Sudhir srivastava

Gonda(U.P.)271002

Joined July 2020

संक्षिप्त परिचय
============
नाम-सुधीर कुमार श्रीवास्तव
(सुधीर श्रीवास्तव)
जन्मतिथि-01.07.1969
शिक्षा-स्नातक,आई.टी.आई.,पत्रकारिता प्रशिक्षण(पत्राचार)
पिता -स्व.श्री ज्ञानप्रकाश श्रीवास्तव
माता-स्व.विमला देवी
धर्मपत्नी,-अंजू श्रीवास्तवा
पुत्री-संस्कृति, गरिमा
साहित्यिक गतिविधियाँ-विभिन्न विधाओं की रचनाएं कहानियां,लघुकथाएं कविताएं लेख,परिचर्चा,पुस्तक समीक्षा आदि का 100 से अधिक स्थानीय से लेकर राष्ट्रीय स्तर की पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित।
दो दर्जन से अधिक संकलनों में रचनाओं का प्रकाशन।
ई-बुक काव्य संकलनों व पत्रिकाओं में
रचनाओं का प्रकाशन
सम्मान- एक दर्जन से अधिक सम्मान पत्र।
मो. &वाट्सएप-8115285921
•••••••••••••••••••••••••••••••••
Email-sudhirsri921@gmail.com
—————————————-
पैतृक निवास-ग्राम-बरसैनियां,पो.-दिनकरपुर,मनकापुर, जिला-गोण्डा(उ.प्र.)271302
———————————————-
वर्तमान निवास-मो.-शिवनगर, पोस्ट-इमिलिया गुरूदयाल, बड़गाँव, जिला-गोण्डा, उ.प्र.,271002
——————————————–
नोट-कुछ व्यक्तिगत कारणों से 17-18वषों से समस्त साहित्यिक गतिविधियों पर विराम रहा।कोरोना काल ने पुनः सृजनपथ पर आगे बढ़ने के लिए विवश किया या यूँ कहें कि मेरी सुसुप्तावस्था में पड़ी गतिविधियों को पल्लवित होने का मार्ग प्रशस्त किया है।

Copy link to share

वरना

वरना ★★★ अरे बेशर्मों, कुछ तो शरम करो कम से कम अपने अल्लाह से डरो। हमनें सबको साथ लेकर अपने प्रभु के मंदिर का रामभक्त से हर्... Read more

गज़ल/गीतिका

सब अपने ही भाई हैं ■◆■◆■◆■◆■ छोड़ो नफरत की बातें सब मिलने जुलने की बात करो, सच्चाई के पथ चलकर हम मंदिर निर्माण को निकले हैं। नफरत... Read more

नारी मन की पीड़ा

नारी मन की पीड़ा ★★★★★★★ कहा जाता है कि नारी के मनोभावों को जब भगवान नहीं समझ पाया तो इंसान क्या समझ सकेगा? आज ऐसे ही न... Read more

बहू बेटी

बहू बेटी ●●●●● माँ मैं नहीं करूँगी ब्याह न ससुराल जाऊँगी, अपने घर को छोड़कर मैं कहीं नहीं जाऊँगी। पापा का सिर कहीं झुका मैं ... Read more

मंदिर निर्माण

मंदिर निर्माण 🎪🎪🎪🎪🎪 मंदिर मस्जिद का लफड़ा खत्म हो गया बाधा मंदिर के निर्माण का मिट गया। अभी भी कुछ ऐसे दिखते लाचार हैं, आप... Read more

आमंत्रण

आमंत्रण ●◆◆◆◆● जिसकी उतकंठा लिये हम सब थे श्रीमान। आखिर अवसर आ गया, आपको भी है ज्ञान। आमंत्रण है आपका, सुनहु विप्र सुजान। जन... Read more

दिवास्वप्न

दिवास्वप्न ■■■■■■ कुछ कट्टरपंथी कठमुल्ले इन दिनों बड़े खुश हैं, भ्रम का शिकार हैं। कुत्तों के भौंकने से शेर नहीं डर जाता,... Read more

रामजी अवध पधारे हैं

रामजी अवध पधारे हैं ******************* झूमों नाँचो गाओ उल्लास मनाओ, अवध में फिर से श्रीराम पधारे हैं। खुशियों का उत्पात मचा ... Read more

टोटका

टोटका [][][][][] आज जब मानव चाँद पर पहुँच गया है,विज्ञान जीवन के हर क्षेत्र में दखल बना चुका है,आज विज्ञान और तकनीक के तालमेल न... Read more

रिश्ता

रिश्ता ●●●●● भाई बहन के संबंधों सा दूजा संबंध नहीं होता, इस रिश्ते की मर्यादा का कोई पारावार नहीं होता। इस रिश्ते को रा... Read more

