Shashi kala vyas

Bhopal

Joined October 2018

एक गृहिणी हूँ मुझे लिखने में बेहद रूचि रखती हूं हमेशा कुछ न कुछ लिखना चाहती हूँ।
मैंने 11 th क्लास से ही लिखने की आदत हो गई थी लेकिन बीच में कुछ छूट सा गया था लेकिन अब फिर से कुछ लिखने का मन बनाया है और शायद वक्त मिलने पर लिखते ही रहूँगी।
मैंने बीए . एमए . साइकोलॉजी में और बीएड की पढाई की है।
मुझे सादगी जीवन पसंद है और आधात्मिक क्षेत्र में भी बेहद रूचि है।

Books:
अभी कोई किताब पब्लिश नही हुई है लेकिन ख्वाहिश है 📚📕📓📑📔📒📖

Copy link to share

*"माँ आदि शक्तिदायिनी"*

*"माँ शक्तिदायिनी"* हे आदिशक्ति दायिनी माँ ,संकट कष्ट हरे धरा पर पांव धरे। शिव की अर्द्धागिनी रूप सुहाना, सोलह श्रृंगार करे। नील... Read more

*"माँ तेरे स्वागत में"

*"माँ तेरे स्वागत में"* अश्विन मास शुक्ल पक्ष प्रतिपदा तिथि, नवरात्रि पर्व माँ तेरे स्वागत में। घट स्थापना दीप प्रज्वलित कर , शु... Read more

*"कोरोना काल के अनुभव"*

*संस्मरण* *"कोरोना काल के अनुभव"* कोरोना वायरस वैश्विक विषाणु के कारण पूरा विश्व परेशान हो गया है। जनमानस को सुरक्षित रखने के लिए... Read more

*कृष्ण*

"कृष्ण" हे कृष्ण मुरारी अब विनती सुन लो हमारी। हाथ जोड़ खड़े हुए , हम शरण आये तिहारी। मनवा अब धीरज धरे ना ,कुछ तो ऐसी राह दिखा दो ... Read more

*"पायल"*

*"पायल"* पांवों में सजती नारी का श्रृंगार कराती, सुनहरी चमकती सी पायल। प्रीत की रीत जगाती ये , मन को कर जाती है घायल। नई नवेली ... Read more

*"सागर"*

"सागर" सागर का विराट स्वरूप, लहरें हलचल मचाते। रत्न अनगिनत गर्भ में ,गहराई में उतर न पाते। धीरज धरा पर वेगधारा ,वेग प्रवाहों से न... Read more

*"क्षमादान"*

*"क्षमा"* क्षमा याचना बड़प्पन भाव से सदैव राग द्वेष दूर मिटाए। क्षमा गुणों की खान वीरों का आभूषण ,अंहकार विकार दूर कर जाएं। क्षमा ... Read more

*"कैसी है ये दिल्लगी"*

*"कैसी है ये दिल्लगी"* कभी हंसाये कभी रुलाये , कभी नफरत कभी गुस्सा दिलाये, कभी खुश होकर प्यार जताये , दिल दुखाये फिर दर्द की दवा... Read more

*"पुरुषोत्तम मास"*

*"पुरुषोत्तम मास"* बारह महीनों का अलग स्वामी विहीन हो , मलमास अधिमास पुरुषोत्तम मास कहलाया। श्री हरि विष्णु जी के पास गोलोक में ज... Read more

*"बापू जी "*

*"बापू जी"* आज 2अक्टूबर बहुत ही महत्वपूर्ण दिन है क्योंकि आज दो महान व्यक्ति विभूतियों का जन्मदिन है जिन्होंने सच्चाई के राह पर चलक... Read more

*बापू जी *

*बापू जी* आंखों में गोल चश्मा लगाए, हाथ मे लाठी ले कमर में घड़ी बांधे सरपट तेज रफ्तार से चल सबके मन लुभाया। गुलामी के बंधन से भारत... Read more

*"बेटियाँ"*

"बेटियाँ " मेरा स्वाभिमान अभिमान जीवन का आधार । घर की रौनक खुशियों से भर देती ये घर संसार। सारी दुनिया की दौलत सबसे कीमती उपहार।... Read more

*"सूर्योदय"*

"सूर्योदय " वो हरी भरी वादियां ऊंचे टीले पहाड़ियों पर, उड़ते हुए परिंदों का झुंड दिखाई देता। बहुमंजिला इमारतों में मजदूरी करते हुए ... Read more

*"सम्मान"*

"सम्मान" जैसा कर्म करते वैसा फल देता है भगवान। जीवन धन्य बना लो अच्छे कर्म कर लो इंसान। घर परिवार अच्छे संस्कार शिक्षा देते , आद... Read more

"खोना पाना"

"खोना पाना " जीवन में कुछ खोना और पाना ही आनंद है। कभी खुश हो जाना कभी गमों में डूब जाना है। अंतर्मन में अनुभवों को जगाना कुछ सीख... Read more

