झज्जर जिले में जन्म, वर्तमान में करनाल में रहती हैं। शिक्षा विभाग में कार्यरत। विभिन्न रचनाएँ प्रकाशित हो चुकी हैं।

Books:
प्रीत पुरानी गीत नए (एकल काव्य संग्रह)
मृगनयना (साँझा काव्य संग्रह)
अंजुमन (साँझा काव्य संग्रह)
सुनो, तुम झूठ तो नहीं बोल रहे (साँझा कहानी संग्रह)
बूँद-बूँद में सागर (साँझा लघुकथा संग्रह)

Copy link to share

ग़ज़ल

धरती से बिछड़ी तो अंबर में बदरा बन के छायी हूँ मैं बरखा की बूंदें बन सागर से मिलने आयी हूँ तुम क्या जानो कैसे हासिल होता है बंजार... Read more

ग़ज़ल

जिस दिन मुझको साँसों ने ठुकराया था उस दिन मुझसे मिलने वो भी आया था जिन राहों में साथ चले थे हम दोनों उन राहों की माटी वो ले आया... Read more

प्रेम गीत

ठहर जाती हूँ राहों में मैं सुनके आहटें तेरी कभी आँसू कभी ख़ुशियाँ, हैं कैसी ख्वाहिशें तेरी तेरी सूरत वो दर्पन है कि जिसमें प्यार ... Read more

सज़दा

इश्क़ में ख़ुदा माना था तुम्हें और इबादत में तेरी, मन को मंदिर बनाया था पूजा था तुम्हें कुछ इस तरह कि साँसों की बाती संग तन का दिया... Read more

ग़ज़ल

बात जमा माड़ी थी या, तन्नै क्यूकर समझी कोन्या रै कितनी ए तगड़ी हो लड़ाई, यारी तै तगड़ी कोन्या रै न्यू लोग भतेरे मिल ज्यांगे, अर दोस्... Read more

ग़ज़ल

अश्क़ आँखों में लिए उस से बिछड़ना है मुझे फिर सितम ये भी कि रोने से मुकरना है मुझे कल सँवारा था जिसे मोहब्बतों में ढाल कर अब ... Read more

प्रेम

सुनो प्रेम.. तुम अब जब भी आना किसी सूरत में ढल के मत आना मत आना किसी प्रेमी या पति का चेहरा ओढ़कर मत आना किसी भी रिश्ते की चादर ओ... Read more

जाने क्या-क्या

बीत चला है जाने क्या क्या और थमा है जाने क्या क्या हाथ बढ़ाकर दे भी देता छीन लिया है जाने क्या क्या पल भर तो मुझको सुन लेत... Read more

ग़ज़ल - 'दिल जला या मैं जली'

हाथ मेरा थाम कर तुम चल पड़े जो हर गली राह की हर चोट भी तो लग रही थी तब भली दिख रहा था वो मुसाफिर बीच रस्ते लौटता कौन जाने बात म... Read more

ग़ज़ल - दोहरा के देखा था

इक किस्सा यूँ दोहरा के देखा था तुमको फिर आजमा के देखा था फिर न हँसने में वो मज़ा ही रहा मैंने हर ग़म भुला के देखा था दिल से उठ... Read more

वादा

किसी मोड़ पर ना तुमसे मिलूंगी, चलो ये भी वादा किया आज तुमसे.. कहा था कभी के उफ़ ना करुंगी, विष भी तो हँस-हँस पिया आज तुमसे... आए... Read more