sudha bhardwaj

देहरादून विकासनगर

Joined January 2017

नाम-सुधा भारद्वाज”निराकृति”
माता का नाम-श्रीमति कुसुम लता शर्मा
पिता का नाम-ड़ा०हर्षवर्धन शर्मा
पति का नाम-संजीव भारद्वाज
जन्मतिथि-१८-८-७२
जन्म स्थान-सहारनपुर
शिक्षा-एम.ए.समाज शास्त्र एंव शिक्षा शास्त्र
कार्यक्षेत्र-लेखन एंव शिक्षण
सामाजिक क्षेत्र-बेटियों को शिक्षित कर उन्हे अपने पैरो पर खड़े होने के लिए प्रेरित करना,मदद करना हिन्दी व गौ-सेवा प्रचार
विधा-कविता ,गज़ल,हाइकु,दोहा,अतुकान्त,लघुकथा,संस्मरण इत्यादि…
ई-मेल-94585087sudhabhrdwaj@gmail.com
ब्लाग-page सुधा भारद्वाज भाव अभिव्यक्ति
प्रकाशन- आधी आबादी का सम्पूर्ण राग साँझा संग्रह
स्थानीय व प्रांतीय पत्र-पत्रिकाओ में प्रकाशन
लेखन का उद्देश्य-प्रेरक विचारो को स्वयं तक न रख जन-जन तक पँहुचाने का अदना सा प्रयास

Copy link to share

हाइकु

मनभावन वर्षा का मौसम जिया हर्षाए सुधा भारद्वाज"निराकृति विकासनगर उ०ख० Read more

हम बेटियाँ

हम नन्ही-नन्ही सी कलिकाएं। हर बगिया को हम ही महकाएं। जहाँ रख दें कदम भये उजियारा। हर आँगन को हम ही चहकाएं। आज स्थिति कुछ संवरी... Read more

ऐहसास

ऐहसास ऐहसास मत पूछिए... उस वल्लरी का... उस बेल के बारे में ही... सुना है मैने किसी न किसी... को सहारा बना बढती है... वृक्ष स... Read more

हम

हम बहती मैं भी... लिए उमंगे... नित संग लाती... नव अभिलाषा.... नव सृजन... नव तरंग संग... नित भरती जीवन मे रंग... होते फलित... Read more

नन्हे कदम

जीर्ण शीर्ण सी स्मृतियों पर नन्हे कदमो की दस्तक। जय हो पूर्ण उद्बार हो उसका सदा ऊँचा करे जग में मस्तक। सुधा भारद्वाज विकासनगर उ... Read more

नन्हे कदम

जीर्ण शीर्ण सी स्मृतियों पर नन्हे कदमो की दस्तक। जय हो पूर्ण उद्बार हो उसका सदा ऊँचा करे जग में मस्तक। सुधा भारद्वाज विकासनगर उ... Read more

तेरे प्रथम चरण

तेरे प्रथम चरण की आहटे याद है मुझें। हृदय हरषाया बहुत जब मैने पाया तुझे। कृष्ण से घुंघरालें वो केश बिसरे नही मुझें। अंतस प्रसन्न ... Read more

नया साल

नया-साल कुछ इस तरह मनाया जाए। बे-सहारा को दे सहारा-सहारा बनाया जाए। गुलशन-ए-नग्मा सजाया जाए। कोई नग्मा-ए-वफा गाया जाए। शर्म ... Read more

माँ

माँ तेरी छवि तेरा स्वरूप। मैं ही हूँ तेरा अतिलघु रूप। मेरी हर अदा तुझसी तो है। चाहूं तुझे छाँव हो या धूप। सुधा भारद्वाज विकास... Read more

रिश्वत

रिश्वत (लघुकथा) (सात वर्षीय नॉटी मम्मा से) मम्मा आपको मेरा नाम नॉटी नही रखना चाहिए था। सारा दिन स्कूल में डांट खानी पड़ती है। ... Read more

ये सतरंग सलौने

ये रंग बिरंगें रंग सलौने बहुत से पाठ पढ़ा जाते। जीवन की कठिनाइयों से लड़ना कैसे सिखला जाते। जीवन सतरंगी बहु-मनरंगी ये मधुर ... Read more

रक्तदान

रक्तदान ****** बात बहुत सरल सी जानो। रक्त बिना ना जीवन मानो। रग-रग बहे जब रक्त धारा जीवन तब ही चले हमारा। यूं ... Read more

प्रतीक्षा

प्रतीक्षा ******* दीर्घ अतिदीर्घ हो चला वक्त तेरी राह तकते -तकते। उम्मीद थी लौटेगा का तू मेरे बाल पकते -पकते। ये उदित किरण। ... Read more

