प्रवक्ता हिंदी

Books:
काव्य-संग्रह–“आइना”,”अहसास और ज़िंदगी”
“काव्य-अमृत”,”भारत के श्रेष्ठ युवा कवि और कवयित्रियाँ”साँझा काव्य संकलन(जे.एम.डी.प्रकाशन)

Awards:
“काव्य-अमृत”,”श्रेष्ठ शब्द शिल्पी”,”काव्य श्री”एवं “साहित्यापीडिया-काव्य” सम्मान

Copy link to share

ख़ुशियों की एक मंडी

ख़ुशियों की एक मंडी -------------------------- दुलहंडी शुभ पर्व पर,ठाने सब ये बात। मन-अँधेरा दूर कर,देखें नवल प्रभात।। देखें नवल ... Read more

कुंडलिया-कैसे जीवन हो ख़ुशहाल

सदा कार्य की दाद दो,जलन करो ना भूल। फूलों बदले फूल हैं,शूलों बदले शूल।। शूलों बदले शूल, रखो याद ये हमेशा। जीवन हो ख़ुशहाल, रहे न... Read more

सुसफल जयंती गाँधी एवं प्रेम सदा आनंद

सुसफल जयंती गाँधी(कुंडलिया छंद) ---------------------------------------------- गाँधी जी की याद में,चला स्वच्छ अभियान। आस-पास सब स... Read more

रहे ना मन फिर प्यासा(कुंडलिया छंद)

प्यासा मन यश का हुआ,नोटंकी की टेक। फ़ोटो का बस शौक़ है,काम बने ना एक।। काम बने ना एक,चलन हुआ अरे कैसा। नारे भाषण ख़ूब,करे नहीं कहे... Read more

रहे ना मन फिर प्यासा(कुंडलिया छंद)

प्यासा मन यश का हुआ,नोटंकी की टेक। फ़ोटो का बस शौक़ है,काम बने ना एक।। काम बने ना एक,चलन हुआ अरे कैसा। नारे भाषण ख़ूब,करे नहीं कहे... Read more

धोखा देना छोड़िए

"धोखा देना छोड़िए" ------------------------कुंडलिया छंद धोखा देना छोड़िए,होती खुद की हार। हांडी चढ़ती काट की,सिर्फ़ एक ही बार।। सिर्... Read more

"मरना-जीना सत्य है"

मरना जीना सत्य है ------------------------ मरना जीना सत्य है,होता है जग झूठ। अपनी करनी भूल के,जाना कभी न रूठ।। जाना कभी न रूठ,जग... Read more

ख़ूबसूरत रहता समय

#ख़ूबसूरत रहता समय -----------------------------👌 समय चक्र है घूमता,ले अपनी रफ़तार। चलिए इसके साथ जी,मिटता जीवन भार।। मिटता जीवन भ... Read more

गलतफहमियाँ छोड़

गलतफहमियाँ छोड़ ------------------------- सोचे है हर फूल ये,मुझसे महके बाग। बड़े ग़लत हैं भाव जी,अहं लगी ये आग।। अहं लगी ये आग,आए ग... Read more

राजनीति का दाँव

राजनीति का दाँव ////————//// गिरगिट बनता बात से,जिसमें रखके पाँव। ऐसा धंधा एक है,राजनीति का दाँव।। राजनीति का दाँव,सच की नहीं जी... Read more

व्यक्ति से बड़ा देश है

व्यक्ति से बड़ा देश है ////----------------//// जानो सारे बात यह,बड़ा व्यक्ति से देश। अहं भाव को छोड़ दो,यही सर्व आदेश।। यही सर्... Read more

मतलबी हर रिश्ता

"मतलबी हर रिश्ता" ////-------------//// अपना होकर गैर है, कैसा वो इंसान। जलता सदैव जीत से, हार खुदी की मान।। हार खुदी की म... Read more

चाँद मामा हैं प्यारे

चाँद मामा हैं प्यारे ////-------------//// प्यारे मामा चाँद तुम,आओ घर तुम आज। आँगन में तुम बैठ के,करो खुदी पर नाज़।। करो खुदी पर ... Read more

साँप-सा मारे झूठा

साँप-सा मारे झूठा ////-------------//// झूठा सबसे ऊँच है,ख़तरा सुनलो एक। मानो खजूर पेड़ हो,गिरके बदले टेक।। गिरके बदले टेक,रामा बच... Read more

करो तुम ऐसी दोस्ती

करो तुम ऐसी दोस्ती ////---------------//// दोस्ती करके रात की,सुबह गया वो रूठ। लम्हा-लम्हा प्यार था,उसका सफ़ेद झूठ।। उसका सफ़ेद झू... Read more

