Mugdha shiddharth

Bhilai

Joined October 2018

मुझे लिखना और पढ़ना बेहद पसंद है ; तो
क्यूँ न कुछ अलग किया जाय…
लड़ने के लिए तलवार नही
कलम को हथियार किया जाय
थूक से इतिहास नही लिखा जाता
बिका हुआ कलम क्रांति गीत नही गाता
इस लिए, इश्क़ को तौफीक़ तो
इंकलाब को तौफीक़ ए दहक कहा जाय
कभी इश्क़ पे रक्स तो, कभी…
इकलाब को कलम बंद किया जाय
इस दहर में क्यूं न
इश्क और इन्कलाब पर संग संग मचला जाय।
…मुग्द्धा सिद्धार्थ
rshiddharthbhilai@gmail.com

Copy link to share

अभी नहीं मरूंगी मैं

धमनियों में बहते दर्द के चिकनी ढलान पे जब खोजती हूं मैं … अपने ही देह को जो गड़ मड हो गया है दर्द के फ़र्द में दर्द को पहने हुए ... Read more

जब आप सुबह उठ कर

जब आप सुबह उठ कर और रात सोने से पहले पेट को महसूस करते हुए रशोई की ओर देखते हैं खोजते हैं रशोइ की मालकिन को असल में आप खोज रहे... Read more

जो नारे लगा रहे थे

जो नारे लगा रहे थे जो नारे लगवा रहे थे उन दोनों का पेट भरा था जो चुप थे ... हाॅंथ बांधे सब देख रहे थे वो भूखे थे .... और रोट... Read more

सोचती हूं

सोचती हूॅं ... जिस दिन ये किसान सौंप देंगे धरती को अपना फावड़ा और हसूआ और देह के कब्र में दफना देंगे मिट्टी का मिट्टी से प्या... Read more

भूखे लोग

भूखे लोग खाली थाली बढ़ाते हैं कि थाली खाली है भरने का उपाय करो फ़कीर लोग उन्हें समझाते हैं खाली थाली बजाओ कि भूख डर कर भाग जाए ऎसा ... Read more

भाषण

जिस देश के लोग भाषण सुनकर ये कहे कि ... "नून रोटी खाएंगे फलाने को जीताएंगे" उस देश के लोगों को कोई अधिकार नहीं कि रोजगार की मांग... Read more

मुक्तक

बहुत शोर है वादी में कि आदम भूखा नंगा है मुझे ऎसा लिबास चाहिए भूख जिस में दिखता नहीं ~ सिद्धार्थ फिर तुम मुझे याद आए फिर यादों ने... Read more

लौट जाना नियति है ...

लौट जाना नियति है ... इसे स्वीकार करना कठिन है मगर असम्भव नहीं ... हम सभी लौट जाने के लिए ही आए हैं पेड़, पौधे, बादल, पानी, हम... Read more

पत्ते कभी हरे थे

ये पत्ते कभी हरे थे, पेड़ पे लगे थे अब जर्द होकर गिर पड़े हैं समेट रही हूं अन्न पकाने के काम आएंगे ... भूख मिटाने के ये भी सहायक ... Read more

मुक्तक

अब कहीं भी चाय पे चर्चा नहीं होता चर्चा तो होता है अगर्चा चाय नहीं होता ~ सिद्धार्थ भूख से बड़ा कोई भी धर्म नहीं रोटी से बड़ा क... Read more

स्त्रियां सीख लेती हैं

स्त्रियां सीख लेती हैं बचपन के दहलीज पे ही संभलना और संभालना अपना टूटना, बिखरना भी सब कुछ सीख लिया था मैंने भी ... स्त्री हूं... Read more

चलिए ये भी तो अच्छा ही किया आपने

चलिए ये भी तो अच्छा ही किया आपने लोग कहते थे जिसे पागल उसे भुला दिया आपने रोती न थी जो ऑंखें अज़िय्यत ए जिंदगी पर उन ऑंखों को ... Read more

माॅं

💞 माॅं हर बात तुझी से शुरू और ख़तम होती है मगर अफ़सोस तुझी से बात नहीं होती है ~ सिद्धार्थ Read more

लोग यूॅं ही मर जाते हैैं

लोग यूॅं ही मर जाते हैैं कुछ लोग रोते भी हैं कुछ लोग रोने का नाटक भी करते हैं मगर पीछे कुछ तो छूट जाता है और वही कुछ मरने वाले क... Read more

कोई झंझोरो मुझे

कोई झंझोरो मुझे मेरे अंतस् को हिलाओ करो कोई जादू टोना कि मैं खुद में ही अनागत हो रही हूॅं मुझसे मैं ही विदा हो रही हूॅं ~ सि... Read more

असमंजस

असमंजस ... जाऊं या रुकूं देखूं या फेर लूं ऑंखें उसे क्या चाहिए मेरा रुक जाना ... या चले जाना लहलहाते फसलों से उफनती नदी की ओर ... Read more

