योगिता

जबलपुर

Joined January 2017

कर्तव्य से प्रशासनिक अधिकारी एवं हृदय से कला प्रेमी।आठ वर्ष की उम्र से विभिन्न विधाओं में मंच पर सक्रिय । आकाशवाणी में युवावाणी कार्यक्रम में कविता पाठ,परिचर्चा में अनेक कार्यक्रम प्रसारित। भिन्न भिन्न प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं व समाचार पत्रों में लेख व कविता प्रकाशित। साहित्यपीडिया के माध्यम से पुन: कला से और कलाकारों से जुडने के लिए हृदय से आभारी हूं ।

Copy link to share

ये न करो

सफलता हमेशा , हर जगह इतनी जरूरी भी नहीं। टूट रहे हो भीतर से... मान लो...हर्ज क्या है ... हर कोई टूटा है कभी न कभी... उदास हो , कह द... Read more

पति परमेश्वर से कुछ ज्यादा

अब तुम, पति परमेश्वर से कुछ ज्यादा दोस्त हो गए हो मेरे , जैसे किसी बचपने से निकल रहा है हमारा रिश्ता, और ले रहा है , एक... Read more

मातृभाषा की पुकार : लिए कोई दिवस न मनाओ

मेरे लिए कुछ करना ही है तो मेरे लिए कोई दिवस न मनाओ। तुम्हारे घर में बच्चे होंगे , उनको पढने की आदत सिखाओ। सिखाओ उनको ... Read more

तुम जीत भी सकती थीं

तुम जीत भी सकती थीं, जीत से बहुत कम फासले पर तुमने हार लिखी, प्रतियोगियों की भाषा में इसे अच्छी हार कहते हैं एक ऐसी हार जो... Read more

स्त्री सिर्फ तब तक तुम्हारी होती है

स्त्री सिर्फ तब तक तुम्हारी होती है जब तक वो तुमसे रूठ लेती है,लड लेती है आंसू बहा बहाकर , और दे देती है दो चार उलाहना तुम्... Read more

किस राह पर जाएं

अब कहां जाएँ, किस राह पर चल के दिखाएं, लगता आसां है, पर मुश्किल सवाल है। जिस राह पर चलने का ख्वाब था आज उसी राह पर चलते हुए, ह... Read more

भक्ति

धर्म स्थान पर जाकर कब भक्ति हम कर पाते हैं हम तो अपने लिए भगवान को रिझाते हैं ... कभी मिठाई कभी चादर/वस्त्र चढाते हैं कभी दानपेट... Read more

ये कैसी सजा

आज की रात भी वैसी ही थी। एक छत के नीचे दो अजनबी अपने अपने हिस्से के जख्मों को लेकर लेटे थे । राजीव तो शायद सो गए थे पर नेहा की आंखों... Read more

जब चोट गहरी हो

बहुत बेचैन होती हैं वो घडियां जब चोट तो गहरी हो, पर जख्म नजर न आता हो। भीतर से कुछ दरक रहा हो पल पल , और ऊपर से कर दिया ग... Read more

बात तो तब होती

बात तो तब होती जब तेरे मेरे दरमियां कुछ बात होती। जब भीतर कोई चिनगारी हो तो गर्माहट महसूस होती है, लेकिन तुम हमेशा से ठंडे से... Read more

मां मुझको भी प्यार करो

मां किसी बेटी ने न कहा होगा जो आज मैं कहती हूं क्यों सब बच्चों में सबसे ज्यादा उपेक्षित मैं रहती हूं । माना मैं थी सबसे बड... Read more

ब्लाक होते रिश्ते

किसी ने ज्योतिष का पहला पाठ जब पढाया था कुंडली में गुरू का महत्व बताया था। कि घर के बुजुर्ग खुश रहें तो गुरू कभी नाराज न... Read more

अच्छी पत्नियां

देखती हूं, बहुत अच्छी पत्नियां बनी वो सारी लडकियां जिनके प्रेम प्रसंग चर्चित रहे कालेज के जमाने में। अपने बीते दिनों के अन... Read more

हल्दी

न जाने खेलते खेलते कब खुद को जख्मी कर लिया , कोई मुंदी चोट आ गई है शायद न चोट का ज़ख्म नजर आता है न इसका दर्द जाता है। और घिर... Read more

वक्त कैसा भी हो बदलता हैै

एक ही बात,हां एक ही बात रखती हूं याद,हां एक ही बात वक्त कैसा भी हो,बदलता है..... समय का पहिया ,चलता है,चलता है। घड़ी मुश्किलों क... Read more

मम्मी का जन्मदिन

मम्मी का जन्मदिन कोई त्योहार हो या किसी का जन्मदिन अक्सर हम सबके पास एक सवाल होता था और जवाब भी हम ही देते थे। मम्मी खान... Read more

मन की गति

मन की गति, कभी हिरनों सी कुलांचे मारती गिलहरी सी फुदकती कहीं खुशियाँ बिखेरती अपनी ही मस्ती में मदमस्त होती मन की गति। और कभी ख... Read more

अंदर की ताकत

अंदर की ताकत अक्सर छुपी होती है हम सबमें, और बात बात पर वो बाहर निकलती भी नहीं , वो तब नही नजर आती सब साथ कोई सहारा द... Read more

स्त्री

स्त्री ..... अक्सर तुनकमिजाज सी लगती कभी बहुत रोती कभी बहुत हंसती। छोटी छोटी चीजों को मचल जाती अक्सर ...... और बडे बडे अभाव ... Read more

मन की थकन जो उतार दे वो अवकाश चाहिए

मन की थकन जो उतार दे वो अवकाश चाहिए । इस भागती सी जिंदगी में फुरसत की सांस चाहिए । चेहरों को नहीं दिल को भी पढने का वक्त हो .... Read more