Sonu sugandh

Surat, Gujarat

Joined January 2019

Spending a quality time with my love one and my princess.

बेवजह की गुफ्तगूं भी नजदीकियां बढाती है।

मेरा चित्रण हिन्दी के वर्णन जैसा है
सीधा,सहज, सरल, मधुर और
सब को प्रिय ।

Copy link to share

तेरा ख्याल

अक्सर जब भी मन मे ये ख्याल आता है तो दिल मे ये सवाल आता है तुम न होते तो मेरा क्या होता । ये एहसास, ये जज्बात न होते... Read more

कृष्ण तृष्णा

कृष्णा कृष्णा कृष्णा कब मिटायेगा तेरे दर्शन की तृष्णा ये कैसा मिथ्याभिमान हे मुझको तु है मेरा बता दिया सारे जगत को कब इस अभिमान ... Read more

बरस जा ऐ सावन

बरस जा ऐ सावन क्यों हे गरज रहा मैं भी भीगने को तुझ मे तरस रहा। तरस रहे कलरव करते वो पंछी एक बुंद तेरी जिनकी प्यास हे सुखी पड... Read more

Kanha prem

सुन ओ साँवरे, राधा संग ईशक रचाया रुकमणी संग व्याह मेँ राह तेरी देख रही लेके मेरा प्यार मीरा संग प्रित निभाई गोपीयों संग क्र... Read more

ओ मेरे मन धीर धर

ओ मन मेरे धीर धर खुद को यूह न व्याकुल कर भटकती चंचल आदत तेरी मैं डाल डाल तु पात पात लालच को दिल मे पाल पाल ओ मन मेरे तु धीर धर ... Read more

बेटी सौभाग्य

तेरे नन्हे कदम जब मेरे जीवन मे आ गये खुशीयाँ तमाम जहां की संग मेरे ला गये मासुम सी हरकत मे तेरी मेरी बरकत होती है नटखट सी हसीं ... Read more

सुख की खोज

ऐ "सुख" तू कहाँ मिलता है क्या तेरा कोई पक्का पता है क्यों बन बैठा है अन्जाना आखिर क्या है तेरा ... Read more

संमदर और मैं

देख रहा हूँ तुझको दूर तलक फैला हुआ हे तू क्या इंसान की पहूंच से भी आगे हे तू? सोच रहा हूँ कितना गहरा हे तू क्या इंसान के मन से... Read more

शायरी

तु ही जिंद मेरी ,तु ही मेरी जान है। सिने वीच धडकती मेरी साँस है। तु ही ऐतबार मेरा , तु ही मेरा प्यार है। सारे जग वीच तु ही मेरा... Read more

सुनो जिन्दगी

सुनो जिन्दगी क्या खता है के तु खुश नहीं मुझसे क्या वजह है के खुशी दुर तलक साथ नही मेरे मैं जिया तेरे रंग मे हूँ मैं जिया तेरे ... Read more

पुलवामा काला दिवस

देश के सारे जवानों से यहीं पुकार कर दो आतकंवाद को साफ मत रुको सुनकर इन नेताओं की बात इनको को बस कुर्सी से हे प्यार। नहीं हे इनम... Read more

शायरी

कुछ पन्ने यादों के आज पलट कर देखे , तुम्हारा नाम अक्सर ब्लेक लिस्ट मे हुआ करता था। 🙂🙂 सौनु सुगंध Read more

बेटी

एक रंग तेरा भी एक रंग मेरा भी नहीं भेद इतना अंग मे जितना भेद हे जीवन मे जिस कोख से तु जना उसी से मैं जनी फिर क्यों नहीं दिखी ... Read more

शायरी

दिल कि कलम से लिखा खुदा को ये फरमान है, तुम सा दोस्त हर जन्म रहे यह मेरा अरमान है। सोनु सुगंध १७/०१/२०१९ Read more

शायरी

गुजारिश की फरमाइश जब भी खुदा से होगी हर जन्म बस तुझे पाने की ख्वाहिश होगी। सोनु सुगंध,,,.१३/०१/२०१९ Read more

