Shamshad Shaad

Joined September 2016

I am an Poet & love poetry

Copy link to share

तमन्नाओं का तेरी अपने दिल को दर बनाता हूँ ... शमशाद शाद की एक लाजवाब ग़ज़ल

तमन्नाओं का तेरी अपने दिल को दर बनाता हूँ हसीं यादें सजा कर वस्ल का मंज़र बनाता हूँ मुसव्विर हूँ तसव्वुर को बदलता हूँ हक़ीक़त में ... Read more

दिल के दरिया में जो उतरता है .. शमशाद शाद की एक शानदार ग़ज़ल

डूबता है न वो उभरता है दिल के दरिया में जो उतरता है एक मेरे सिवा जहां में भला कौन तुझसे निबाह करता है आप ही आप हैं निगाहों म... Read more

शमशाद शाद की एक खूबसूरत ग़ज़ल

चलो चल के उनके सितम देखते हैं शुजाअत का क्या है भरम देखते हैं कन-अँखियों से देखे है हर कोई उस को खुली आँखों से सिर्फ हम देखते ह... Read more

ग़ज़ल

वो राहे इश्क़ में गर हमइनाँ नहीं होता नसीब मुझपे मेरा मेहरबाँ नहीं होता बयाँ मैं कैसे करूँ तुमसे हाले दिल अपना जिगर का दर्द ज़बां... Read more