सौरभ संतांश

रायबरेली

Joined May 2020

शिक्षा –

1. एम ए -अर्थ शास्त्र ,मनोविज्ञान
2.यांत्रिक अभियांत्रिकी
3. डिप्लोमा इन बेसिक ट्रेनिंग सर्टिफ़िकेट

कार्य – शिक्षक , लेखक
गायत्री मानस कला(मंच संचालन)

भाषा – हिंदी और अंग्रेजी

रुचि क्षेत्र –

•स्वतंत्र लेखन द्वारा पुरानी जीवन पद्धति की वर्तमान
में प्रासंगिता को तय करना।
•विशिष्ट से सामान्य की ओर विचारों की प्रवाह से
आपके अचेतन मन के सैकड़ो अनकहे सवालों के
उत्तर देने का प्रयास किया जाएगा ।
•आलोचनात्मक चिंतन के साथ प्रगतिशील धारा में
शामिल होने की एक ललक हमें हमेशा से ही प्रेरित
करती रही है ।

मेरी राय-

•दुनिया में मुफ़्त कुछ भी नहीं होता। जो कुछ
भी मुफ़्त दिखता है, उसकी क़ीमत ज़रा देर से खुलती
है।
•खिलता हुआ गुलाब,
ख़ुद ही इन्क़लाब है।

मो० 6388808575

Copy link to share

महाभारत के बदलतें रंग

बाल्यकाल से युवावस्था तक हमनें क्रमशः तीन महाभारत देखी, बी आर चोपड़ा साहब की सहज महाभारत ,एकता कपूर की धधकती महाभारत और वर्तमान में प... Read more

खाली हाथ

सिकंदर मरा जिस दिन, उस राजधानी में जिस दिन सिकंदर की अरथी निकली लोग हैरान हो गए, तुम भी वहां मौजूद होते, तो हैरान हो जाते। कुछ अजीब ... Read more

जिंदगी की पलकों पर

ऐ ज़िंदगी, हम तो चले थे खुले आसमान में ऊँची उड़ान भरने, पर कम्बख़त वक्त ने हवा में उड़ा दिया तन्हा धुवा जैसे, बड़े अरमान थे तुझसे... Read more

असंवेदनशील समाज का अमानवीय चेहरा

लेख विस्तारित है, स्वयं के लिए पढ़ना... हर मनुष्य में दया ,प्रेम,क्रोध और ईर्ष्या जैसे गुण निश्चित अनुपात में होतें हैं ,यही अनुप... Read more

जज़्बात की मुलाकात

कुछ लोग ,कुछ शहर ,कुछ सफ़र अच्छे होते हैं। पर कुछ शहर के सफ़र में कुछ लोग़ बड़े अच्छे होते है।। कुछ बातें ,कुछ मुलाक़ातें,कुछ लम्हें ... Read more

कोरोना का एक सच

कोरोना के अब तक के मामलों का अध्ययन किया जाए तो एक बात स्पष्ठ है भारत की जनता का इम्यून सिस्ट्म अन्य देशों से कही बेहतर है ,और यही व... Read more

भावनाप्रधान देश भारत

आधुनिक भारत एक कृषिप्रधान देश नहीं बल्कि एक भावनाप्रधान देश हैं, हम प्राच्य सूक्ति "प्राण जाए पर वचन न जाए" पर ना जीकर अब "प्राण जाए... Read more

आज ,कल और कल की पत्रकारिता

मीडिया का वास्तविक कार्य है, सदियों के आर-पार देखना। एक दूरदृष्टिवेदता के रूप उन सभी पक्षों का एक तटस्थ विवरण प्रस्तुत करना जिसे साम... Read more