तू रूठे न बस हमसे

तू रूठे न बस हमसे ////--------------//// हमसे जाके दूर तू,भूल न जाना यार। ज़रूर करना फ़ोन तू,रोज एक दो बार।। रोज एक दो बार,प्यार र... Read more

--बात--

बात /---------------------------------/ वह भी कैसी बात है,लिए नहीं जो बात। बात सदा हो बात सी,रोशन करती रात।। रोशन... Read more

--धागा प्यार का--

धागा प्यारा ख़ूब जो, टूटे कभी न यार। चाह दिलों की वाह जी, होता सच्चा प्यार।। होता सच्चा प्यार, समझौता किसलिए हो। अगर होता है ... Read more

--गिरगिट-से पल--

पल में बदलें दौर है, करना गुमान छोड़। सबसे बढ़कर प्यार है, रिश्ते-नाते जोड़।। रिश्ते-नाते जोड़, वक़्त के साथ चलता रह। सच से मुँह... Read more

--मिलती जब दिल से दुवा--

दुवा-दुवा के साथ है, साथी बदले साथ। प्यार-प्यार के साथ है, हाथ-हाथ के साथ।। हाथ-हाथ के साथ, जोड़िए मन से मन को। हँस हँसाकर सद... Read more

--तनाव-हल--

मिलते खुद से यार ना, तनाव करता मार। कस्तूरी की चाह में, हिरण दौड़ है हार।। हिरण दौड़ है हार, आनंद मिले कहीं ना। माया का ठगा जो... Read more

हास्य कविता--

समझाती हूँ देव पति, समझो जीवन सार। पहले गूँथों चून जी, रोटी हों तैयार।। रोटी हों तैयार, खाइएगा डकार कर। बर्तन फिर माँजना, र... Read more

--मौसम बदलने को है--

मौसम बदला आज है, संभल रहिए यार। जीवन खतरा भूल से, करिए सोच विचार।। करिए सोच विचार, अनहोनी न हो जाए। जीवन है अनमोल ये, विपदा... Read more

--पर निंदा ज़हर है--

गुड़ से मीठा खास रस, पर की निंदा यार। मज़ा बहुत है डाल के, क़दमों नीचे ख़ार।। क़दमों नीचे ख़ार, खोलते भेद मज़े में। भेद पर के क्या ... Read more

--भूख--

भूखा कोई आदमी, रहे नहीं जी आम। सभी बने ख़ुशहाल जी, करिए ऐसा काम।। करिए ऐसा काम, पशु प्रवृति है खुद चरना। मनुष्य सीखे सदा, मन... Read more

--सफलता का राज--

सभी करें हैं कर्म पर, दिशा गलत हो हार। दिशा सही तो जीत है, मंज़िल है तैयार।। मंज़िल है तैयार, सोच विचार करिए जी। रोग पता लगे ज... Read more

--सच्चाई न बदले--

होता सागर झील क्या, समझ इसे तू यार। बहक बने है ख़ार-सी, बने नहीं ये हार।। बने नहीं ये हार, झूठा भ्रम छोड़िए भी। सच्चाई सुख भरे... Read more

--रखो जी बराबर धीर--

पराई पीर छोड़ कर, गाते अपने गीत। औरों की हो हार भी, अपनी हो पर जीत।। अपनी हो पर जीत, दुनिया मतलबी क्यों है? खुद पर नाज़ करती... Read more

दोस्ती होती है ग़ज़ब

ग़ज़ब रंग हो दोस्त ये, दोस्ती का है राज। जिसको मिलती नाज़ कर, इससे बड़ा न आज।। इससे बड़ा न आज, मिलनसार सदा बनिए। देखके सबको ही, ... Read more

स्नेह प्यार प्रेम

सिंचित किंचित प्राप्य हो, विषाद रहता दूर। फूलों खिलता बाग है, प्यार दिलों का पूर।। प्यार दिलों का पूर, आनंद अपार मिलता। चाँद... Read more

--रूप तुम्हारा अल्हड़--

अल्हड़ प्यारा रूप ये, दिल को करता भूप। कागज़-सा ये साफ़ दिल, करे खिली ज्यों धूप।। करे खिली ज्यों धूप, आकर्षक हृदय हरती। लहरें ज... Read more

रिश्ते होते नाज़

रिश्ते होते नाज़ हैं, टुकड़े-टुकड़े आज। हावी बनता स्वार्थ है, शर्म रही ना लाज।। शर्म रही ना लाज, माँ-बाप की अनदेखी। एकल परिवार ... Read more

