हेल्लौ मैँ हरिद्वार मेँ रहता हूँ और मुझे कविता लिखना पसंद है।

Copy link to share

मै तो हूँ ही बेवकूफ

मै तो हूँ ही बेवकूफ इन सब मामलों में प्यार के मामलों में लुभाने के मामलों में कोई रूठ जाए तो उसे मनाने के मामलों में आए अजनबी ... Read more

उत्पीड़न

मैंने वक्त की दीवारों से कुछ पूछा है, के अतीत के दरमियान क्या क्या रखा है। आज कटघरे मे उस घर की बात है जिसके हर ईंट पर कसीदा लिखा... Read more

कुछ अच्छे में, कुछ अजीब भी था

कुछ अच्छे में, कुछ अजीब भी था , धुंधला-धुंधला वो करीब भी था । ना फहम हुआ, ना ही याद आया, ख्वाब था कोई या नसीब भी था । एक लौ... Read more

जीवन दहा हो उसका

ये भी आवाज़ ऊँची करें तो क्या भला हो उसका अगर तुम भी ऐसा करो तो जीवन दहा हो उसका। जिसके ऊपर उसके अम्बरों की सारी चिताएं देखीं थ... Read more

🤚नादान हथेली

नादान हथेलियों की उलझी राहें नादान हथेली में तुमको ढूंढते है किसी की आने की ना खबर है ना खबर थी पहाड़ों से आकर छूती हवा जो कया... Read more

यह धड़कन

दुनिया में केवल वहीं चीजें महफूज़ रही है जो कभी शोर नहीं करती मगर मेरी धड़कनें खूब आवाज़ करती है शायद इसलिए ये उतनी ही दुखती भी ... Read more

कभी‌ गौर से देखा नहीं

कभी गौर से देखा नहीं उन सड़कों पे वापस लौटकर जहां से रोज गुजरते थे घरौंदे से तालीम को लेने और तालीम को बोझा में भर जब वापिस ल... Read more

माई

माई तेरा आँचल धूप में छांव जैसा माई तेरा दामन भंवर मे नांव जैसा माई मुझे चोट लगती है ऐसे न कहो माई तेरा गुस्सा प्यारा-सा घाव जैसा... Read more

जो असलियत है

जो असलियत है अगर उनमें उतरे तो गहराईयां नापी नहीं जाती जो ख्याल है अगर उनको कहें तो कहावतें कहीं नहीं जाती। अगर देखूं आज़ ओर खुद... Read more

कहीँ आदत वो, कभी आफत हो

बहर-122 22 122 22 कहीँ आदत वो, कभी आफत हो कि तुम्हेँ देँखे, कि ये शरारत हो फ़ज़ल थी शामेँ, डुबे अर्क जैसे चल और कहीँ फिर कहीँ ... Read more

●•देखो तो उन्हें •●

देखो तो उन्हें, वो कितना कह रहे हमने कुछ कहा, तो शायद ज्यादा कह दिया ※※※※※※※※※※※※※※※※※※※※※※※※※※※※※※ जश्न में वो और महदूद में... Read more

चाहें ये अब्सार

चाहें ये अब्सार खुले न खुले, एक ही बात है इनमें कोई नजर, आये न आये, एक ही बात है मैं दो को देख लूँ या जहान् को देख लूँ कोई छली ... Read more

◼️◾▪️एक चेहरा नजर आया▪️◾◼️

~~~~एक चेहरा नजर आया~~~~ हदों की हद लकीरें, लाँघनी कितनी आसान थी लाँघकर देखा, तो एक चेहरा नजर आया ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ कोई ... Read more

इंतजार

~~~~~इंतजार~~~~~ किसी ने कहा इंतजार करो, वो जरूर दस्तक देंगे मेहनत तुम्हारी है, उसकी तस्वीर बनाओ, वो रंग भरकर जायेंगे ---------... Read more

कैसी ये शिकायतें?

कैसी ये शिकायतें? जरा आज कहिए दागी उतनी ही लगेगी जितनी पहले मिली थी कानाफूसियों का कहना जरा आज समझिए दिल पर उतनी ही बितेगी ... Read more

किससे कहूँ और कैसे कह दूँ?

************************************** किससे कहूँ और कैसे कह दूँ? कि वो नाराज़ है मेरे अन्दर ये लाज, आखिर कब तक रहेगी? *******... Read more

तुलसी मेरी

एक खंडहर में मेरा ख्याल बसा है उजड़ी हुई आत्मा मे वह सच्चा-सा, भ्रम और मिथ सब लगा है फिसलते देख ऐसे मेरा घर आंगन कि बिखर गए है चो... Read more

तो आखिरी बार

उछलती-झूमती उस भीड़ को आनन्द लेते उस वक्त को सीमाओं को लांघकर इन आंखो से देख लूँ, तो आखिरी बार 🥀🥀🥀 किसी तरह बात ना मानकर दहलीज... Read more

ऐ! मेरे साए

ऐ! मेरे साए तू किसको साया देता है? कभी तन को छोड़ कभी मुझसे लिपट खोए मुझमेँ इस तरह सन्ध्या की ललित एहसास भी है अब कुछ छुअन का ... Read more

जलन

दहक उठी है ये सारी बस्तियाँ किसी के आग में जलन सी अब मच रही है कोयल की राग में दुख दुना हो जाता है दूसरों का हर हिसाब देखकर आँख... Read more

एहसास को समझूँ

मेरे घर पर आज छत है इसे मेँ देव की देन समझूँ जिसके ऊपर उपकार नहीँ उसके आज हर एहसास को समझूँ कोई तन पर बिखरे पसीने को पोछेँ को... Read more

मुझे देते है लोग दुआओँ की भीड़

मुझे देते है लोग दुआओँ की भीड़ मेरी तन्हाई को भरने मेँ पास आता है कोई इस तरह मेरी भलाई को रखने मेँ मुझे न देखो यूँ कि हो जायेँ सूखे... Read more

जख्म

क्या बताऊँ क्या हुआ है साथ, बस एक कश्ति-सी चल रही थी बाँट भी ना पाये जिसे, साथ मेँ वो जख्मोँ की बस्ती चल रही थी न तीर से, न तलवार ... Read more

गुहार

एक छोटा सा अर्भक हूँ मै,मुझे अपने हाथो से उठा दो अपने प्यार की छाँव मे,मेरे सारे घाव भर दो गिरा हूँ जमीन परइसे मेरा बिस्तरा बना दो... Read more

डर रहा हूँ मै.

अंधकार को देखकर,उजाला खो जाने से डर रहा हूँ मै एक आहट हो जाने पर सिसकियाँ भर ले रहा हूँ मै जरा-सी चोट लग जाने पर गुमचोट का इंतजार ... Read more

ललाहित

कलियो से जो फूल खिले उसे तोडने के लिए ललाहित हूँ मै पन्ने उधेड दिए है जो किताबो से मैने उसमे कुछ छिपाकर लिखने के लिए ललाहित हूँ म... Read more

नन्ही-सी जान

देखो एक खिलखिलाती मुस्कान जन्म लेती हुई नन्ही-सी जान चमकती हुई आँखे है उन आँखो मे है तहजीब का ग्यान चेहरे पर एक खुशी है लेकिन... Read more