भारत कितना महान हो गया

तेरा भारत देख कितना महान हो गया हर सख्स यहां का विद्वान हो गया। इनको इतना ज्ञान हो गया के मेरा हनुमान मुसलमान हो गया। देख भार... Read more

शायरी

मुझे इतनी फुरसत कहां के मैं अपनी हाथ कि लकिरो को पढ सकु। मैरे घर बेटियां है मैरी तो किस्मत ही बुलंदि पर है । सोनु सुगंध २०/०७... Read more

शायरी

मैं नादान उम्मीदें अपनी तट की रेत पर लिखता रहा,😥 लहरें आती गयीं आशाऐं मिटती रही।😥😥 ----सोनु -- २३/११/२०१८ Read more

शायरी

किस्मत और नसीब कभी हाथ की लकीरों मे नहीं होते , जिनके घर बेटी होती हे उनके ख्बाब कभी अधुरे नहीं होते। --सोनु सुगंध १२/१२/२०१८ Read more

शायरी

इश्क का अरमान लिखने बैठे के कागजों के ठेर लग गये, जज्बात मेरे खत्म ही न हुये, और पैगाम उन्हे बहुत मिल गये। -- सोनु सुगंध-- २८... Read more

शायरी

खांमखा बातों का होना भी जरूरी हे , आजकल बात करने की फुरसत कहाँ निकलती है। ---सोनु सुगंध-- २५/12/२०१८ Read more

शायरी

मीत (मित्र) मिले जब मन मिले, बिन मन मीत कहा से होय.... मीत (मित्र) मिले जब मन मिले, बिन मन मीत कहा से होय.... मन तब मिले, जब... Read more

शायरी

ये खिली जुल्फों मे मुस्कुराती आंखें कहीं गवाह न बन जाये निगाहों से कत्ल होने का। सोनु सुगंध☺ ०९/०७/२०१८ Read more

शायरी

तुमने भी औरोँ कि तरह मुझसे किनारा कर लिया माना कि दुनिया से हम बुरे हैं, पर तुमसे तो कभी न हुए थे। ,,,सोनु सुगंध,,, २९/०७/२०१८ Read more

शायरी

इशक का रंग तो साफ है जित देखो तित लाल है ये फबे इश्क पर तो सुहाग है न फबे तो रक्त की धार है। ------सोनु सुगंध-- ११/०८/२०१८ Read more

शायरी

सोचता हू मुझे ही क्यों जरूरत जिन्दगी के हर इम्तिहान कि आखिर मैं भी तो एक इंसान हूँ। हूनर नही मुझ मे इतना के तेरा लिखा पलट सकु, ... Read more

शायरी

अन-बन जन जठ देखू बन तू ही तू ही ह कन्न।😍😘 --सोनु सुगंध-- ०८/०९/२०१८ Read more

कविता

इंतजार मे आँखें तरस रही दिदार एकपल का ही करा दे। बैचेन लब कुछ कह कर रहे है जरा ध्यान इधर लगा ले सज सँवर कर तेरी राह जोट रही तन्ह... Read more

शायरी

गर गुमसुदा हुआ जमाने से कभी तलाश मेरी पहले तेरी निगाहों से होगी। ---सोनु सुगंध -- १८/०९/२०१८ Read more

शायरी

जो. लब्ज होठों पर रह गये वो जज्बात किताबों मे कह गये। --सोनु सुगंध--१८/०९/२०१८ Read more

बेटी

है तो मेरी रानी बनती बडी सयानी हर बात कि जिद्द मुझसे मनवाती। बिना जिद्द के भी कभी मान जाती। अपनी मिठी मिठी बातो से मुझे रिझाती, ... Read more

शायरी

शब्दों के शेर नेनौं मे ढेर हो गये, चहरे के नुर से हम चूर चूर हो गये, गवारा न था दिल का टुट जाना , शूक्र है हम दोस्त रह गये।। ... Read more