*"धन"*

*"धन "* प्रेम अनमोल धन , जीवन संचित धन , विद्या धन प्रेम धन , जीवन संतोष धन । 💠💠💠💠💠💠💠💠💠 तन मन समर्पण , पूजा पाठ है अर्पण , ... Read more

*"पितृ देव "*

*"पितृ देव"* आकाश गंगा नक्षत्र से उतरते, पूर्वज पितर देव बन आये। विदा हो गए थे जो इस संसार से ,अब पुरखों में शामिल आये। बीते हुए... Read more

*"शिक्षक"*

*"शिक्षक"* आपकी राय में शिक्षक में वह कौन सा गुण है, जो आज के दौर में परम आवश्यक है। आधुनिक युग में शिक्षक मार्ग प्रदर्शक के रूप म... Read more

*"प्रतीक्षा"*

प्रतीक्षा करती राह देखती , धैर्य संयम तपस्या करती , झूठे बेर खिलाकर के , मुदित मन राम को भाती । जय श्री राम जय जय सिया राम।🙏 Read more

*"कल्पतरु "*

देवलोक से वृक्ष आया , कल्पतरु देते हैं छाया , मन की इच्छा पूरी करता, समुद्र मंथन से यह पाया। जय श्री कृष्णा 🌿💞🌿💞🌿💞🍀💞🌿 Read more

*"विसर्जन"*

*"विसर्जन"* युगों युगों से चली आ रही प्रथाएं , शास्वत सत्य सनातन। प्रथम पूज्य देव गौरी शंकर ,पुत्र कहाते गणपति गजानन। सब देवों म... Read more

*"दशावतार"*

*"दशावतार"* हमारे पौराणिक शास्त्रों में दशावतार व्रत के संबंध में बतलाया गया है कि यह व्रत भाद्रपद शुक्ल पक्ष दशमी तिथि को दशावतार ... Read more

"*जाल"*

*"जाल"* शब्दों से बुना जाल , अक्षरों को जोड़कर , मन में उधेड़ बुन , कविता बनाये है। 🌀🌀🌀🌀🌀🌀🌀🌀 जिंदगी का माया जाल , मन मे उठा सवा... Read more

*"उड़ता सा मच्छर"*

*"उड़ता सा मच्छर"* 🦟🦟🦟🦟🦟🦟🦟🦟 सुबह सबेरे इधर उधर ताक झांक कर घूमता। डंक मारने खून चूसकर अपनी प्यास बुझाता। साँझ ढले जब अंधियारे में... Read more

*"तजुर्बा"*

*"तजुर्बा"* उम्रदराज , सीखते जाते , जीने की कलाएं , आगे बढ़ते , मार्गदर्शन। 🔆🔅🔆🔅🔆🔅🔆🔅 तजुर्बा , बड़े बुजुर्ग , खुद को ढालते , ... Read more

*"गुलाब "*

*"गुलाब "* सूर्योदय में , सुरभित सुमन , खिला गुलाब , कांटो में मुस्काता, हर्षित मन , उपवन महकाता , सुंगध बिखेरता। **********... Read more

*"तिरंगा"*

🇮🇳🇮🇳*"तिरंगा"* 🇮🇳🇮🇳 लहर लहर उड़ा , तीन रंग का तिरंगा , पन्द्रह अगस्त आया, झंडा फहराइये। 🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳 धरती अंबर झूमे ,... Read more

*"बाल कृष्ण"*

*"बाल कृष्ण"* बाल गोपाल , यशोदा नन्दलाल , भादो महीना , प्रगट अवतार , यशोदा बलिहार। बाजे बधैया , मंगल गीत गाये , देवकी पुत्र ... Read more

*"हलषष्ठी मैया"*

*"हलषष्ठी मैया'* भादो का महिना हरछठ ,हलषष्ठी तिथि व्रत पूजा कराएं। हलषष्ठी मैया को चढ़ाए ,पसहर चावल और न कोई दूजा चढ़ाएं। ताल तलैया... Read more

*"अवध में राम आये हैं"*

*"अवध के राम आये हैं"* सजा दो घर आँगन को ,प्रभु श्री राम आये हैं। अवध में रामजन्म भूमि, नव युग निर्माण कराये है। लगा दो लाख पहरे... Read more

*"परिजात पुष्प # हरसिंगार"*

*"परिजात /हरसिंगार"* प्रकृति प्रदत्त बहुत सारे ऐसे पेड़ पौधे है जिन्हें हम नही जानते हैं और जानते भी है तो उनके बारे में महत्त्वपूर्... Read more

*"मेहंदी "*

"मेहंदी" सखी रे आजा सावन आया रे, राखी का त्यौहार जो आया , भाई बहन के मन को लुभाया। हरी पीली लाल चूड़ियां खनके , गोरे गोरे हाथों ... Read more

