शिक्षा – एम. ए. अंग्रेजी साहित्य,

जन्म स्थान- छत्तीसगढ़ राज्य के बिलासपुर जिले के खम्हरिया नामक ग्राम,

रुचि- लेखन,चित्रकारी,अध्यापन,समाजसेवा,

Copy link to share

एक पहल कोरोना को हराने की

आओ मिकलर पहल करें, कोरोना को हराने की, अपने भारत वर्ष को फिर से, विश्व गुरु बनाने की, मुँह पर अपने मास्क बांधलो, साबुन से धो हा... Read more

माता पिता

धूप पड़ता है मुझ पर, तो वो छांव बन जाता है, बारिश के मौसम में कभी, वो बनता छाता है, ठंडी में वह गर्म हवा सा, ग्रीष्म में शीत बरस... Read more

इस रोग का नाम कोरोना है

तुम सबसे रहना बच बच कर, इस रोग का नाम कोरोना है, खतरनाक यह वायरस है, ये जादू है न टोना है मेरी बात सुनो तुम ऐ लोगों, यह रोग जिं... Read more

आओ मिलकर आग लगायें..

आओ मिलकर आग लगायें, कानून नया बनाये हम, देश के फिर से टुकड़े करके, हिन्दू मुस्लिम हो जायें हम, अपनी मतलब के ख़ातिर हम, संविधान बद... Read more

अपनी पहचान नहीं बताएंगे हम

अपनी पहचान नहीं बताएंगे हम, यह देश छोड़कर नहीं जाएंगे हम, हमें निकालने की जितनी भी कोशिश करो, सह लेंगे तेरे सारे सितम, यह देश हम... Read more

"पिता" तेरा ही नाम आता है

सूरज निकलने से पहले, घर से निकलता है, और देर से शाम आता है, लगकर सीने से जिसके, हर मर्ज से आराम आता है, इंसान नही फरिश्ता है वो,... Read more

महतारी के कोरा (छत्तीसगढ़ी कविता)

महतारी के कोरा सरग बरोबर लागे मोला महतारी के कोरा, छप्पनभोग बरोबर लागे तोर बासी वाले कटोरा, जूठा कंउरा तोर ओ दाई अमृत ले ह... Read more

ये दिल तुमसे कुछ कहना चाहता है

ये दिल तुमसे, कुछ कहना चाहता है, दूर रहकर भी, तेरे साथ रहना चाहता है, मुझे पता है कि, तू मेरी हो नही सकती, फिर भी ये पागल, तेरा ह... Read more

"इस नए साल में"

"इस नए साल में" बदलें नही सिर्फ पुराना कैलेंडर, इस नए साल में, पुरानी सोच,पुराना विचार, बदलो नए साल में, कुबुद्धि को पीछे छ... Read more

मेरी जिंदगी

*मेरी ज़िंदगी* थोड़ा थक सा जाता हू अब मैं... इसलिए, दूर निकलना छोड़ दिया है, पर ऐसा भी नही हैं कि अब... मैंने चलना ही छोड़ दिया... Read more

मोहब्बत का बुखार

मोहब्बत का बुखार मोहब्बत सा हमने, न बुखार देखा, खोलकर न पुराना, अखबार देखा, कई आशिकों की किताब पढ़ी, हीर रांझा सा न तलफ़गार दे... Read more

पगलु जस्ट चील...

पगलु जस्ट चील... सम्हाल के रहना भइया यहां, यह है भारत देश, गरीबों की कोई सुनता नही, अमीरों की है ऐश, विकास के नाम का यहां, स... Read more

मैं बेरोजगार हूँ

मैं भारत का युवा,सच्चाई का तलवार हूँ, मगर अब घर पर भार हूँ, क्योंकि मैं बेरोजगार हूँ ।। मेरा बचपन बीत गया, लोगों से सुनते सुनते,... Read more

चाँद मेरा नाराज है

तू ही मेरी दिन है, तू ही मेरी रात है, तू ही मेरी कल है, तू ही मेरी आज है, तू ही मेरी सुर है, तू ही मेरी साज है, तू ही मेरी गीत, औ... Read more