Chandan Mohta

Joined November 2018

Copy link to share

मृत्यु - मृतक की ज़ुबानी

एक पल में सुन्न पड़ा शरीर, थी इर्द - गिर्द कुटुम्भ की टोली। इस उम्मीद में थे शायद, के में बोल पडूँ एक बोली। थे कर रहे जतन वो, ... Read more