surender insan

Joined October 2016

Copy link to share

आइना सच का दिखाता है मुझे

वो बिना कारण रुलाता है मुझे। बाद में खुद ही मनाता है मुझे।। प्यार का इजहार जब से है किया। वो इशारे से बुलाता है मुझे।। बात द... Read more

दुनिया तब दीवानी होगी।

दुनिया तब दीवानी होगी। जब शेर में रवानी होगी।। शाइरी अगर सीखनी तुम्हें। दिल में आग लगानी होगी।। दोस्त अगर कहते हो मुझको। सा... Read more

"पत्थर"

पत्थर के घर में रह के पत्थर दिल बने है लोग अब। थोड़े से पैसो के लिये क़ातिल बने है लोग अब।। करता न पहले जैसा आदर मान अब कोई यहां... Read more

"शाइरी लगने लगे"

ग़ज़ल दोस्त कहना अब ग़ज़ल कुछ यूँ,सही लगने लगे। सादगी से तुम कहो जो, शाइरी लगने लगे।। क्यों भला ऐसा हुआ करता जहां में दोस्तों। क... Read more