kislaya pancholi

Joined January 2017

Copy link to share

सुनो बेटियों

सुनो बेटियों अब ‘समय’ समझदार हो गया है, देखो तुम्हारे साथ खड़ा है. ‘समझ’ सामयिक हो गयी है तभी तुम्हारे समीप आ चुकी है. ‘... Read more