मुक्तक

जुबां लड़खड़ाए तो कोई नई ... लखड़ाने दो जो बात कहनी हो कह दो उसे फ़साने में ~ सिद्धार्थ शब्द सीधे और सरल थे अर्थ मगर कुछ खास था इ... Read more

मुक्तक

हॅंसीं खूबसूरत थी उसकी वो लड़की से माॅं हो रही थी ~ सिद्धार्थ इस वक़्त के दरम्यान साथी दरारे ही दरारें है जिधर देखो बस भूख ने ... Read more

किसी घोर चुप्पी के प्रहर में हम - तुम मर जाएंगे

किसी घोर चुप्पी के प्रहर में हम - तुम और तमाम हमसे जुड़े लोग मर जाएंगे ... एक अफ़सोस के साथ ... कि हमें बोलना था भूख के ख़... Read more

क्या रोइए ऐसे दुख पे जो आप से आप को लगा है

क्या रोइए ऐसे दुख पे जो आप से आप को लगा चलिए उठिए मुस्काइए कि घाव अब रिसने लगा है हमें दरकार थी कि इक बार पुकारे वो हमको हाय अब... Read more

कदमों से मुहब्बत को कभी नापा नहीं जाता

कदमों से मुहब्बत को कभी नापा नहीं जाता ये वो रोग है जिसका दाग कभी नहीं जाता उनकी मर्जी वो दो चार कदम हाथ पकड़ के चले निभाने का ... Read more

क्यूॅं रोये ऑंखें मेरी

क्यूॅं रोये ऑंखें मेरी और क्यूॅं धोए भला वो खुद को इसकी तो बस इतनी सी तलब देखे ये खुश उसको तारों भरी रात में चाॅंद संध्या के सा... Read more

मैंने कभी हाॅंथ उठा कर दुआ नहीं मांगी

मैंने कभी हाॅंथ उठा कर दुआ नहीं मांगी न ही कभी किसी मन्दिर में पत्थरों के देवता से कोई आशीष मांगी हाॅं झूठ नहीं कहूंगी कई बार ... Read more

मुक्तक

खुश रहें सब और क्या ही मेरी मिट्टी चाहेगी मिट्टी उठ कर आखिर मिट्टी को ही तो जाएगी । ~ सिद्धार्थ सभी अच्छे ही हो महफ़िल में ये ... Read more

मैंने तुमको ही तो बस याद किया था ...

सड़क से लेकर बाहन तक पटरी से लेकर ट्रेन तक अल्साई फूलों पे बैठी तितली से लेकर फूलों को पानी देते माली तक खाना बनाती औरतों से ले... Read more

मैं हो रही हूं ख़राब ख़राब होने दो

मैं हो रही हूं ख़राब मुझे ख़राब होने दो आज चाॅंद के कांधे पे सर कर रोने दो सोचती हूं झटक दूं उसको अपनी यादों से खैर छोड़ो जहां... Read more

सुखन भला क्यूॅं कर सूख गया

सब टोकते है मुझको तेरा सुखन भला क्यूॅं कर सूख गया इक मचलती नदी हर्फों की किस घाट पे जाके सूख गया अब किस तरह कहें किस किस को जाकर... Read more

क्यूॅं तकती हैं आंखे तेरी आखिर मैं तेरी क्या लगती हूॅं

क्यूॅं तकती हैं आंखे तेरी आखिर मैं तेरी क्या लगती हूॅं मैं तो वो हूं जो तनहाई में भी जाने क्या क्या बकती हूॅं क्या आसान रास्ते स... Read more

क्या ही मांग लेती मैं तुमसे

क्या ही मांग लेती मैं तुमसे जब देखना भी मेरा तुम से देखा न गया अब कहते हो कोई देखता ही नहीं जब चश्म ए चिराग़ बूझ सा गया। थी कभी ... Read more

यार नहीं माना

शाइस्ता दिल मेरा बहुत ख़राब है जाना चिंख़ कर कहते हैं हम दिल मानता नहीं जाना। वो दिल मेरा उनकी गली में ही घुमा करता है हर वक़्... Read more

खिसिआए हुए हैं

हम को मनाओ न हम खिसियाए हुए हैं इन दिनों हम न, तुम से रिसियाए हुए हैं । मान जाएंगे एके गो टॉफी में बालों में हाथ फिराओ न आओ न आ... Read more

तेरी याद है हम हैं और मय की मुखतारी है

तेरी याद है हम हैं और मय की मुखतारी है धुआं धुआं है कमरा और दिल में दुश्वारी है। जाने शराब पी है हमने या पी गया है शराब मुझे लड... Read more

इश्क में यार जां से अधिक अज़ीज़ है

मसला मुहब्बत का नहीं यार मसले हैं मुहब्बत में सभी समझाइश झेलनी पड़ती है यार मुहब्बत में मुझे बिल्कुल नहीं शऊर रिवायती मुहब्बत क... Read more

दिखा कोई अपना क्या यहां ?

