Sharad Kashyap

Tihar

Joined June 2017

कहते हैं पाषाण मुझे सब कहने दो
और जमाने भर के तानें सहने दो
मौसम बन रोज बदलने से बेहतर है
पत्थर बन कर सदा एक सा रहने दो

©
शरद कश्यप

Poetry is my passion whether in English or Hindi.

Copy link to share

खूं तेरे दिल का बहायेगा

दौर-ए-गर्दिश में तेरे पास आयेगा याद फिर कसमें पुरानी वह दिलायेगा मेंहदी हाथों की शायद सुर्ख कम होगी पास आ फिर खूं तेरे दिल का बहा... Read more

खुशियों को जला दिया हमने

जिंदगी के हर तजुर्बें को भुला दिया हमनें ग़म के' हर इक हर्फ़ को खुद ही मिटा दिया हमनें माँगने मुझसे उजाला तीरगी जो' आयी थी शौक से त... Read more

मधुमास पतझर हो नहीं सकता

बा'जारें इश्क का वीरान मंजर हो नही सकता मुहब्बत से तराशा बुत ये पत्थर हो नही सकता कभी भी हुश्न धोखा इश्क को देता नही लोगो गुलों क... Read more

सितमगर हो नहीं सकता

यकीं है ये कभी दरिया समंदर हो नही सकता मुहब्बत से भरा जो दिल वो' पत्थर हो नही सकता जमाना कह रहा कातिल मुहब्बत का तुझे सँगदिल मगर ... Read more

जल

नीर जिंदगी बचाय प्यास भूमि की बुझाय मूल्यवान रत्न मीत व्यर्थ न बहाइए गर्भ मे छुपा जो नीर न निकाल हो अधीर डाल डाल बोर वेल धर... Read more

दर्द

बना कर अश्क ऑखो से बहाया है सदा हमनें छुपा कर गीत मे किस्सा सुनाया है सदा हमनें न पूँछो दर्द के अहसान कितने है शरद तुझ पर तुम्हार... Read more

रिश्ते

गर है दौलत तो चमकते हैं जहां मे रिश्ते दौरे' गुरबत मे बिखरते हैं जहां मे रिश्ते वक्त के साथ ये दुनिया भी बदलती रंगत साल जैसे ही ... Read more

मानवता

किसी मंदिर के बाहर भूख से सिसकी है मानवता मज़ारों पर चढ़ीं चद्दर मगर ठिठुरी है मानवता करोड़ो का दिया चंदा चली जब बात मजहब की गरीबी म... Read more

विश्वास बेच देते हैं

गरीबों के छप्पर की घास बेच देते हैं वो अपनेपन का अहसास बेच देते हैं खनक सिक्कों की ऐसे भा गई यहाँ सबको कि पैसों के खातिर विश्वास ... Read more

मुहब्बत कौन करता है ?

गमे-उल्फत की यूँं हँस कर शिकायत कौन करता है लवों को सी लिया जाता बगावत कौन करता है अजब दस्तूर है उल्फत की राहों का जमाने में लगान... Read more

दिल के अंदर छोड़ जायेंगे

वफा के दौर का गुजरा वो मंजर छोड़ जायेंगे कि आंखो मे ये अश्कों का समंदर छोड़ जायेंगे भुलाने की हमें कोशिश हज़ारों बार कर लेना यकीनन अ... Read more

आईना

जब गया उसके समक्ष तो अक्स अपना देखकर सहमा ठिठका स्तब्ध था मैं सोचकर क्यों नहीं करता प्रशंसा धन सफलता रूप की अनभिज्ञ है ये मैने... Read more

अश्क से भीगी वो आंखें छोड़ जाऊंगा

इश्क की सारी सलाखें तोड़ जाऊंगा और रुख तेरी गली से मोड़ जाऊंगा था नहीं अहसास मेरे दर्द का जिनको अश्क से भीगी वो आखें छोड़ जाऊंगा ... Read more

गज़ब हो गया

अश्क उनका बहाना गजब हो गया दर्द दिल का बताना गजब हो गया प्यार मे चोट खाई बहुत आपने चोट खा मुस्कुराना गजब हो गया ख्बाव मे पास... Read more

बेटियाँ भयमुक्त हो घर से निकलनी चाहिए

आज अपने देश की हालत बदलनी चाहिए बेटियॉ भयमुक्त हो घर से निकलनी चाहिए देख लो लुटती हुईं जो आबरू को तुम कभी ऑख मे अंगार सी ज्वाला... Read more