*"अवध के राम"*

*"अवध के राम"* कई शताब्दी बीत गई कठिन समय में , कहाँ छुपे थे श्री राम। 500 वर्षों के त्याग ,तपस्या बलिदान का सुखद परिणाम। भादो ... Read more

*"रक्षाबंधन"*

*"रक्षाबंधन"* रक्षाबंधन राखी का पवित्र त्यौहार। रिश्तों की डोरी में बंधा हुआ ,ये सारा जग संसार। भाई बहनों के अटूट श्रद्धा ,विश्वा... Read more

*"चातक पक्षी "*

*"चातक पक्षी"* स्वाति नक्षत्र की बूंद , चातक आस लगाए, आकाश में निहारता, मेघ बरसाए है। 💦💧💦💧💦💧💦💧 अमृत की धारा बहे , सूखे कंठ खो... Read more

*"आओ तीज मनाएं"*

*"आओ तीज मनाए"* 🦚💦🦚💦🦚💦🦚💦 सावन की अठखेलियां, उमड़ घुमड़ कर बदरा छाये। भींगा भींगा सा सावन मास , रिमझिम सितारों सी चमकती जाए। वन मे... Read more

*"हरियाली तीज'*

*"हरियाली तीज"* सावन मास व हरियाली तीज का बहुत महत्वपूर्ण संजोग है एक दूसरे के साथ में गहरा संबंध है और सावन मास के त्यौहार एक संगम... Read more

*"गणेशजी"*

*"गणेश"* एकदन्त , गजवदन विनायक , रिद्धि सिद्धि दाता , सुखकर्ता ,दुखहर्ता , मंगलमूर्ति। 🕉️🔔🕉️🔔🕉️🔔🕉️🔔 वक्रतुंड , सिद्धि ,विनाय... Read more

*"अनुभूति"*

*"अनुभूति"* हरियाली , चहुँ ओर , ओढे हरी चुनरिया , हरित हुई , वसुंधरा। 🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃🍂 प्राकृतिक , छटा निराली , तरु पल्लव से , स्व... Read more

*"स्मृतियाँ"*

"स्मृतियाँ" स्मृति के दायरे भी ,बड़े अजीब से होते हैं। भुलाने की कोशिश करते है ,फिर भी दिल के करीब होते हैं। व्याकुल रहता है मन न ... Read more

*"सावन की घटा"*

*"सावन की घटा"* सावन की घटा छाई , ऋतु मनभावन आई , मन में उमंग लाई , हरियाली छाई है। 🌧️⛈️🌧️🌨️⛈️🌧️🌧️ काली काली घटा छाई , धरती भ... Read more

*"तुम ही तुम'*

"तुम ही तुम " साँवरे सलोने मोहन ,तेरी सूरत मन में बस गई है। जिधर देखूं उधर तेरी मुस्कान आंखों में ठहर गई है। *बस तुम ही तुम सांसो... Read more

*"सावन के झूले "*

"सावन के झूले" सावन महीना आया , रिमझिम बूंदे लाया , कोयल ने गीत गाया , मन हरषाया है । सखी संग मिलकर , अमुआ की डाल पर , सोलह... Read more

*"चुनरिया"*

"चुनरिया" ओढे नीली चुनरिया रे , गोरी घूँघट में शरमाय। हाथों में भर भर चूड़ियाँ पहनके , गले मोतियन हार दमकाय। पिया के नाम की ओढे ... Read more

*"पावस ऋतु "*

*"पावस ऋतु"* मेघदूत का आगमन, सुखद लगे संसार। कोयल कूके डाल पर , शीतल पवन फुहार।। 🍃🍂🍃🍂🍃🍂🍃 पावस ऋतु की कामना, धरा अंबर नीर। ... Read more

*"भूली बिसरी यादें"*

*"भूली बिसरी यादें'* बीते हुए लम्हों को भूली बिसरी यादों स्मृति में ढूढ़ते। एक दूजे का साथ निभाते सीमित दायरों में बंध जाते। सपने... Read more

*"गुरूदेव"*

*"गुरु* गुरु प्रत्यक्ष परमेश्वर का ही स्वरूप है, जो सांसारिक जीवन में विषय विकारों का मैल धोने के लिए गुरु का पवित्र ज्ञान सरोवर घ... Read more

*"पैगाम"*

*"पैगाम"* तुम शांति दूत बनकर मेरा संदेश ,प्रभु के चरणों में रख आना। युद्ध ,अशांति फैलाने कूटनीति ,रणनीति की बातों को बतला जाना। ध... Read more

*"बादल"*

"बादल" लुका छिपी खेल खेलता, काली घनघोर घटाओं में। उमड़ घुमड़ कर गरज गरज कर शोर मचाता बादलों में। बिजली चमकती जैसे आतिशबाजी सा ,नजार... Read more

*"मीरा"*

*"मीराबाई"* मीरा श्याम की दीवानी जोगन भई सांवली सूरतिया में मगन हो गई। कृष्ण नाम को पुकारती बावरी हो गई। वो तो गली गली ढूंढती व... Read more