Sumita Mundhra

Malegaon

Joined January 2017

मैं बड़ी लेखिका-कवियत्री नहीं हूँ । बचपन से ही शौक से लिखती हूँ । लंबे अंतराल के बाद हमसफ़र राज और पुत्र रिषभ के प्रेरित करने पर मेरी कलम फिर से शब्दों को पिरोने लगी है । मैं अपनी रचना “माँ की सीख-बेटी की टीस” अपने मम्मी-पापा को समर्पित करती हूं । विभिन्न पत्रिकाओं में लेख और कवितायें प्रकाशित होते हैं।
– सौ. सुमिता राजकुमार मूंधड़ा ।
sumitamundhra@gmail.com
“मेरी कलम से – मेरी कवितायें”

Copy link to share

माँ

माँ मेरे जीवन का हर पल माँ आपका कर्जदार है । खून की हर बूंद में आपका वात्सल्य प्यार है । जीवन और मृत्यु की डोर तो ईश्वर के हा... Read more

माँ की सीख - बेटी की टीस

सौ.सुमिता राजकुमार मूंधड़ा माँ की सीख - बेटी की टीस _____________________ कदम उठे गलत अगर मेरे, तो मैं सहम - सी जाती हूँ। मा... Read more