शहीदों को मेरा है शत शत नमन

जिंदगी देश हित कर गये जो हवन उन शहीदों को मेरा है शत् शत् नमन इश्क था इस कदर मुल्क के बाग से जान दे कर खिलाया गुलों का चमन ख... Read more

छुप कर अश्रु बहा लेता हूँ

जीवन के सुख दुख मे हर पल खुद को धीर बंधा लेता हूँ देख न ले यह दुनियॉ सारी छुप कर अश्रु बहा लेता हूँ गम के काले बादल छाये जब जब ह... Read more

मक्का हो जाये वृंंदावन

चलो तोड़ दे वे दीवारे बॉट रही जो घर ऑगन काशी बने मदीना औ मक्का हो जायें वृंदावन जाति पाति मज़हब का बंधन मानवता को गाली है सारी दु... Read more

छलने लगें है लोग

मासूमियत का ढोंग कर ठगने लगें हैं लोग अब इश्क तेरे नाम से डरने लगें हैं लोग बाजार मे बिकती हुईं इक चीज अब है प्यार लेकर वफा का ना... Read more

खुशी को छोड़ कर आ जाइये

दर्द की सारी हदों को तोड़ कर आ जाइये इश्क का दरिया जरा सा मोड़ कर आ जाइये हर घड़ी खुशियाँ मयस्सर, है मगर ये इल्तिजा वक्ते' रुखसत पर ... Read more

दीप जलने लगे, अश्क बहने लगे

शाम जब भी ढली दीप जलने लगे और फिर याद में अश्क़ बहने लगे दूर करते रहे सिर पर छत की कमी चांद तारे पराये से लगने लगे हुस्न वालो... Read more

कर्मफल

लाभ नहीं कुछ होना मानव यूँ किस्मत पर रोने से कहाँ मुसाफिर मंजिल पाता बीच राह मे सोने से पुष्प भरी शैय्या की मन में इच्छा सभी रखें ... Read more

मुल्क दहल जायेगा

दौर-ए-गर्दिश तो' इक दिन बदल जायेगा लड़खड़ाता कदम भी सँभल जायेगा आज लड़ने लगें मुश्किलों में अगर मुल्क मेरा यकीनन दह़ल जायेगा © श... Read more

पैमाना बोल पड़ता है

ज़रा सी चूक पर मेरी जमाना बोल पड़ता है, कि किस्सा बोल पड़ता है फँसाना बोल पड़ता है! जहाँ पर मौन हो जायेगी' सच्चाई जमाने की; वहाँ देने... Read more

जमाने भर की रुसवाई हमारे नाम कर देगा

सुबह होने न पाई है वो' काली शाम कर देगा खुलासा दफ़्न दिल का वो हर इक पैगाम कर देगा मुहब्बत में हमें बख्शेंगा' अब वह जख़्म कुछ ऐसे ... Read more

इंसान बन कर जी

रिवाजे-इश्क़ से यह जिंदगी अंजान बन कर जी, महल हो समाने तेरे तो फिर शमसान बन कर जी ! मिलेगा वक्त मुस्लिम पारसी औ जैन बनने का, मगर प... Read more

इतिहास बन जाओ

निराशा भुखमरी के मध्य में इक आस बन जाओ कि शोषित वर्ग के मन का पुनः विश्वास बन जाओ कलम के साधकों इंसाफ अपनी लेखनी से कर गरीबों के ... Read more

मेरी हमसफर मेरी तंहाई

आखिरी हो सफर संग परछाई हो हो लवों पर हँसी दिल में' रुसवाई हो छोड़ दे साथ सारे न गम है कोई कम से कम हमसफर मेरी' तंहाई हो © शरद ... Read more

मैं सिकंदर हो गया

अश्क की बूंदें समेटे मैं समंदर हो गया दर्द की ऊँचाइयां छू मैं भी अंबर हो गया क्या बताऊं, हार कर यह दिल बा'जारे हुश्न में इश्क की ... Read more

फिर कलम रो पड़ी, मुक्तक

इश्क में इश्क की हर कसम रो पड़ी जब भी धोखा मिला आँख नम रो पड़ी इश्क में दर्द की इंतहा देख कर शायरी फिर ग़ज़ल फिर कलम रो पड़ी © शरद... Read more