उलझन

उलझन उलझनों के झुर्मुटो का शहर सी यें जिन्दगी। जुग्नुओ से क्षण खुशी के दर्शाती सी यें जिन्दगी। सुखद क्षणो मे गाती गुनगुनाती स... Read more

इन्द्रधनुष

इन्द्रधनुष सप्त-रंगो के ओज ने प्रभावित तो किया। जीत नही पाये उसका नन्हा सा जिया। चाह थी मन को जिस रंग की ज्यो की त्यो... Read more

हादसा

हादसा ****** एक खबर से जिन्दगी पलटवार खाती है। जो हादसा बन दिल के टुकड़े कर ही जाती है। सीधी सी जीवन धारा को पलटा के जाती है... Read more

परछाई

परछाईं ******* परछाई बन मेरे हमसफर संग साथ ही में रहा करो। कभी जो भटकूँ राह कही मुझे राह पे तुम किया करो। परछाई बन मेरे.... क... Read more

मुझे बचाओ

मुझे बचाओं *********** क्यों भूल गया तू हें मानव ? मैं प्रिय धरती माता हूँ तेरी। आज है मेंरी कोख उजडती। कहाँ सो गयी वो प्रीत ... Read more

लगता है सब ग़मो....

ग़ज़ल लगता है सब ग़मो कि यूंही शाम हो गईं। हमें सता उम्र इनकी यूंही तमाम हो गईं। जिन सुनहरे पलो का इन्तज़ार था हमें। अपनी वो... Read more

मुक्तक (आज फिर...)

मुक्तक आज एक बार फिर से हुई ऑखें नम है। हम कैसे कहे क्या बताएँ हमे क्या ग़म है। यूँ देख देश के शेरो को होते न्यौछावर। करें हम ... Read more

चलो आज चाल...(ग़ज़ल)

ग़ज़ल चलो आज चाल तुम्हारी ही चल के देखते है। तुम्हारी तरह तुम्हे तुमसे यूंही छल के देखते है। बहुत भरोसा किया तुम पर जान -ए-जा... Read more

पुराने शहरो के....

फिलबदीह से हासिल ग़ज़ल पुराने शहरो के मंजर निकलने लगते है। फूल भी ज़मीन-ए-बंजर निकलने लगते है। हवा से सीखा है इक नया हुनर हमन... Read more

दोहे (सूरज से......

दिनांक-१६/४/२०१७ दोहा छन्द सूरज से जिवन खिलै-मिलै असिम प्रकाश। बिन प्रकाश नित बढ़ै कीट-करै वस्तु का नाश। बिन तुम भगवन है व... Read more

होगी रहमत कभी.....(ग़ज़ल)

रदीफ-आते काफिया-रहो ग़ज़ल होगी रहमत कभी तो अर्जियां लगातें रहो। रात-दिन में खुशी-ग़म में तवज्ज़ो पाते रहो। बग़ैर उसकी रज़... Read more

ग़ज़ल (जिन्दग़ी भी खूब है......)

रदीफ़-आरो काफिया-की तरह जिन्दग़ी भी खूब है खिलें ग़ुलजारो की तरह। छूट रहे हाथ सें पल टूटे से तारों की तरह। खामोशी साधे था जो... Read more

महारथी धनुर्धरा

महारथी धनुर्धरा ************* नन्ही कली जब-जब चली। रख पॉव हस्त कर तर्जनी। तेरा हर इशारा पढ़ सकूं। पग-पग सहारा बन सकूं। न आने... Read more

हमराही

हमराही मैं तेरी तू मेरा जीवन भर का संग है। तू मेरी मैं तेरी पत राखूं ली सौं हमने संग है। दुर्लभ -कठिन बहुत जीवन पथ पर तुम ... Read more

आत्मा

आत्मा अपनी आत्मा या रूह को हम उस वक्त अपने पास महसूस कर सकते है। जब हम कोई...... अनचाहा कर्म करने को लालायित रहते है। हम उ... Read more

होली

होली रास रंग का पर्व है आया। आओ मिल-जुल खेले होली। स्वागत करती आप सभी का। अपनी रंग-बिरंगी टोली। छोड़ेंगे हम एक दूजे पर। हास ... Read more

सबला

सबला कौन कहता है नारी अबला। पल-भर में टाले यें हर बला। कैसी भी हो पथ में बाधा। त्यागे न यें अपनी मर्यादा। नारी स... Read more

फागुन

विषय-फागुन तिथि-९-३-२०१७ सखी ! फागुन मास है आयो री। संग मधुर सरस बरसायो री। समा भयो बड़ा मनभावन री। चहु ओर है सरसों छाय रही। ... Read more

ग़ज़ल (लाइफ से क्वीट)

ग़ज़ल लाइफ से क्वीट भी किया जा सकता है। पर अब यह मेरे लिए आसान है न सस्ता है। दर्द होकर शुरु टॉप से ... Read more

ग़ज़ल (चल रही.....

