डॉ. उमेशचन्द्र सिरसवारी

चन्दौसी, सम्भल (उ.प्र.)

Joined January 2018

एम.ए. हिंदी, एम.ए. संस्कृत,
हिंदी नेट JRF, SRF, (Ph.D. हिंदी)

पूर्व शोधार्थी, हिंदी विभाग, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय अलीगढ़।

संप्रति- केंद्रीय हिंदी संस्थान आगरा में कार्यरत

क्षेत्र – बाल साहित्य, स्त्री विमर्श

प्रकाशन : लेख, शोध पत्र, संस्मरण, कहानी-कविताएँ विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित।

सम्मान : उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान द्वारा वर्ष, 2018 के लिए ‘कृष्ण विनायक फड़के बाल साहित्य समीक्षा सम्मान’, बालप्रहरी पत्रिका और बालवाटिका पत्रिका द्वारा बालसाहित्य सृजन सम्मान। एस.एम. कॉलेज चंदौसी के हिंदी विभाग द्वारा ‘युवा प्रतिभा’ सम्मान।

Copy link to share

गणतंत्र दिवस, 2020 के अवसर पर विशेष कवरेज...

सम्भल जिले की प्रतिभाएँ, जिनसे ले सकते हैं प्रेरणा... सम्भल। 'कौन कहता है आसमान में सुराख नहीं हो सकता, एक पत्थर तो तबियत से उछालो ... Read more

अभिमन्यु चक्रव्यूह में फंस गया है तू...

सरकारी नौकरी की अपनी खूबियां, सीमाएं और मर्यादाएं हैं। इन बंधनों में थोड़ी बहुत सुरक्षा, अधिकार और सम्मान तो है मगर ठहराव की गहरी उक... Read more

कृष्ण विनायक फड़के बाल साहित्य समीक्षा सम्मान से नवाजे गए डॉ. उमेशचन्द्र सिरसवारी

चन्दौसी (सम्भल, उत्तर प्रदेश)। चंदौसी के गाँव आटा निवासी बाल साहित्यकार डॉ. उमेशचन्द्र सिरसवारी को उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान, लखनऊ ... Read more

बाल साहित्य की कसौटी पर खरा उतरते यह ‘बाल विशेषांक’ : उमेश चन्द्र सिरसवारी

बाल पत्रिकाएँ/समीक्षा बालसाहित्य की कसौटी पर खरा उतरते यह ‘बाल विशेषांक’ ... Read more

बाल कविता

मौसम होली का फिर आया... उमेशचन्द्र सिरसवारी मौसम होली का फिर आया। उड़ते लाल, गुलाल गलियन... Read more

बालगीत

चिड़िया रानी आ जाओ... उमेशचन्द्र सिरसवारी चिड़िया रानी फिर से मेरे, तुम आँगन में आ जाओ। बिखरे ह... Read more

बालगीत

प्यारी चिड़िया उमेशचन्द्र सिरसवारी देखो नन्हीं-मुन्नी चिड़िया, मन को भात... Read more

‘बाजारवाद और बालसाहित्य’

डॉ. उमेशचन्द्र सिरसवारी किसी भी देश या समाज के भविष्य का अनुमान वर्तमान बचपन को देखकर लगाया जा सकता है। बचपन के निर्... Read more