चिकित्सा के दौरान जीवन मृत्यु को नजदीक से देखा है ईश्वर की इस कृति को जानने के लिए केवल विज्ञान की नजर पर्याप्त नहीं
है ,अंतर्मन के चक्षु जागृत करना होगा

Copy link to share

अनुभूतिया

जीवन की राहे सूनो हो चली मन उदासी के सागर में डूबता रहा राहे जैसे खत्म होने को है सांझ की लालिमा रात्रि की कालिमा सभी घेरे हुय... Read more

उड़ान

मन उमंगो के आसमान में उड़ने लगा राहे स्वयं राह दिखाने लगी राते स्वयं रोशन होने लगी जब से मिली हो तुम जिंदगी स्वयं मुस्कराने ल... Read more

उषा का स्वागत

प्रिय उषा को जन्म दिन पर भेंट पौष की ठिठुरन में धूप का टुकड़ा लिए अमावस की रात में अमृतमय चांदनी लिये जेठ की तपती दोपहर मे साव... Read more

बचपन की बारिश

वर्षा की फुहारों में मन करता है रिमझिम के गीत गाते बिना छाते सडको पर दौड़ने का घटाओ से घिरे बादलो को छूने का अठखेलिया करती नटखट प... Read more

ईश्वर से परिचय

आज सुबह ईश्वसर से परिचय हुआ है मेरा,- गीत गाते उमंगो से भरे परिंदो की चहचहाट मै, नव जीवन को संचार करती सूरज की रश्मियों मै, हँसत... Read more

महाभारत तो जीतना होगा

हे कृष्ण कब आओगे आतंक का विकराल तांडव कब तक देखोगे अर्जुन आज अवसाद में है गीता पुनःसुनानी होगी सारथी बन राह दीखानी होगी फिर ग... Read more