“माँ तू कितनी प्यारी है“

बंद किये ख्वाबो के पलके, मै तेरे जीवन में आया आँख खुली तो सबसे पहले माँ मैंने तुझको ही पाया तेरे गोद में मैंने अपना बचपन हँस... Read more

देश के वीरों के लिए

मेरी कविता देश के वीरों को समर्पित है। ना धन चाहिए, ना रतन चाहिए। हमको, पूरा मेरा वतन चाहिए।। कट गये जिनके सर, इस वतन के ल... Read more