Seema katoch

Dharamshala

Joined November 2018

Physics lecturer by profession… writing and reading poems is my hobby….
My mail id….. seemakatoch30@gmail.com

Copy link to share

सब्र****

कितना भी ऊंचा कर ले कद्द ये दरख्त फैला लें चार दिशाओं में अपना जाल जब सूरज निकलेगा अंधेरा छंट जायेगा मामूली झरोखों से भी र... Read more

चिठ्ठी

जाने कहां खो गई वो नीली सी प्यारी सी चिट्ठी.... आज भी आता थैला उठाए डाकिया लेकिन... कभी फोन तो कभी थमाता बिजली का बिल... अब... Read more

अनजान डगर

मयूर सा नाच उठा है मन इक मनचाहा साथी पाकर उड़ रही हूं जैसे आसमान पर या हूं धरती पर ,कोई बताए आकर.... इंद्रधनुषी सपनों का संसार... Read more

नया घर

सुनो..... बहुत खुश नज़र आ रहे हो नए घर में जो जा रहे हो... पर ये क्या..... ये क्या क्या तुमने बांध लिया कैसा तुमने ये काम किया.... Read more

मन की तहें***

मन की तहें उधेड़ फिर से सिलना चाहूं न जाने क्या क्या मैं लिखना चाहूं.... पर वो कहां लिख पाती हूं जो मैं लिखना चाहूं... अज्ञात... Read more

तुम और मैं****3

चंचल यौवना चाहती थिरकना मन की करना खुल कर बरसना..... बरसात सी ....तुम और मैं,,,, मैं मेघ सा चाहता तुमको जकड़ना, कैद करना बस... Read more

तुम और मैं****2

इस कोने से उस कोने तक मेरे वजूद पर छाए तुम, आकाश सदृश.... और मैं .... मैं धरा सी तुमको तकती दूर से... देखती वहां दूर क्षिति... Read more

तुम और मैं***1

धुली - धुली, खिली - खिली निर्मल सी, पूनम की चांदनी तुम...... अपनी दोनों बाहों को फैलाए, हौले से मुस्कुराकर..... जब मुझे अपने ... Read more

हार जाया नहीं करते****

ज़िन्दगी के मसलों से हार जाया नहीं करते यूं खुद ही अपने कातिल कहलाया नहीं करते.... सब बुरे हैं माना, कोई तो अच्छा भी होगा यूं स... Read more

और कितना***

बाहर खड़े हो, जो शोर मचाए इतना भीतर आए तो जाने, है गहरा कितना... भूख और प्यास से, जो है परेशान वो और सुने तुम्हारा, गुणगान कितन... Read more

अब भी है***

एक नए सितम का इंतज़ार अब भी है जिस्म में देख मेरे, जान अब भी है दफना दिया यूं तो तमाम यादों को तेरी पर रूह पर, जख्म का निशान अब... Read more

कहां था आसान

चलते चलते देखो कहां आ पहुंची मैं, ये लम्बा सफर, और उस पर अनजान डगर... तुम बिन तय करना कहां था आसान....... घूंघट से बाहर निकलन... Read more

मुलाकात

मुद्दत से आरज़ू थी इस एक मुलाक़ात की.... व्यां करने थे दिल के कई हाल, और कहनी थी मन की बात भी.... ये सवाल, वो सवाल ऐसे पूछें... Read more

हकदार

तू उनसे जाके पूछ मेरा हाल - ए - किरदार.... मेरी खबर, मुझसे ज्यादा रखते हैं, मेरे हकदार..... Read more

बहार देखते हैं

कभी पानी तो कभी आग देखते हैं हम तेरी आंखों में एक रेगिस्तान देखते हैं..... भटक न जाएं इस भूल भुलैया में इसलिए बाहर से ही भीतर के ... Read more

टीस

कुछ यादों की टीस है बहुत गहरी कैसे बताओ, उन्हें भुलाया जाए.... खो गए थे शहरों की चकाचौंध में चलो गांव को फिर से बसाया जाए.... कब... Read more

