मेरी यह कविता मेरे मन की सहज अभिव्यक्ति है।

Copy link to share

हर जन्म तेरी कोख पाऊँ माँ

मैं जब भी दूसरा जन्म पाऊँ माँ, तेरी कोख से बेटी बनकर आऊँ माँ। ये दुनिया ये संसार सब झूठा नाता है, बस तेरा ही रिश्ता मुझे सबसे ज्य... Read more