Arpit Sharma Arpit

Shajapur

Joined May 2018

Shayar

Copy link to share

मिरे दुःख का तू अंदाज़ा लगा दे

मिरे दुःख का तू अंदाज़ा लगा दे, ख़ुशी को अपनी खुद ही तू मिटा दे, हवा इतराए फिरती हैं जो ख़ुद पर, अगर हिम्मत हो सूरज को बुझा... Read more

इस इश्क़ में दरकार कहानी है ज़रूरी

इस इश्क़ में दरकार कहानी है ज़रूरी, तुम ज़ख़्म अता कर दो निशानी है ज़रूरी,, इक बात है जो तुझको बतानी है ज़रूरी,, पर ज़ेहन में... Read more

ग़ज़ल

जहन में वो तो ख्वाब जैसा है वो है बदन भी गुलाब जैसा है बंद आँखों से पढ़ भी सकता हूँ तेरा चेहरा किताब जैसा है लोग प्यार से दीव... Read more

क़अता

ज़माने भर का दुःख है उसको कैसे वो समझायेगा, आ भी जाओ मेरी मानो वरना मर वो जायेगा,, इस तरह से चीखेगा वो इस तरह चिल्लाएगा, उसको ना... Read more