सपने

धूप अच्छी है चलो सपने सुखाते हैं..... बन्द पड़े संदूक को आज बाहर लाते हैं..... Read more

मेरा शहर

अजब हो गया मेरे शहर का सिलसिला घर आ गए पास और दिलों में हो गया फासला हर शख्स है पढ़ा लिखा, न कोई अनपढ़ रहा बाग हो जैसे कोई बिना... Read more

नकाब

हवा के बदले रुख ने, हौले से हमको बता दिया.... पहचान लो सबको लो मैने नकाब हटा दिया....... Read more

खुद पर एतबार रखिए

चेहरे बदल कर घूमने का है यहां चलन अपना मुखोटा भी आप साथ रखिए... दुश्मनों की तो जाहिर होती है जलन अपने दोस्तों पर भी एक निगाह रख... Read more

वही जो.....????

वही जो…............ घर भर का सामान एक थैले में डाल आजकल सड़कों में डोल रहा लाचार और बेबस वही जो …............. औरों की तरह ... Read more

एक नई सड़क

सदियों से चल रहे अब उखड़ने लगी, उड़ उड़ कर धूल आंखों में जाने लगी, मुंह पर गिरने लगी.... भाग रहे हैं सब और चलने के लिए वही सु... Read more

विलुप्त होती प्रजातियां

सुना है.... कभी हुआ करते थे डायनासोर कई कई फीट ऊंचे, कोतुहालवश देख ली जुरेसिक पार्क भी.... बाघ भी सुना ख़तम हो रहे हैं संरक्ष... Read more

कर्ज़

देख कर अपनी धन की पोटली आज, हुआ कुछ गुमान.... बैठ गई अकड़ के करने सबका हिसाब पर.... पर कैसे चुकाऊं ?? उन सांसों का ऋण जो ले... Read more

बरसात

बादलों के आगोश में चपला हो रही व्यग्र है... लगता है इस बार जमकर बरसेगी बरसात.... Read more

चुप मत रहना

जननी हो ,माता हो अनगिनत वीर पुरुषों की तुम जन्मदाता हो, सृजनकर्ता हो हो देवतुल्या तुम... तुम्हारे होने पर जब प्रश्नचिन्ह लगने ... Read more

वक्त

घड़ी की घूमती सुइयां हैं सिर्फ आभास... सूरज का आना और छुप जाना रात की गोद में.... है कहां ये वक्त ! ये क्रम तो जारी सृष्टि के... Read more

बेचैन क्यूं हैं

ये दुनिया है जनाब, रहिए ज़रा संभलकर रिश्ते भी निभते यहां अपनी सहूलियत देखकर... यूं न खोलिए सबके सामने, अपने दिल की गांठें लोग... Read more

कोई नहीं जानता

कोई ये नहीं कह सकता की कब.... आपकी ज़िन्दगी में कोई आ जाए, और इतना महत्वपूर्ण हो जाए की हर वक़्त ज़हन में बस वही रहे... उसी... Read more

क्या लिखूं

सब लिख रहे हैं... सोचा मै भी लिखूं, पर समझ नहीं आ रहा क्या और किस पर लिखूं ??? क्या लिखूं उस देश पर ? जिसने पूरे विश्व को डाल... Read more

तब मां याद आती है

जब चोट गहरी लगती है तब मां याद आती है... कभी प्यार कभी दुलार तो कभी डांट से समझाती है..... दूर मत जाना, खो जाओगे गिर गए तो च... Read more

मृगतृष्णा

मरुस्थल में तपते रेत पर, इस छोर से उस छोर कुछ पाने की चाह में, बेतहाशा दौड़ रहे हैं सब दौड़ रहे हैं लेकिन मृगतृष्णा..... ऊंची... Read more

ओस सा मोह

दिन के पीछे दवे पांव आती सांझ जब रात का राज्याभिषेक करती है... तब...तब सब कुछ सहम जाता है... अपने पद के मद में चूर, अंधेरा भय औ... Read more

अच्छे थे****

हमें भगवान बना के, तुमने क्या सितम कर दिया अच्छे थे इंसान ही, क्यों पत्थर बना के रख दिया??? Read more

काल चक्र******

आज फिर हमने हवाओं को वक्त के साथ बदलते देखा है ये सिर्फ तुम्हारी बात नही औरों को भी करते देखा है। क्यों होउं मैं दुखी और होउं श... Read more

हम वो दरख़्त नहीं...

