Tariq Azeem Tanha

Ghurdauri, Pauri Garhwal

Joined March 2018

I speaks from heart, likely to write on political sarcasm, social hormoney, Brotherhood, and beauty of world

Books:
Dastaan-E-Tanha
Sunehra Khwaab

Awards:
certificates from Pant Nagar

Copy link to share

यादो के आईने

यादो के आईने में तुझे सुबहो-शाम देखूँ, कहकर तेरे तस्सवुर पे मैं भी कलाम देखूँ। घर से निकलके रोज़ जाता ह... Read more

बादे-नौ-बहार चली

बाद-ए-नौ-बहार चली आ गयी हैं अब होली, खिली हैं हर एक कली आ गयी हैं अब होली सभी लोग मस्त हैं, अब नाचते हैं गाते हैं तुम भी झूमो अ... Read more

जाग करे क्यों।

कोई मुझमे ऐसे जागा करे क्यों, आँखों में क़याम किया करे क्यों! कोई रात भर रहे इन आँखों में, पलकों पर मेरी जला करे क्यों! रास ह... Read more

साहब की सैर

साहब की हवाई सैर पर एक मतला और एक शेर देखे। कू-ए-वतन में उड़न तश्तरी मोड़िये ना, साहब विदेश घूमने की जिद छोड़िये ना! इंसा... Read more

हयात से वफ़ात तक का सफ़र, और उसकी तल्खियां।

सोज़िशे-दयार से निकल जाना चाहता हूँ, हयात से अदल में बदल जाना चाहता हूँ! तन्हाई ए उफ़ुक़ पे मिजगां को साथ लेके, मेहरो-माह के साथ च... Read more

अपने चेहरे पे।

अपने चेहरे पे जुल्फों को पड़ा रहने दो, रौशनी गर्दिशों में और अँधेरा रहने दो! चाँद खुद भी शर्मायेगा देखकर तुमको, कम से कम आँखों क... Read more

चाँद खूबसूरत रहेगा आखिर कैसे...

देखो तो हम कहाँ से कहाँ पहुँच गए, खबर नही अपनी हम वहाँ पहुँच गए! जहाँ कहीं उसका पता मिला था हमे, अंजुमन से उठकर वहां वहां पहुच ... Read more

जो दुश्मन थी

जो दुश्मन थी, मेरी जां, आज उनकी जां हो गयी, हाय! क्या सितम हैं के दुनिया भी हमनवां हो गयी! उसे फिर पड़े कहाँ चैन ढूंढे सेहरा में ... Read more

हवा देखिये।

खुशबुओं से घुली हैं हवा देखिये, कितनी महकी हुई हैं फ़िज़ा देखिये। मर मिटे कितने लोग इश्क़ में, चल रहा ये हैं सिलसिला देखिये! ता... Read more

रहने दो।

अपने चेहरे पे जुल्फों को पड़ा रहने दो, रौशनी गर्दिशों में और अँधेरा रहने दो! चाँद खुद भी शर्मायेगा देखकर तुमको, कम से कम आँखों क... Read more