Jyoti Sinha

Joined November 2018

Copy link to share

माँ

माँ काश मैं भी माँ पर एक ,स्नेहिल कविता लिख पाऊं शब्दों के बौने अम्बर पे ,कैसे असीमता भर पाऊँ ? भाषा के सीमित कैनवास पे तस्वी... Read more