Seema katoch

Dharamshala

Joined November 2018

Physics lecturer by profession… writing and reading poems is my hobby….

Copy link to share

समझ न आये

क्या लिखूँ ,कैसे लिखूँ कुछ समझ न आये…. शब्द खो गए से लगते हैं जज़्बात सो गए से लगते हैं ये कैसा दौर है शोर ही शोर है कहीं ढ़ह रह... Read more

मौन

शव्द हो जाते हैं गौण जब मौन बोलता है... बिन कहे ये तो सब राज़ खोलता है.... क्यों हों हर बार शब्दों के मोहताज हम... कभी तो सुने ... Read more

धर्म

एक शाश्वत सत्य जैसे ह्रदय स्पंदन रूप अनेक पर एक सार.... कुछ मेरा भिन्न कुछ तुम्हारा अलग मेरा अच्छा और न ही तुम्हारा बेहतर....... Read more

एक मुलाकात

दो पल सुस्ताने जीवन पथ की थकान मिटाने, आज खोले मन के किबाड़...... तो हाथ आ गया कोने में दुबका नादान बचपन.... जो जनता था कभी... Read more

हर सफर मजा देता है

देश परदेस में घूम कर कहाँ मिलता है सकून, जो घर का बिस्तर मुझे देता है बोझ सामान का हो या ख्वाहिशों का भारी हो जाए अगर तो रुला... Read more

बचपन

घर के छोटे छोटे कमरे महल जैसे लगते थे माँ के सादे खाने हमें छप्पन भोग लगते थे दादी का दुलार और नानी की कहानी थी गुड़िया की शादी... Read more

मेरी अदालत

बात बात पर न कर ,सज़ा ए मौत मुक़र्रर कभी तो उम्र कैद से काम चलना चाहिए ........ ये जंग मैं अक्सर लड़ती हूँ खुद ही खुद को कटघरे म... Read more

लाचारी

अगर यूँ ही होता है तो बताओ,मुझसे सहन क्यों नहीं होता है मेरा हर अश्रु ,क्यों मेरे उर का हर बोझ ढोता है दुनिया के दस्तूर का म... Read more

मेरे बिन

वो चिंता मे बेचैन हो रहा था दिन में चैन न रात को सो रहा था..... क्या होगा इस जहां का, इस धरती का..... और आसमान, वो तो गिरकर ... Read more

बरसात

हर ओर बादलों का शोर है छाया अंधकार घनघोर है अंबर के बाहुपाश से है छूट रही चपला , सावन भी बरस रहा आज पुरज़ोर है..... घात लगाए ब... Read more

बाल्टी भर सपने

बाहर से दिखे ,साफ सब और करीने से सजा.... भीतर सब छुपाया ,लूट लिया वाहवाही का मजा .... इस कोने में , कोई उस कोने में बस ठूँस दिय... Read more

मैं अब समझी

मैं अब समझी मेरे घर छोड़ते हुए क्यों होती थी बेचैन कभी भीतर जाती बिना काम के , तो कभी कहती गया है तिनका आँख में .... उन... Read more

वो नहीं हूँ अब

मैं बदल रही हूँ पल पल हर क्षण.... कल कुछ और थी आज हूँ कुछ और , भीतर बाहर कहीं भी अब बैसा कुछ नहीं.... कहीं कमज़ोर तो कहीं प... Read more

ज़िन्दगी

दूर तक फैली रेत की चादर सूरज को निगल रहा समंद्र नभ धरा पर छाया लालिमा का पहरा और तुम.... तुम लहर बन कर आओगी मेरा तन मन भिगोने ... Read more