Surjeet Besra

Pakur

Joined December 2018

Copy link to share

घूमता रहूं

मैं तो ठहरा घुमन्तु इन्सान जब मन किया निकल लिए घुमने को कभी सागर की गहराई नापने कभी खुले नीले गगन को चूमने को ऐसा भी जो जाता है... Read more

दोस्ती

ये जो दोस्ती है एक अलग ही एहसास है बयाँ न हो पाए शब्दों में रिश्ता ये वो खास है अकेलापन न सता पाए हमें, जब तू साथ है ये जो दोस्ती... Read more