मां के लाल

स्वाभिमान पर बात जो लाए , बात यहां पर बढ़ गई . स्वर्ण पर जो घात लगाए , आंखों में वह गढ़ गई . शब्दों से जो घात किया , यह बात तो दिल... Read more

यहां हर चीज शाही है , मगर ना पेट भर पाए

सजाएं ख्वाब थे उन ने , वो मुझको भी बहुत भाए . लिखी बस वेदना मैंने , जो गम मैंने यहां पाए . मैं तो आजाद पंछी था , जो बस आंगन मैं था... Read more

ख्वाब

ना शक का शौक था मुझको , न किस्मत को मैं पढ़ पाया. ना हक था प्यार का मुझको , न जिद पर मैं यूं अड़ पाया . मेरा तो ख्वाब था बस यह , क... Read more

पिता

जो पूछा किसीने तेरा *नाम* क्या, मैंने अपने पिता का *दम़* कह दिया। जो पूछा हैं *कैसे* तेरे पिता, मैंने घावों की उनको *मरहम़* ... Read more

नारी

लगाया जो कलम पर जोर, तो कलम भी टूट जाएगी। बयां कर दूं गुनाह तेरे, इंसानियत रूठ जाएगी।। बलात्कार होते रहे यूं ही, एक दिन धरती फट ज... Read more

मैं पृथ्वी का दिल हूं क्या यही मेरी आजादी है

मैं पृथ्वी का दिल हूं , क्या यही मेरी आजादी है . अब ना कोई सोन चिरैया , अब तो सब बर्बाद ही है . मैं पृथ्वी का दिल हूं .... कोई भ... Read more