हक तो सबका मूल है

माँगें तो अधिकार की, बुरी नहीं हैं यार। हक तो सबका मूल है, करते क्यों तकरार।। करते क्यों तकरार, हिस्सा सबका बराबर। दाता दे उ... Read more

प्यारे सभी तब लगते

रुकते कभी न रात-दिन, चलना तुम भी साथ। चाहा सबकुछ भाग के, आएगा फिर हाथ।। आएगा फिर हाथ, चिंता से रहे दूरी। जीना होगा राग, जीव... Read more

मिलना बने उन्मादी

शादी करना रीत है, करना तुम पर सोच। प्रणय-शूत्र तो लाज हो, निभे रखें जब लोच।। निभे रखें जब लोच, एक-दूजे को समझें। करें आपसी म... Read more

--शुभ संकेत नहीं--

गिरगिट मानव आज है, डसता मानो नाग। मुख से बगुला भक्त है, दिल से जानो काग।। दिल से जानो काग, झपटता है गिद्ध सम। देखकर चालाकी, ... Read more

--बनकर यार तुम पतंग--

मन उड़े है पतंग-सा, सपने ले गगन के। कुसुम-नयन पथ देखते, ज्यों बहार मिलन के।। ज्यों बहार मिलन के, अभिलाषा पूर्ण होती। सच्ची लग... Read more

--खिलते फूल मुर्झाते--

करना तू घमंड नहीं, थोड़ी सी ख़ुशी पा। खिलते फूल मुर्झाते, बात ना कभी भुला।। बात ना कभी भुला, मिलिए आटे-नमक-से। मज़ा घुल जीवन मे... Read more

--शहीदों को सलाम--

शहीदों को सलाम ************** शहीदी दिवस पर करें, शहीदों को सलाम। जिनकी कुर्बानी से है, स्वतंत्र यह आवाम। स्वतंत्र यह आवाम, ... Read more

--मुख दर्पण है सब कहे--

कहती ज़ुबान कुछ और, दिल कहता कुछ और। मुख दर्पण है सब कहे, देखो गर कर गौर।। देखो गर कर गौर, सच्चाई नहीं छिपती, यह सुगंध है जोक... Read more

--दिलों की ये मोहब्बत--

मोहब्बत दिल से करो, दिमाग़ से व्यापार। रुहों के मिलन का यही, होता है बस सार।। होता है बस सार, अपनाओ ये फलसफ़ा। दिल साफ़ होगा तो... Read more

--उम्र बढ़ती ऐसे--

बढ़ती है उम्र सदैव, सौंदर्य देख यार। मन पावन कर निहारो, ये सुख का आधार।। ये सुख का आधार, खर्चा नहीं लगता है। सुकून ही मिलेगा,... Read more

--तुगलकी फरमान--

तुगलकी फरमान देख, लुटते अरमान हैं। शोषण परवान पर है, भटका सम्मान है।। भटका सम्मान है, रोऊँ या हँसू यारा। उल्टी गंगा बहे, उल... Read more

--छोटी-मोटी बातें--

छोटी-मोटी बात पर, नाराज़ क्यों होते। खिले फूल खिलाते हैं, मुर्झाए न भाते।। मुर्झाए न भाते, ... Read more

--करो ख़ुश, रहो ख़ुश--

ख़ुश रह सदा जीवन में, औरों को ख़ुश करो। यूँ बेंगन-सा मुँह बना, काहें बेंगन करो।। काहें बेंगन करो, ... Read more

--जीना जीवन--छंद एवं परिभाषा

नकली से चेहरे हैं, नकली बातें यहाँ। संस्कार खोकर हम सब, जा रहे आज कहाँ।। जा रहे आज कहाँ, चला दौर देख कैसा। सामने मित्र दिखे,... Read more

--मुबारक होली--

जो रंग रंगोली में, जो प्यार बोली में। दुवा हैं हर ख़ुशी मिले, आपको होली में।। आपको होली में, मन के मैल धुल जाएँ। सभी से गले म... Read more

घोटालों के बाप

नीरव माल्या देखिए,घोटालों के बाप। पैसा लेकर मौज में,बाट देखिए आप।। बाट देखिए आप,ऋणी हुए हैं विदेशी। गाओ बैठे गीत,कब आओगे प्रदेशी।... Read more

--सुख का मंत्र--

सुन प्रीतम की बात *************** फूलों-सी हँसी रखिए, दिन रंगीन होगा। ख़ुशबू सांसें रहेंगी, तस्व्व... Read more

नमो नमःनमो नमःशिवम्

सुन प्रीतम की बात -----------------------छंद कुंडलिया शिवम् की अराधना है, मंगल की कामना। महाशिवरात्रि पर्व है, ... Read more