शिक्षा – एम. ए. अंग्रेजी साहित्य

Copy link to share

"पिता" तेरा ही नाम आता है

सूरज निकलने से पहले, घर से निकलता है, और देर से शाम आता है, लगकर सीने से जिसके, हर मर्ज से आराम आता है, इंसान नही फरिश्ता है वो,... Read more

महतारी के कोरा (छत्तीसगढ़ी कविता)

महतारी के कोरा सरग बरोबर लागे मोला महतारी के कोरा, छप्पनभोग बरोबर लागे तोर बासी वाले कटोरा, जूठा कंउरा तोर ओ दाई अमृत ले ह... Read more

ये दिल तुमसे कुछ कहना चाहता है

ये दिल तुमसे, कुछ कहना चाहता है, दूर रहकर भी, तेरे साथ रहना चाहता है, मुझे पता है कि, तू मेरी हो नही सकती, फिर भी ये पागल, तेरा ह... Read more

चुनाव में बढ़ता धनबल प्रयोग (चुनौतियां एवं समाधान)

🗒 आलेख (निबन्ध)🗒 💸 *चुनाव में बढ़ता धनबल प्रयोग* 💸 🤜🏻 (चुनौतियां एवं समाधान)🤛🏻 लेखक - विनय कुमार करुणे✍🏻✍🏻 __________________... Read more

"इस नए साल में"

"इस नए साल में" बदलें नही सिर्फ पुराना कैलेंडर, इस नए साल में, पुरानी सोच,पुराना विचार, बदलो नए साल में, कुबुद्धि को पीछे छ... Read more

मैं घर का बड़ा लड़का हूँ...

मैं घर का बड़ा लड़का हूं, जानता सब हूं पर कुछ कहता नहीं, बहुत सी जिम्मेदारियां है मुझ पर, चूंकि उमर हो चुकी है पापा की, घर का खर... Read more

सम्हल के रहना बाबू...

सम्हल के रहना बाबू... सम्हल के रहना बाबू यहां यह है अपना देश, पहचान किसी को नही पाओगे, क्या है किसका भेष, कौन है नेता कौन क... Read more

मेरा दर्द

मैं दर्द अपनी कागज पर, रातभर लिखता रहा, मैं था बेचैन, मेरा दर्द बिकता रहा, छू रहे थे वो, आसमान की बुलंदियां, मैं चाँद की तरह,सि... Read more

मेरी जिंदगी

*मेरी ज़िंदगी* थोड़ा थक सा जाता हू अब मैं... इसलिए, दूर निकलना छोड़ दिया है, पर ऐसा भी नही हैं कि अब... मैंने चलना ही छोड़ दिया... Read more

बिलासपुर :- मेरा शहर

अरपा नदी के किनारे बसा बिलासपुर पहले एक छोटी बस्ती के रूप में था जिसे अब जूना (पुराना) बिलासपुर के नाम से जाना जाता है। यह सन 1861 क... Read more

मोहब्बत का बुखार

मोहब्बत का बुखार मोहब्बत सा हमने, न बुखार देखा, खोलकर न पुराना, अखबार देखा, कई आशिकों की किताब पढ़ी, हीर रांझा सा न तलफ़गार दे... Read more

पगलु जस्ट चील...

पगलु जस्ट चील... सम्हाल के रहना भइया यहां, यह है भारत देश, गरीबों की कोई सुनता नही, अमीरों की है ऐश, विकास के नाम का यहां, स... Read more

होली का मौसम आया है

होली का मौसम आया है, रंग खुशी का लाया है, सभी तरफ होली की हलचल, जितने प्यारे उतने चंचल, रंगों के थाल सजे है, सब तरफ नगाड़े ढ... Read more

मैं बेरोजगार हूँ

मैं भारत का युवा,सच्चाई का तलवार हूँ, मगर अब घर पर भार हूँ, क्योंकि मैं बेरोजगार हूँ ।। मेरा बचपन बीत गया, लोगों से सुनते सुनते,... Read more

चाँद मेरा नाराज है

तू ही मेरी दिन है, तू ही मेरी रात है, तू ही मेरी कल है, तू ही मेरी आज है, तू ही मेरी सुर है, तू ही मेरी साज है, तू ही मेरी गीत, औ... Read more