एक खिड़की है गली में मेरे चांदनी छिटकी रहती है यहां डर अंधियारे का था शायद इस लिए ज्यादा रहती थी यहां ! कोई नहीं था अपना शायद बस... Read more

तभी स्त्री पुरुष किसान हो गए थे

जब लोग सीख रहे थे धर्म की बोआई करना ताल पत्रों के सीने पर उस से बहुत पहले ... पहला पुरुष और पहली स्त्री जान गये थे पेट के भू... Read more

अपने अस्त होने से पहले

अपने अस्त होने से पहले किसी दिन उतर आऊंगी तुम्हारी पीठ के आंगन में टांग दूंगी अपने भिंगे मन को तुम्हारी बांहों के अलगनी पर ताकि... Read more

इक ख़वाब ऑंखों को मेरे तर कर जाता है

इक ख़वाब ऑंखों को मेरे तर कर जाता है ख़वाब के अंगनाई में तू ही तू नज़र आता है । देखे मुस्काए बात करे ख़वाब में तू प्यार लिखे मै... Read more

मेरे दिल का गांव उजड़ गया

मेरा चांद मुझ से बिछड़ गया मेरा मुश्क कहीं पे गिर गया मै होश वालों से क्या ही कहूं मेरा जोश मुझ से बिछड़ गया मैं हॅंस रही ह... Read more

प्रेम का नशा

प्रेम बन्धु बांधव नहीं जिसका अवसान हो जाय प्रेम कोई नदी तालाब नहीं जो सूख जाय पानी विषाक्त हो जाय प्रेम एक एहसास है प्रेम एक नश... Read more

हमीं बैठे रहे देर तलक

हमीं बैठे रहे बड़ी देर तलक उनको न आना था न वो आए उस पुर नूर सुबह की बात ही अलग खिड़की से कोई फूल वो जब दे जाए हम उठते गिरते... Read more

खुशी हुई

मुझ से मिलकर तुम्हें खुशी हुई, ये जान कर हमें भी खुशी हुई मुझ में तो मैं ही रही नहीं ... अब फिर किस से मिले और तुम्हें खुशी हु... Read more

फिराक गोरखपुरी

फिराक गोरखपुरी उर्फ रघुपति सहाय : 28 अगस्त 1896 “आने वाली नस्लें तुम पर रश्क करेंगी हम असरों जब भी उनको ध्यान आएगा, तुमने फ़िराक़... Read more

गणेशा

माटी कोड़ी,माटी को छानी कूट पीस के फिर उस में मिलाया थोड़ा सा पानी पैरों से मर्दन दिए फिर माटी बनी मूर्ति बनने के लाने सयानी ह... Read more

मुझ से मेरे सफ़र की न पूछ

मुझ से मेरे सफ़र की न पूछ वो जिस दम तू मुझ से रूठा था साथ रूह का अपना छूटा था खाली जिस्म सफ़र कर के घर की दहलीज पे बैठा था ~ uns Read more

शनिचरी

नई दिल्ली से छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर जाने के लिए राजधानी एक्सप्रेस में तमाम छोटी बड़ी मुश्किलों को पराजित कर भाई ट्रेन के रिजर्व... Read more

तेरे साथ होने के भरम को जिंदा हम रखते हैं

सभी एक दूसरे के हाल पे रोते हमें दिखते हैं सब के सब यहां बेहाल ही हम को दिखते हैं ! इक बस आप के आंगन से आती थी चांदनी छन के अब ... Read more

तुम्हीं सब्र तुम्हीं जब्र रहे होगे उसका

हदफ़ बन कर तुम शायद रह गए होगे उसका वक़्त की पैकर में दिल छिल गया होगा उसका उतरती रात की अंगनाई में चल कर आई तो होगी तुम मिले न... Read more

क्यूॅं कर रंजीदा रहे दिल तुम से

क्यूॅं कर रंजीदा रहे दिल तुम से तुम्हीं से दिल ने धड़कना सीखा है हर आहट पे पलट कर तुम्हीं को देखे फिर तेरे नाम से ही ये पागल ख... Read more

वो तेरा ही तो नाम था!

अटका था दिल मेरा, जगह वो आम था पलट कर देखा, वो तेरा ही तो नाम था! इन दिनों कुछ बुझी बुझी सी दिखती हूॅं मैं इश्क हुआ होगा, अपनों... Read more

दहाड़े मार कर रोना चाहती हॅं

दहाड़े मार कर रोना चाहती हॅं देखो तो जां मैं ए क्या चाहती हॅं ! बड़ी उलझी उलझन सी रहती है मन के गांठों को खुलवाना चाहती हूॅं ! ... Read more