बहती हवाएं हमें गिरा दें हम वो दरख्त नहीं, जाने कितने ही तूफान हमसे होकर गुजरे हैं ।। बार बार न इधर का ... Read more

रंग बदलते हम....

रंग बदलते हम .... ... रंग बदलता है मौसम तो बदलता है रंग गिरगिट भी.... देखो हमने भी सीख लिया रंग बदलना.... ये तो चलते कुद... Read more

ये वक्त भी बीत जाएगा

न हो उदास थोड़ा रख साहस जीवन पथ है ये, कभी मोड़ भी तो आएगा उत्साह से कदम बढ़ा आगे पथ सीधा आएगा ये वक्त भी बीत जाएगा...... क्या ... Read more

और बुन लेती हूं....

रोज़ सुलझा लेती हूं अपने सपनों का ताना बाना और बुन लेती हूं रंग बिरंगे ख्वाब... ख्वाब मेरी इच्छाओं और मेरी कल्पनाओं के, जो कह... Read more

प्रश्नपत्र

जिंदगी तेरी ये मनमानी कुछ समझ न आये हर मोड़ पर क्यों तू एक प्रश्नपत्र थमा जाए.... कभी कभी तो तुम लागती हो शिक्षिका मुझे मेरे स्... Read more

एक मुलाकात चांद से

कल रात मेरी खिडकी पर चाँद आकर ठहर गया बोला _कुछ दिन हुए तुम खुश हो नाच रही थी और आज हो एकदम उदास पूछने का तुमसे क्य... Read more

मुखौटा

दिन पर दिन परत दर परत भारी हो रहा मुखौटा असली चेहरा अब थकने लगा/उबने लगा..... कब तक सहना होगा इसका बोझ? सच को झूठ से छुपाना ... Read more

कशमकश

शब्दों के पंछी चहचहाते शोर मचाते कहाँ कहाँ से मन के आंगन में उड़ उड़ कर आते.... दौड़ दौड़ कर उनके पीछे भागूँ पकड़ कर उनको कैद कर... Read more

तनिक ठहरो पथिक

अभी और सज रहा है दुनिया का बाज़ार तनिक ठहरो पथिक थोड़ा तो घूम लो.... हर चौराहा सज रहा मोड़ मोड़ पर है रौनक ज़रा देखो तो सब कु... Read more

तुम क्या जानो

तुम क्या जानो कैसे बहती होगी हवा वहां घुट घुट कर रहती होगी हर आहट से सहम जाती होगी क्या होता है..रोज़ का मरना दहशत के माहौल में... Read more

मेरे अपने

उत्सव बन जाता जीवन का सफर, स्वयं को पाती हूं और भी सक्षम, जब होता है अपने आस पास अपनों के होने का एहसास..... खामोशी जब डर... Read more

शब्द हंसते हैं

शब्द हंसते हैं... बन जाते हैं हकीम ,मरहम दवा और दुआ दे जाते हैं खुशी उम्र भर की ।। शब्द रोते हैं.... टूटते हैं, बिखरते हैं ब... Read more

शब्द गुम हो जाता है

है उम्र का ज़ोर या शायद कुछ और कभी कभी मुंह तक आते आते शब्द गुम हो जाता है... बेबस मन तड़पता है दौड़ता है, भटकता है पर वो ...... Read more

बरसात

सबकुछ बहा के ले गई इस बार की बरसात और छोड़ गई बदबूदार सीलन.. Read more

जख्म

जख्म क्या हैं??? वो.. जो जिस्म पर दिखते हैं और कुछ दर्द देते हैं??? वो तो , भर जाते हैैं वक़्त के साथ .... मिट जाते हैं एक अ... Read more