ग़ज़ल चल रही फिर से सुरभित। वही चंचल पवन सुहानी है जिसकी तारीफो को रहती। हर कवि की कलम दिवानी है। मधुमास हर फूल हर कोंपल ... Read more

ग़ज़ल (सिंधड़ी सी ....

ग़ज़ल सिंधड़ी सी यादें धुँधला सा आइना। लौं अब भी दरमियां अपने मगर है। श़िकन नही ज़रा है ज़ख्म़ी जिगर में। छिड़कता नमक हर बश़... Read more

मुक्तक

मुक्तक जिएं साथ जीवन एक सादा करते है हम आज यें वादा। एक हो हम दोनो का सपना। प्रभु ! पूरा करे यें नेक इरादा। सुधा भारद्वाज ... Read more

अभिलाषा

यह उस बेटी की अभिलाषा है जो अभी अजन्मा है माँ की कोख़ मे ही है परन्तु उसे भय है कि कही माँ उसे जन्म ही न दें।वह अपनी माँ को मनाने क... Read more

जय भोलेनाथ

जय भोलेनाथ --------------------- निशदिन मन लागे तुझ शरणम्। तुझ दर्शन बिन रहे व्याकुल मेरा मन। मै भटक ना जाऊं कही किसी कदम। बन... Read more

पथ/राह

पथ/राह पवन बुहारे पथ तेरा तू चल चला चल। मान ले सुरभित बगिया जीवन तू चल चला चल। वृक्ष घनेरे बांह पसारे है त... Read more

गुज़र गया वक्त (ग़ज़ल)

ग़ज़ल गुजर गया वक्त यूंही याद में रोते रोते। थी आरज़ू खुशी की ग़म में खोते-खोते। बेश़क ! मुहब्बत है इम्तिहान लेती। बहुत कम ब... Read more

हम फ़ना हो गये....

ग़ज़ल हम फ़ना हो गयें देखते देखते। कट गई उम्र यूंही देखते देखते। हसरत तो थी सुधरे हालात। बद से बदतर हुए देखते देखते। दिल ... Read more

सरिता

सरिता हिम शिखर से निकल राह मेरी बड़ी कठिन विकल चलूं मै इठलाती इतराती सी परवाह नही मुझे कभी राह की हो मैंदान या गहरी खाई चलूं... Read more

तर्जनी (ग़ज़ल )गीतिका

तर्जनी मेरी तर्जनी ने जिन्दगी की तर्ज़ सी बिगाड़ दी। हर कार्य में वो साथ थी मेरे तंग समय की आड़ थी। करने को मैं जो कुछ भी चलूं ... Read more

ज़िन्दगी दर्द की....(ग़ज़ल)

ग़ज़ल ---------- ज़िन्दगी दर्द की कहानी है। यें दुनिया यही रह जानी है। देके हमे कर्ज़ अपने यहाँ। करनी उस और ही रव़ानी है। ... Read more

ज़िन्दगी दर्द की....(ग़ज़ल)

ग़ज़ल ---------- ज़िन्दगी दर्द की कहानी है। यें दुनिया यही रह जानी है। देके हमे कर्ज़ अपने यहाँ। करनी उस और ही रव़ानी है। ... Read more

सीख

सीख: झुकी फलो की डाली ने सिखाया। तुझमे इतना गुरूर कहाँ से आया। बना खुद को शालीन- प्रवीण।। जिससे होगा तू विकसित सर्वांगीण। गुणों... Read more

अहंकार

अहंकार ------------- अहम का विकार जब जब किसी में आ गया। न चाहते हुए भी उसको अहंकारी कहा गया। अहम के सीमित मात्र को स्वाभिमानी... Read more

अहंकार

अहंकार ------------- अहम का विकार जब जब किसी में आ गया। न चाहते हुए भी उसको अहंकारी कहा गया। अहम के सीमित मात्र को स्वाभिमानी... Read more

दूरियां (मुक्तक)

मुक्तक तुमसे मिले बिना यें मेरी जिन्दगी अधूरी है। मिल नही सकते हम-तुम यें कैसी मजबूरी है। सिन्दूरी यें सांझ पिया आ देखो! दि... Read more

अब तो मज़हब (ग़ज़ल)

ग़ज़ल अब तो मज़हब कोई ऐसा भी चलाया जाए। जिसको हर इंसान द्वारा मन से फैलाया जाए। होंगी फिर इस मुल्क़ में भी कुछ नयीं तारीखें। ... Read more

प्यारी बहना (लघुकथा)

प्यारी बहना(लघुकथा) क्या हुआ बाबू रो क्यो रही है ? अब तेरी माँ-बाबा मैं ही हूँ। कोई नही आयेगा तेरे रोने से पगली ! भूख लगी थी तो ब... Read more