SHASHIKANT SHANDILE

Nagpur (Maharashtra)

Joined August 2016

It’s just my words, that’s it.

Copy link to share

मौत आ जाए मगर ...........

गुफ़्तगू हो शायरी में शायरी में गम न हो हो इनायत बस खुदा की आँख कोई नम न हो हो मुहब्बत इस फ़िजा में आसमां हो ख़ुशनुमा दे सुनाई मुस... Read more

मुहब्बत का हमने जाम ले लिया .............

मुहब्बत का हमने जाम ले लिया , जुदाई इबादत का दाम ले लिया !! वो खुश है अकेले हो हमसे जुदा , तो हमने भी आखरी सलाम ले लिया !! फ... Read more

आज कल हालात है नासाज दिल के~~~~~

ढूंढता रहता हूं मैं अल्फाज दिल के जाने क्यों गुम हो गए अंदाज दिल के रूबरू जो हो गए हो आज मुझसे हाल-दिल कर लो बयां नाराज दिल के ... Read more

न मैंने ख्वाब देखा हैं न मैंने दिल लगाया हैं........

न मैने ख्वाब देखा हैं न मैने दिल लगाया हैं हक़ीक़त जान कर मैंने मुहब्बत को भगाया हैं बड़ी बेकार है इसकी पकड़ तुम हात ना आना बड़ी बेख़... Read more

बड़ी मुश्किलों से बखत है गुजारा ◆◆◆◆◆

निगाहें तुम्हारी करे है इशारा हमें लग रहा है मगर नागवारा बड़े घाव हमनें भरे है अभी तक नहीं चाहिये अब किसीका सहारा भले लग रहा ... Read more

==* दिल समझायें कभी कभी *==

रुक्सत करी जो सूरत याद आयें कभी कभी सपनों में आकर मुझको तड़पायें कभी कभी मुस्कान आज भी दिलमे है उनकी बसी हुई उनकी प्यारी बाते ... Read more

==* देखते है बाप से बेटा बड़ा क्या हो रहा है *== (गजल)

नातवानी से फ़साना देश तेरा हो रहा है! देख लो यारो तमाशा आज ये क्या हो रहा है!! सोचता क्या है मसीहा कोई आयेगा वहां से! रात देखा ... Read more

==* समशान नजर आता है *== (गजल)

जर्रा-जर्रा इस घर का समशान नजर आता है दर-दिवार से आंगन सुनसान नजर आता है ! जी रहा हूँ मगर बेख़ौफ़ मैं रोज इस घर में देख कर आईना द... Read more