SHUBHAM PANDEY

Patti, Pratapgarh,U.P.

Joined November 2018

आनंद को खोजने मै चला , दुख मे विलीन हो गया ।
आनंद को खोजते-खोजते न जाने कहाँ पहुँच गया ,
आनंद तो वहीं था फिर भी आनंद को खोज न सका ।।

– शुभम इन्द्र प्रकाश पाण्डेय

Copy link to share

मेरा मन !!

देवी और सज्जनों आप सभी को मेरा नमस्कार ! आप सभी का आभार प्रकट करते हुए वन्दन एवं अभिनन्दन करता हूँ ! सादर अभिवादन करता हूँ! मेरे प्... Read more

मेरा परिचय !!

देवी और सज्जनों आप सभी को मेरा नमस्कार ! मैं आप सभी का सहृदय आभार अभिनन्दन करता हूँ, वन्दन एवं सादर अभिवादन करता हूँ । मेरे प्यारे ... Read more

पट्टी का मेला ! (स्मृति )

देवी और सज्जनों आप सभी को मेरा नमस्कार , मैं आप सभी का आभार प्रकट करते हुए वन्दन एवं अभिनन्दन करता हूँ । मेरे प्यारे दोस्तो ! आज मैं... Read more

मेरी माँ !!

देवी और सज्जनों आप सभी को मेरा नमस्कार , आप सभी का अभार प्रकट करते हुए मैं अभिनन्दन करता हूँ । मेरे प्यारे दोस्तो! आज मैं कुछ पल के ... Read more