शायरी

दो पल का सुकून भी कभी एसा होता है उस्से बात न हो पर उसकी बात से होता है। ----सोनु---१५/१०/२०१८ Read more

शायरी

एक दिल ही तो है जो हजारों ख्वाहिशों के नीचे दबकर भी धडकता है बस अपनो की खुशी के लिए। ------सोनु सुगंध--- २३/१०/२०१८ Read more

शायरी

मैं तो शब्दों से अपनी भावनाओं को व्यक्त कर देता हू जरा सोचो आइने पर क्या गुजरती होगी। ----सोनु सुगंध--- २४/१०/२०१८ Read more

शायरी

तेरा यु तस्वीर मे होना हमें गवारा नहीं ------हमारे सामने हो ऐसा नसीब हमारा नहीं। सोनु सुगंध २४/१०/२०१८ Read more

कविता

बस दो पल कि खुशी जरूरत मे साथ समझने का एहसास बातों कि मिठास मुस्कूराहट से जवाब दिल से प्यार और अपनी सोच मे सम्मान बस इतना ही... Read more

कविता

इंसानियत अपनी खोता जा रहा है रिश्ते निभाना न पडे इसलिए अपनो से दुर होता जा रहा। जमीर और जज्बात उसके मरते जा रहे है सुबह की ताजा ख... Read more

शायरी

गर हसरतों का हो जाना होता मुकम्मल मेरे, ख्वाबों का टूट जाना मुकम्मल न होता। सोनु!!!! २६/११/२०१८ Read more

शायरी

मिजाज ऐ इशक ही बदलने लग जाये तो इश्क इबादत न होती, सच्चे आशीको को सहादत न होती। यूहीं नहीं हीर रांझा के नाम हूए, लैला मजनु क... Read more

शायरी

जे मन पडया प्रेम मै ते मन खुद का न होय जात पात सब धरे रहे भीतर प्रेम जो समाय । सोनु!!! २७/११/२०१८ Read more

शायरी

काश फिर मिलने की वजह.मिल जाये, साथ बिते पल मिल जाये, चल अपनी आँखों को बंद.कर ले , ख्वाबों मे क्या पता बिता हुआ कल मिल जाये। ... Read more

शायरी

ढाई अक्षर प्रेम का मैं तो पढया न कोई, जो पढया प्रेम नु बस ये तो नैनन से हो।🙂🙃 सोनु सुगंध १/१२/२०१८ Read more

काश

काश मैं बह सकता, बह जाता इन लहराती जुल्फों मे। गर मुझे मदहोश होना होता, हो जाता गुम तेरी मदमस्त आँखों मे। जै मैं खुश होता ,... Read more

शायरी

हम तो बिकने आये ही है अल्फाजों के बाजार मे कोई ऐसा मिला ही नहीं के खुद को उसे सोंप सके। सोनु सुगंध १४/१२/२०१८ Read more

शायरी

कोई बातों बातों मे खास हो जाता है तो कोई मुलाकातों मे भी खास नहीं होता। एहसास जिस रिश्तों मे हो , वहाँ कोई राज नहीं होता। दुर ह... Read more

शायरी

नजरें जमाये बैढे थे उसके इंतजार मे, वो आये और कसुर लगा दिया पहले क्यों आये। सोनु सुगंध १६/१२/२०१८ Read more

शायरी

बदनाम भले हम हो गये तो क्या उसको तो मशहूर होना था उस्से ईश्क करने का गुनाह तो हमने किया था, उसे तो बेकसूर होना ही था।🙂🙃🙃 सोनु ... Read more

कविता

ये ठंडी ठंडी रात सुनी सुनी सी , है तो खामोश ,लेकिन बहुत कुछ कह रही। पास तु नहीं फिर भी साथ है इस कदर जैसे चांद की रोशनी उसके साथ... Read more

शायरी

इश्क का अरमान लिखने बैठे के कागजों के ठेर लग गये, जज्बात मेरे खत्म ही न हुये, और पैगाम उन्हे बहुत मिल गये। सोनु सुगंध ०४/०१/२०१९ Read more