संतोष भावरकर नीर

सालीचौका रोड,गाडरवारा (मध्य-प्रदेश)

Joined March 2017

माता-श्रीमती चंद्रकांता भावरकर
पिता- स्व.श्री जे. एल.भावरकर
पत्नी-श्रीमती रजनी भावरकर
जन्म- 23/03/1975 (छिंदवाड़ा म. प्र.)
शिक्षा- एम. ए.(संस्कृत साहित्य, हिंदी साहित्य) बी.एड,
पी.जी.डी.सी.ए.

Books:
प्रकाशित काव्य संग्रह- सांझा काव्य संग्रह “काव्य-कलश”।
“दिव्यतुलिका” सांझा काव्य संग्रह
“जीवन -सुधा”काव्य संग्रह प्रकाशनाधीन
इंटरनेट तथा मुद्रित पत्र-पत्रिकाओं में सतत रचनाएँ प्रकाशित।देश की राष्ट्र स्तरीय पत्र-पत्रिकाओँ में सन् 1992 से सतत प्रकाशन.
(लगभग 400 कविता, आलेख,ग़ज़ल, गीत,कहानी,मुक्तक,का प्रकाशन)

Awards:
सम्मान:- मंजिल ग्रुप साहित्य मंच (मगसम )दिल्ली द्वारा “रचना शतकवीर”सम्मान।
अनुराधा प्रकाशन दिल्ली द्वारा “काव्य-कलश” सम्मान।
साहित्यायन ग्वालियर द्वारा दिव्यतुलिका सम्मान।
अर्णव कलश एसोसिएशन के राष्ट्रीय साहित्यिक मिशन( हरियाणा)कलम की सुगंध”द्वारा
“बाबू बालमुकुंद गुप्त हिंदी साहित्य सेवा सम्मान”,
“डॉ श्याम सुंदर साहित्य सेवा सम्मान”,
उपनाम अलंकरण सम्मान।
“महफिल -ए- ग़ज़ल साहित्य समागम औरैया (उत्तर प्रदेश )द्वारा साहित्य काव्य प्रतियोगिता प्रथम पुरस्कार से सम्मानित एवं अनेक साहित्यिक/सामाजिक/शासकीय संस्था द्वारा सम्मानपत्र एवं प्रशस्ति पत्र से
सम्मानित

Copy link to share

मौत तो सबको एक दिन आती है

" मौत तो सबको एक दिन आती हैं" हर सुबह एक नया पैगाम लाती है ! ज़िंदगी तो यूँ पल में गुज़र जाती है !! पल की क्या होती है क़... Read more

सुख-शांति की तलाश

सुख-शांति की तलाश! ----------------------- ना जाने कैसे रुकेगा रक्त -पात, खून-खराबा ? भटकती यह नई पीढ़ी! न जाने... Read more