Manju Sharma

Joined November 2018

Copy link to share

~माँ~

अब तू बूढ़ी हो गई है माँ, तेरे जैसा खाना अब कोई नहीं बनाता, तेरे जैसी लोरियां कोई नहीं सुनाता, तेरी बाहों से सुरक्षित कोई जगह कहा... Read more