Shruti Rastogi

U. P.

Joined September 2017

Copy link to share

गुनाहगार

कोई लौटा दे मुझे वो बीते लम्हें मेरे । बहुत अफसोस है मुझे उन लम्हों को खोने का ।। तेरे किसी दर्द में तेरे साथ नहीं, मुझे माफ करना।... Read more

निशानियाँ

कुछ कुछ चीजों को,इबादत से रखा जाता है । कुछ कुछ चीजों को,नजाकत से रखा जाता है ।। कुछ लोग होते है,जो यूनिक होते है दूनियाँ में । उ... Read more

तुझसे ही है खूबसूरत मेरी जिन्दगी

सपनों में आ कर,जो तू मुस्कराती है । तो मेरी जिन्दगी,खूबसूरत हो ही जाती है ।। जो अपनी मुहब्बत से,तू मेरे लम्हें चुराती है । तो मेर... Read more

खून के रिश्ते

खून के रिश्ते इस कदर खास होते हैं । नजरों से मीलों दूर हो,दिल के बहुत पास होते हैं ।। वर्षों बाद मिलें तो भी उनकी यादें पुरानी कर... Read more

उलझे रिश्ते

शुरू करूँ किस कलम से, मैं लिखना अपनी गुस्ताखियाँ । अब तो इन्तजार करती रहती हैं , रक्षाबन्धन पर राखियाँ ।। सीधे-साधे भोले-भाले, ... Read more

सरकार

पढ़ा लिखा कभी बेकार जाता नहीं । फिर भी पढ़ लिख कर बेकार हूँ मैं ।। रोजगार हो कर भी खाली खाली हूँ । किससे कहूँ ! क्या बेरोजगार हूँ... Read more