नाम : सुरेन्द्रपाल वैद्य
पिता का नाम : श्री इन्द्रसिंह वैद्य
शिक्षा : कला स्नातक
पता : मकान न•- 45, हिमुडा आवास बस्ती भियुली, मण्डी, जिला मण्डी (हि•प्र•) – 175001
पत्र पत्रिकाओं के अतिरिक्त अन्तर्जाल पर गीत, नवगीत, गजल और कविताएँ प्रकाशित। विभिन्न सामयिक विषयों पर स्वतन्त्र लेखन, साहित्यिक गतिविधियों तथा कवि सम्मेलनों में भागीदारी।
ईमेल- surenderpalvaidya@gmail.com

Copy link to share

उनका

गीतिका * है गजब प्यार का हुनर उनका अक्स दिल में गया उतर उनका * फूल ही फूल खिल उठेंगे अब साथ हमको मिले अगर उनका * जिन्दगी... Read more

स्वप्न हम पूरा करें

० शुद्ध मन अपना रखें सब देश की सेवा करें आज भारत मात का हर स्वप्न हम पूरा करें ० छोड़ दें बातें सभी जिन में भरा हो स्वार्थ ही ... Read more

कसमसाना हो गया

कसमसाना हो गया * ठोकर लगी जब राह में तो कसमसाना हो गया फिर अनुभवों से सीखकर राही सयाना हो गया * जिसके लिए आनंद था सब कुछ ... Read more

हम दर्शन करें

हम दर्शन करें ० शुद्ध मन से माँ के हम दर्शन करें, भावनाओं में बहें चिंतन करें। ० शक्तिशाली माँ सभी यह जानते, सत्य यह स्... Read more

हो रहा है

गीतिका * छलावा भी उसे ही हो रहा है भरोसे भाग्य के जो सो रहा है * बहुत उम्मीद थी जिससे लगाई क्यों जाता दूर मुझसे वो रहा है ... Read more