साहित्य एवं संगीत में रूचि की वजह से आपके बीच हूँ .rnजब लिखना ज़रूरी हो जाता है ‘तब लिखकर उलझने कम कर लेता हूँ rnदर्द की लोग दाद दिया करते हैं rn=====बंटी सिंह ===========

Copy link to share

शेर

बद्दुवा मुझे दो शर्माना नहीं दिली बात अब तुम छुपाना नहीं ब मजबूरियों पर हँसाना नहीं कभी था मैं अपना बेगाना नहीं -*-*-*-... Read more

शेर

मिलो न मिलो तुम जताना नहीं किया प्यार हमने दिखाना नहीं मेरी बात रखना गुमाना नहीं तुम्हारी अलग है सुनाना नहीं 0**00*0*00*0*0... Read more

शेर

यहीं दोजख ज़न्नत है जाना नहीं किया जो करम तुम भुलाना नहीं कहाँ जा मरूंगा ठिकाना नहीं जिल्लतें जियादा कमाना नहीं -*-*-*-*-... Read more

शेर

कभी आप खुद से सताना नहीं दुखी हो गये तो फ़साना नहीं मेरी याद दिल से मिटाना नहीं तुम्हारी हस्ती हूँ दिवाना नहीं -/-/--//bu... Read more

शेर

''शहर में हर शख्स तनहा अनमना बहरा मिला कोठियाँ सब की अलग सब का जुदा कमरा मिला' . . . . . ;;रौनकें ही रौनकें थी आप जब तक थीं ... Read more

शेर

"हम दिल को कई रोज़ से बहलाये हुए हैं काग़ज़ के कबाड़ों से घबराये हुए हैं'' . . . ''रौशन रहते थे अपने परिचित बन्दे अपरिचित हजार... Read more

तुम्हारा पहला.. कभी पैग़ाम ही आये.......

ग़ज़ल ========================== किस्सा ओ कहानी ; मिरा क़लाम ही जाये तस्वीरें बनें ;वो मुक़म्मल शाम ही आये दीवाली मुबारक ; तुम्हे... Read more

ग़ज़ल ..'... .. वाज़दा चाहिए ''

दाल रोटी बस...बकायदा चाहिए अब नहीं झगड़ना; वायदा चाहिए रूठ जाएँ कभी भूलकर आप हम लौट कर ला सके वो सदा चाहिए साँस के बीच जो साँ... Read more

ग़ज़ल ..'''.....अक़्स बूंदों में दिखाते हैं..''

================================ गुज़रते पल गुज़रते छिन कभी हमको रुलाते हैं कभी देकर सदायें वे हमें वापस बुलाते हैं दिलों को जोड़न... Read more

ग़ज़ल .''खूबसूरत ...लगा नहीं कोई''

--------------------------- चल सका सिलसिला नहीं कोई मुसकाता.... मिला नहीं कोई पहल करनी पडी.. मुझे पहले हाथ आगे ....बढ़ा नहीं को... Read more

ग़ज़ल ..''..जिंदगी दर्द की कहानी है'

========================= बात मुहब्बत की बतानी है जिंदगी दर्द की कहानी है हर रिश्ता बसा किया दिल में दौलतें ही असल जुबानी है ... Read more

ग़ज़ल ..''ज़िंदगी तुझे गुरूर क्यों है..''

************************************ ज़िंदगी तुझे गुरूर क्यों है ये शराब सा शुरुर क्यों है पल पल टूटा बिखरा बिखरा वक़्त सितमगर म... Read more

ग़ज़ल ..''.. उन्ही के सामने.'..'

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~====== खूब बातें की उन्ही से बस खुदी के सामने बोलती बस बंद हो जाती उन्ही के सामने रंग पीला ओढ़नी का... Read more

ग़ज़ल '.. तुम संसार पढ़ लोगे..'

*************************************** असुवन तरल कतार बद्ध लड़ी मोतियन गढ़ लोगे खुदाया प्यार हो जाये तुम्हे तो.... हार पढ़ लोगे क... Read more

ग़ज़ल ..'.. याद रहते हैं..'

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ नज़ारे याद रहते हैं.....पुराने याद रहते हैं कभी न भूल सकते पल सुहाने याद रहते हैं सिलसिला निकल पड़... Read more

ग़ज़ल ..'मै मिलूंगा तुझे.... अज़नबी की तरह..'

===*====*========*====*=* ज़िंदगी में तड़प .. तिश्नगी की तरह मौत से मिलन हो.. ज़िंदगी की तरह आएगा ख्वाब फिर से.. यही सोचकर आँख मू... Read more

ग़ज़ल...'मरेंगे जिएंगे ; जिएंगे मरेंगे..'

====================== जहाँ पर गगन और सागर मिलेंगे ज़ुदा दिल कभी तो वहीँ पर मिलेंगे गुलों ने चमन में मुस्काते कहा है कली है अभी... Read more

ग़ज़ल ..'.यादें बसी है आज तलक .''

-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-*-* गुज़रे हुए लम्हात की 'उस पाक साल की यादें बसी है आज तलक 'काले बाल की हमने कभी पुकार लिय... Read more

ग़ज़ल ..''..मुस्कुराते है आ गया कोई..'

============================ मुस्कुराते है आ गया कोई ख्वाब बनकर है छा गया कोई शोख दिलबर है वो हज़ारों में शोहरत लाख पा गया कोई ... Read more

ग़ज़ल..'..याद आई आज फिर..''

भूलना चाहूँ न भूलूँ याद आई आज फिर चाँद निकला चांदनी भी शरमाई आज फिर चमक जाती है तस्वीरे यार जेहन में मगर याखुदा आँखे तेरी न मुस... Read more

ग़ज़ल ''........पुरानी दास्ताँ जो दरमियाँ..''

------------------------------------------ ग़लतफ़हमी हार जायेगी मियाँ दोस्ती जीतेगी सारी बाजियाँ। उन तलक फिर भी गयी न बात वो थी ... Read more

ग़ज़ल ''....''पंजाबी हो गई हैं ''

शर्म क़सम से गुलाबी हो गई हैं नियत भी अब पंजाबी हो गई हैं लहर बहती जहाँ मुहब्बत वाली 'ब' तेज़ाबी हिज़ाबी हो गई हैं पुराने मित्र... Read more