आवारा

आवारा ®®®®®® इस भरी दुनिया में हर कोई आवारा है, बस!सबके अपने चोंचले हैं। कोई सुलझा हुआ आवारा तो कोई ऊलझा हुआ आवारा। आवारों... Read more

रक्षाबंधन

रक्षाबंधन ******* कच्चे धागों में बसा रक्षाबंधन त्यौहार, इन धागों में बसा भाई बहन का प्यार। परिभाषा इनके संबंधों की बड़ी अनमोल ... Read more

विशेष

विशेष °°°°°°° रामकाज का हो रहा अब तो श्री गणेश, योगी मोदी राज में नहीं बचे कुछ शेष। मथुरा काशी के लिए भरना है... Read more

बेशर्म कोरोना

बेशर्म कोरोना ************ यह कैसी माया है कोरोना की अजब छाया है, होली में डराया होली की खुशियां डस कर भी इसे नहीं चैन आया,... Read more

दो टूक

दो टूक ●●●●● मंदिर निर्माण के भूमि पूजन पर तरह तरह की बातों से अड़ंगेबाजी करनेवाले , सावधान हो जायें अच्छा होगा बिलों मे... Read more

मौत का खौफ

मौत का खौफ ◆◆◆◆◆◆◆ वो हमारी मौत का राज जानती है, लगता है जैसे वो मौत का यूँ ही सामान बाँटती है। पर हम भी कम नहीं हैं उसकी अ... Read more

उपहार

कहानी """""'''''''' उपहार ******** आज रक्षाबंधन का त्योहार था।मेरी कोई बहन तो ... Read more

लालच

लालच ***** कल तक मंदिर निर्माण की दुहाई देने वाले सत्ता के मोह में इतना नीचे गिर गये हैं, कि आज भूमि पूजन मोदी के करने पर... Read more

मेरा हीरा

मेरा हीरा ■■■■■ आज वर्षों बाद मेरी बेटी मुस्कराई थी।उसकी मुस्कराहट देख मैं अपना दर्द भूल गया। पिछले वर्ष से जबसे मैंनें ब... Read more

सहारा

सहारा ★★★★★ राम जन्म भूमि पर जब तक फैसला नहीं आया था, मंदिर विरोधियों का मन बहुत हर्षाया था। तब उनके व्यंग्य बाण खूब चलत... Read more

समय

समय ==== समय की भी अजीब माया है, कभी खुशियों की बारिश तो कभी दु:खों का साया है। समय की महिमा कभी समझ नहीं आती, ये जब तब ... Read more

माँ(2)

** माँ ** ∆∆∆∆∆ माँ तो सिर्फ़ माँ है। उसके सिवा दुनियाँ में दूजा कौन कहाँ है? हम समझें या न समझें माँ सब समझती है, अपने अ... Read more

डर

डर +++ जबसे भारत में राफेल क्या आया है, चीन को अक्साई चीन और पाकिस्तान को पी.ओ.के. जाने का डर सताया है। ✍सुधीर श... Read more

ताजा खबर

व्यंग्य ~~~ ताजा खबर ""''"""""""'''''''' 05 अगस्त20को मोदी जी राम जन्म भूमि मंदिर निर्माण के लिये भूमि पूजन करेंगे। सूत्रों के ... Read more

जलवा

जलवा ÷÷÷÷ राफेल का जलवा है पाकिस्तान और चीन हलुआ है। 👉सुधीर श्रीवास्तव Read more

जन्मदिन

जन्मदिन ππππππ ‌ कल मेरी बेटी का जन्मदिन है।इस बार बेटी की इच्छा थी कि कुछ अलग ढंग से जन्मदिन मनाया जाय।द... Read more

संदेश

सूर्य की पहली किरण के साथ सम्पूर्ण धरा पर उम्मीदों का नया सबेरा जन्म लेता है ,जो बिना किसी भेदभाव के हर प्राणी के लिए खुशियों, नये ल... Read more

दोस्ती

दोस्ती ||||||||| माँ -बेटी दोस्ती की एक मिसाल हैं, रिश्तों की मर्यादा का पूरा ख्याल है। माँ बेटी में अपना बचपन सहेजती है, ... Read more

शापित कौन?

