Snigdha Rudra

Joined November 2018

Copy link to share

माँ ( कविता )

कंण्ठ स्वर का प्रथम आगाज़ जिसके गर्भ मे पाया मैंनें खुद का अस्त्तिव जिसके स्वास से धड़कनों को मिली गति हाँ वही हैं माँ....... Read more