Swati Gupta

Bareilly

Joined June 2018

Copy link to share

जीवन

अदभुत सा कैसा जीवन है, सुख दुख का इसमें संगम है, हर्षित मन हो सुख में हरदम, दुख में विचलित रहता मन है, पुष्प रहे काँटों में हमेश... Read more

आज का बचपन

आधुनिकता का परिधान पहने है आज का बचपन, महँगे खिलौनों में सिमट गया है आज का बचपन, खुले आसमान के नीचे खेलने का रिवाज नहीं अब, इलेक्... Read more

देशप्रेम

जान से प्यारा देश हमारा, ये हमको दिखलाना है, विश्व के मस्तक पर हमको,भारत का मुकुट सजाना है। आजादी की खातिर वीरों ने स्वप्राणों का ... Read more

पुरुष

नारी की महत्ता समाज में हर कोई दर्शाता है, पुरुषों का सिर्फ अहम भाव ही क्यूँ दिखलाता है, कर्तव्य परायण पुरूष भी हैं,हर फर्ज निभाता... Read more

माँ😍

चाहें कितनी भी दूर हो हम,साथ तेरा न छूटे माँ, रिश्ता है ये दिल से दिल का,आस कभी न टूटे माँ, मामृत्व का भंडार हो तुम,तेरी ममता कभी ... Read more

बलात्कार

1-सुरक्षा नहीं, डर लगता है माँ, छिपा लो मुझे। 2-कैसे जाएं माँ, राक्षस हैं आजाद, सुरक्षा कहाँ। 3-मासूम बच्ची, हवस का शैत... Read more

तांका

1-हम गृहिणी, घर को ही मानती, अपना जहाँ, खुश हो परिवार, यही एक अरमां।। 2-प्यार है रस, प्यार है समर्पण, प्यार से खिले, ... Read more

आया सावन(तांका)

1-आया सावन, अजब सी बहार, लाया खुशियाँ, प्रेम की है बौछार, पनप रहा प्यार। 2-पेड़ पौधों की शोभा बड़ी निराली देते जीवन, लात... Read more

मौसम बड़ा सुहाना है

माँ चलो बाहर घूमने ,मौसम बड़ा सुहाना है, रिमझिम रिमझिम बारिश में, दिल हुआ दीवाना है। नाच रहा है मोर भी देखो,कूंक रही है कोयल प्यारी... Read more

बचपन की यादें

दिल मेरा बार बार मचलता है, बच्चा बनने की ज़िद करता है। याद आता है जब भी बचपन, मीठी यादोँ में दिन गुज़रता है। वो मंजर भी था कितना प... Read more

जन्म और मृत्यु

जन्म मिला है इंसान का, इसको व्यर्थ न गवांना तुम, इंसान हो अगर तो,इंसानियत का फर्ज निभाना तुम। गुरुर करना न दौलत का कभी,ये माटी का ... Read more

कर्म और फल

न सोचो बर्बाद करने की औरों को,तुम भी न बच पाओगे, करोगे अगर बुरा किसी और का,तो खुद भी काँटे पाओगे, औरों के घर मे आग लगाने से पहले स... Read more

जिंदगी के रंग

जिंदगी के भी अजीब रंग है, नमक है ज्यादा चीनी कम है। कभी लगती है रंगों से भरी, कभी बहुत ही बदरंग है। कभी तो हैं खुशियां अपार, कभ... Read more

जिंदगी के सबक

हर दिन कुछ नया सिखाती है जिंदगी, रोज़ एक नया तजुर्बा दे जाती है जिंदगी, स्कूल,कॉलेज का अध्ययन काम न आया, क्योंकि सबक स्कूल के नहीं... Read more

दूरियां कुछ भी नही

ग़ज़ल- तेरे मेरे बीच में यह,दूरियां कुछ भी नहीं, चाह हो मिलने की तो यह, फासला कुछ भी नहीं। इन निग़ाहों में बसी है, सिर्फ तेरी ही सुर... Read more

पापा😍

माँ है दुलार तो अनुशासन हैं पापा। माँ सम्भालती है घर को ,तो घर बनाते हैं पापा। माँ बनाती है खाना प्यार से, खाने का इंतजाम करते ह... Read more

रक्तदान

14 जून- विश्व रक्तदाता दिवस पर बधाई। रक्तदान है महादान,जिंदगी का हो यह ईमान। अनमोल है बहुत,पर नही है इसका कोई दाम। पुनः जीवन दे... Read more

माँ की ममता

1-शिशु निहारे, माँ फैलाये आँचल, दुख बिसारे। 2-माँ गावे लोरी, शिशु झूले पालना, सुख दिलावे। 3-माँ की अंगुली, ... Read more

पिता और बेटी पर हाइकू-एक प्रयास

1- पापा हैं खुश नवजात है शिशु हर्ष उल्लास। 2-पापा की परी, महकाये आँगन, घर की कली। 3-प्यारी बिटिया, चहकती च... Read more

बेटी की विदाई

बाबुल बिटिया तेरी हुई परायी थी, तेरे आँगन से उसकी हुई विदाई थी। पहला क़दम जब पड़ा मेरा घर में, पूरे घर ने खुशियां मनाई थी, नज़र का ... Read more

बहु और बेटी

न समझो मुझको पराया,मुझे अपना बनाकर देखो, माना कि बहु हूँ तुम्हारी,पर बेटी समझकर कर देखो, बचपन से सुना था मैंने,मैं धन हूँ एक पराया... Read more

ग़ज़ल

आज अपने दिल की बात बता रही हूँ, शब्दों में नहीं, आंखों से समझा रही हूँ। नैनों की भाषा समझ ले तू सनम, प्यार का गीत गुनगुना रही हूँ... Read more

मुझपे हक है तेरा जताया करो।

गजल प्यार अपना हमें दिखाया करो, हमको भी दिल से तुम लगाया करो। इश्क तुमको है हमसे हमे भी पता, दिल मे इसको न यूँ छिपाया करो। खामो... Read more

सच और झूठ

सुनना तो चाहते हैं सच मगर सच बोलने से क्यूँ कतरा जाते हैं लोग, यदा कदा परहित में झूठ बोल सकते हैं, स्वहित के लिए क्यूँ झूठ बोल जा... Read more

छुट्टियां हुई खत्म

छुट्टियां खत्म हुई और स्कूल खुल गया बच्चों के स्कूल जाने से घर सूना हो गया, अलार्म की आवाज़ पर हुआ अलर्ट घर, देर से उठना सुबह अब ब... Read more