शापित कौन? ======== 16 वर्षीय रघुवीर कमरे से निकल ही रहा था कि बरामदे से माँ बाबा की किसी बात पर हो रही बहस सुनकर उसके कदम ठिठक गय... Read more

तुलसीदास की महिमा

तुलसीदास की महिमा ~~~~~~~~~~~~ बाबा तुलसीदास ने जग को दिया उपहार, राम नाम से हो रहा सबका बेड़ा पार। राम नाम का सुमिरन प्य... Read more

मुक्तक

चीनियों का देखो बुरा हाल हो रहा, जबसे सुना भारत में रफाल आ रहा। पाकिस्तानियों से चीनी गुफ्तगू करें, अब क्या करें यार,हमारा काल आ ... Read more

कोरोना से लाभ

कोरोना के लाभ =====+==== काश!मुझे कोरोना हो जाये तो लाभों की झड़ी लग जाये। स्वास्थ्य विभाग के लोग खुद आकर अस्पताल ले जायेंगे मु... Read more

जय हनुमान

जय हनुमान ♀♀♀♀♀♀♀♀♀♀ भज ले राम नाम हनुमान, पीड़ा हरते वीर हनुमान। रूद्रांशावतार हैं जय हनुमान, जिन पर रीझत सकल जहान। भ... Read more

हाइकू

हाइकू(7) ====== चाल चरित्र बेमेल सा हो गया, विचार कर। ======= बेमानी रिश्ता कब तक निभेगा, दम तोड़ेगा। ======= रिश्तों का भा... Read more

हाइकू(6)

हाइकू(6) ~~~~~ मां बेटी का तो अटूट संबंध है, बिखरा कब? ~~~~~~~ बाप बेटे का अबूझ सा रिश्ता, समझा नहीं। ~~~~~~~ पत्नी क्या ... Read more

संबंध

संबंधों की परिभाषाओं के अब मोल नहीं होते, मीठे स्वरों की बोली में अब वो रसघोल नहीं होते। जाने कैसी हवा बह रही हर संबंध हुआ फीका, ... Read more

शुभकामनाएं

शुभकामनाएं ~~~~~~~ ÷÷÷÷÷÷÷÷÷ नमस्कार दोस्तों, सबसे पहले शुभकामनाओं की एक खेप स्वीकार कर लीजिए।ज्यादा उलझने की जरूरत नहीं है... Read more

मजबूरी

मजबूरी ===== थानेदार की बीबी हाँफते हुए थाने पहुंची और थानेदार से बोली- प्लीज!मेरी रिपोर्ट लिखिए मेरे साथ चलिये, उसने मेरे ... Read more

गांधी और वो

गांधी और वो """""""''"''"''''''''''' उसने गांधी जी के आदर्शों पर चलने का फैसला किया, अपने बच्चों को सत्य-अहिंसा और खुद को ... Read more

दरकते रिश्ते

आज रिश्तों की नींव पैसों की चमक से दरकती जा रही है।अब तो नौ माह कोख में रखने वाली मां भी अपनी औलाद को पैसों के हिसाब से ही अपनत्व द... Read more

हाइकू

हाइकू(5) ******** हर सौगात छोटा बड़ा तोहफा अजीज होता। ;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;;; मन का मैल बाहर आ जाता, रोकर देख। ;;;;;;;;;;;;;;... Read more

ईश्वर

ईश्वर ::::::: ईश्वर होने विश्वास है भी, शायद नहीं भी आपको भी है नहीं भी , हम सबको है और नहीं भी है , या किसी को भी नहीं है ... Read more

माँ(1)

विश्वास नहीं होता है ,चली गई यूं छोड़ हमें, सारी दुनियाँ दिखती है,पर तू ही दिखती नहीं हमें। अंर्तमन से चित्र एक पल ,धुंधला कभी नहीं... Read more

एक लड़की भीगी भागी सी

एक लड़की भीगी भागी सी """"""'''''''''''''''''''''''""""""""""""""""" घनघोर वारिश के बीच कच्चे जंगली रास्ते पर भीगता काँपता हुआ सचिन... Read more

हाइकू(4)

हाइकू ^^^^^^^^ सब बेहाल खुशियों का व्यापार, सुख हजार। """""""""""""" मंहगाई का जलवा फैल रहा है, सब्र कर ना। """"""""'""""" ... Read more

हाइकू

हाइकू(3) ----------- माँ की ममता धरोहर बना ले, खुश रहेगा। ********* कठिनाइयाँ जीवन का दर्शन, साथ रहेंगी। ********* जीवनपथ... Read more

हाइकू

हाइकू(2) -------- गरीब बस अजीब है दुनियाँ में, खुद से प्यार। ----------------- औलाद देता माता पिता को दुःख, रोता रहता। ----... Read more

हाइकू(1)

हाइकू ँँँँँँँँ कोरोना हल आपके हाथ में है, बस बचाव। :::::::::::::::: भूखा मरता गरीब रोता भी है, दुआ भी देता। :::::::::::::::... Read more

कब तक

कब तक ----///---- बहुत हो चुका खेल तमाशा, नहीं सुधरने की अब आशा। कब तक हम बर्दाश्त करें, ... Read more

समझ

मन मयूर सा डोल गया कलम बहुत कुछ बोल गया, समझ गये तो बड़े भाग्य है जो न समझा वो डोल* गया। *डोल-चले जाना, खिसक जाना Read more