क्या कहूँ मैं बात अपनी, मुझमें ऐसी बात ही का

Copy link to share

मंदिर में दूध चढ़ाना न, पाप नहीं था

इंसानियत के फ़र्ज़ को कैसे भुला दिया ? बेबस था वो बच्चा उसे तुमने रुला दिया । मंदिर में दूध चढ़ाना न, पाप नहीं था, है पाप जो गरीब... Read more

कोई लड़ता राम के लिए

कोई लड़ता राम के लिए, कोई तो रहमान के लिए । कौन लड़ा है जाति - धर्म का भेद छोड़, इंसान के लिए ? जाति -धर्म के अहंकार में देश हमारा... Read more

चन्द्रशेखर वीरता का दूसरा पर्याय है

(पुण्यतिथि : २७ फरवरी १९३१) चन्द्रशेखर वीरता का, दूसरा पर्याय है । हिन्द के इतिहास में इस, वीर का अध्याय है ।। तन लुटाया, मन ल... Read more

बिना मेहनत के नहीं मिलता कोई फल यारों

धरती खोदोगे तब मिलेगा तुम्हें जल यारों। बिना मेहनत के नहीं मिलता कोई फल यारों।। धूप में जिस किसान का बहा पसीना है, लहलहाई है बस... Read more

कथनी के वीर हों न, कर्मवीर चाहिए

कथनी के वीर हों न, कर्मवीर चाहिए । हर ओर अब सुधार की तस्वीर चाहिए ॥ बस खोखले वादों के न कंकाल दिखाओ, नेताओं ! अब विकास का शरीर ... Read more