नाम-सूर्य प्रकाश उपाध्याय
अन्य नाम-गोलू कुमार उपाध्याय
पिता-राजेन्द्र कुमार उपाध्याय
माता-ललित देवी
जन्म-10 फरवरी 1997
जन्म स्थान-मंगराँव, रोहतास(बिहार)
शिक्षा-विज्ञान स्नातक द्वारा गणित व बी.एड. के लिए अध्ययन पथ पर।
सम्प्रति-ज्ञानोपार्जन के पथ पर।
साहित्यिक अभिरुचि-कविताओं और साहित्य के प्रति रुचि। विशेष रूप से हिन्दी कविता लिखने के लिये हिन्दी काव्य में रूचि।
रचनात्मक रूझान-अपनी संवेदनाओं और अनुभूतियों से स्वयं को अविचलित न होने देना वरन् इन्हें व्यावहारिक या रचनात्मक रूप में अभिव्यक्त करने की उत्कंठा।
विधा-तुकांत व अतुकांत काव्य लेखन,भोजपुरी काव्य लेखन,कहानी,लघुकथा खण्डकाव्य,मुक्तक,गीत, गजल।
प्रकाशित रचनाएँ – विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में कविता प्रकाशित।
लगन-सामाजिक कार्यों में, गजल गायन,फोटोग्राफी एवं देशाटन।
संपर्क सूत्र-९४७२९३१९१७
ईमेल-golukumarupadhyayitsmymails@gmail.com

Copy link to share

"कारवा चौथ"

"करवा चौथ" करवा चौथ, आज बीतें बरस, पिया! तेरे इंतजार में। मन पुलकित, पल छिन, देखुंगा आज तुम्हें, चांद के रूप में! ... Read more

"दीप जलाओ मन से मन का"

दीप जलाओ, दीप जलाओ, मन से मन का दीप जलाओ। खुशी के दीप, प्रेम के दीप जलाओ, अंतस्थल में। स्नेह की घी, स्नेह सिक्त बाती, ज्... Read more

"नव युग नव निर्माण"

आओ हम करें नव युग नव निर्माण, ईर्ष्या,क्लेश, द्वेष का करें निर्वाण, हम करें नव युग नव निर्माण | प्रेम, आदर, भक्ति, और विश्वास, ... Read more

"नार"

नाजुक सख्त,हुस्न,चंचलता,मृदुल,मनोहर,कुलिश,कठोर। कमनिय,कम्पन,चकित,भयातुर,निष्ठुर,सलज चितचोर। विविध वस्तु से रचा विधाता,गुण-अवगुण सब... Read more

"स्त्री"

सहनशीलता से भरा तन, ममता से भरा मन, हर कष्ट हर दुख सहती है हे नर! खुद से ना तुलना करो, पुछो स्त्री कैसे रहती है? वो नीर भरी दुख... Read more

"बसंत"

"बसंत" किसने जादू फेरा यह धरती ने ली अंगड़ाई, हरित वसन नाना आभूषण अंगों में तरूणाई । मलय पवन के झोंकों से अलसी फल से आवाज, रू... Read more