Smriti Singh

Lucknow

Joined July 2020

मैं इंजीनियरिंग की छात्रा हूं| मुझे कविता, कहानी लिखना -पढ़ना दोनों पसंद है | मै लखनऊ से हूँ |
Email -smriti.slko@gmail.com

Copy link to share

औकात

तनिक भी नहीं है रूआब जाने कैसा है ये गुलाब, इठलाते हैं, वो अपने 'शक्ल- ओ -नाम' पर जिसने बनाई नहीं, ढेला भर भी औकात तुम इन... Read more

है कौन

सरकार तो बढ़ी, सयानी हुक्मरान की चल रही, लन्तरानी अब झण्ड नहीं, जिंदगानी सबका बन्टाधार हुआ है, जवान-जहीर हूं, पर ढ़ो रहा हूँ,... Read more

मै भी हूँ

कोई झकझोरो, हिलाओं-डुलाओ, अटक गया है कैमरा, कोई हमें भी दिखाओ माना मै इश्तहार नहीं ,स्टार नहीं बेरोजगार हूं ,बेकार नहीं बेब... Read more

सहज हूँ

मैं सहज हूँ, हर बात में सहज हूँ नोच लो, खरोच लो, चीर दो घसीट लो, दबोच लो, ढकेल दो या उठाने फेंक दो, वासना की हद तक, तुम मे... Read more

बेढ़प

किनारे रख ,समझदारी कुछ अन्ट-सन्ट सा लिखते हैं भाड़ में जाये दुनिया -दारी चलो कुछ अगड़म-बगड़म सा करते हैं फरमानों की तौहीन और ... Read more

अवैध

अवैध हूँ, बहिष्कृत, तिरस्कृत, नाम, उपनाम विहिन संसार का कर्क रोग हूँ| अबोध-सा, पर मै अवैध हूँ, न मैने चुना, न मैने कहा, फ... Read more

"प्रेमचन्द" कथा सम्राट

बीस वर्ष की दरिद्रता की कहन, शर्म भी न कर सकूँ, मैं वहन घीसू, माधव तृप्त हुए, खा कर, बुधिया का 'कफ़न' सद्गति ने दिखलाया है, ... Read more

दो दिन की छुट्टी

मुँह फाड़ कर बैठी महामारी तलवार बनाऊँ द्विधारी बकरा चिल्लाये अल्लाह -राम, और वो चिल्लाये राम-राम, हमको प्यारी कुर्बानी, मैं... Read more

# हैशटैग

मेरे कर्म में औकात कहाँ, जो मुझे बयां कर सके मेरा वो चोंगा लाओ, जो मुझे दिखा सके आखिर हूं, कौन? वो बता सके हैशटैग की स्पर्ध... Read more

अहम का वहम

मैं ही मैं हूँ शून्य भी मै, अनन्त भी मैं मेरे लिए ही सब कुछ है बस मै ही सजीव -सा बाकी सब निर्जीव-सा मैं ही भूमण्डल का अधिकारी... Read more

झुनझुना

झुनझुना सा लोकतंत्र जितनी मर्जी, जैसी मर्जी वैसे ठोक कर बजाओ यह सामूहिक हास्य है, हंसता भी मै , हंसा भी मुझ पर जा रहा है, ... Read more

अचेतना से चेतना तक

हृदय के निलय- आलिंद को मंद पड़ने न दो चिंघाड़ती, दहाड़ती आवाज न सही पर बोलती हुई जिह्वा को रुकने न दो मार्मिक दृश्य हैं, दशा दुर्... Read more

शरीफों का मुहल्ला

ये शरीफों का मुहल्ला है, सिसकियां तेज हो तो कानों में रूई भर लो दखल न दो, वो पति-पत्नी का मामला है ये शरीफों का मुहल्ला है,... Read more

पड़ा हुआ हूँ

छित्त -विछित्त मैं पड़ा हुआ हूँ अपने घर से लाओ चाकू थाली चीर -चीर ले जाओ, चमड़ी मांस नहीं है, इसमें लात मारकर जाओ न महक रहा र... Read more

सर्वस मैं ही

जन्म से मरण तक आरम्भ से अन्त तक मैं निमित्त मात्र हूँ कलंक हूं गर्व हूं सरल हूं प्रचण्ड हूं अणु हूं विकराल हूं तुम्हारे ... Read more

दंगाई कपड़ा

हुकूमत फरमान सुनाती, दंगाई कपड़े से पहचाने जायेगें | कपड़ा परेशान है बैठा यार, न मेरा कोई धर्म, न मेरी कोई जाति, बस, कुछ है मेर... Read more