आकाशवाणी जबलपुर से 14 बार रचनाएँ प्रसारित

Books:
(1)हाशिये पर ज़िन्दगी (ग़ज़ल संग्रह)
(2)ख़त लिखे जो प्यार के (ग़ज़ल संग्रह)
(3)जाने कौन…? (ग़ज़ल संग्रह)
(4)नाते निभाते नेह से (दोहा-कुण्डलिया संग्रह)

Copy link to share

देश टूटेगा नहीं...

प्रिय शहीदों को नमन् है देवता, जिनसे ज़िन्दा निज वतन है देवता! शत्रु को सैनिक सबक सिखलाएँगे, जलती उर में यूँ अगन है देवता! फ... Read more

देखो तो क्या कहर ढा रहा वेलेंटाइन डे

वेलेंटाइन डे है आ रहा वेलेंटाइन डे, काश! मिले अब हूर,गा रहा वेलेंटाइन डे! जन्म-जन्म की ले तन्हाई जिए जा रहे हम, इसी से हमको नह... Read more

अटल जी के प्रति.....

अश्रु आ रहे आँख में,दुख उर में भर आय। गया छोडकर के हमें,जो कैदी कविराय।। जो कैदी कविराय,नाम था अटलबिहारी। राष्ट्रभक्ति थी मीत,जिस... Read more

सीख जो देवें बड़े

कविता रचना ख़ुद करो वरना बनो श्रोता सखे, काम कविता चोरी का अच्छा नहीं होता सखे! कविता किसी कवि की लगे तुमको अगर अच्छी बहुत, नाम... Read more

जहाँ तक हो....

कि तुम बोलो या हम बोलें, जहाँ तक हो तो कम बोलें! ००० कभी सुख डोलते उर में, कभी दुःख खौलते उर में! हृदय में जब भी ग़म बोलें, ज... Read more

.... देख लेना सरस

दिल तुम्हारा रहे या हमारा रहे, यत्न हो वह सदा प्यारा-प्यारा रहे! बात गर सत्य हो झट से स्वीकारिये, झूठ लेकिन कभी ना गवारा रहे! ... Read more

सपनों की बारात है,तो......

मन में कोई बात है तो बोल दो, खौलता ज़ज़्बात है तो बोल दो! सुख की प्रातः का मज़ा अपनों के सँग, ग़म की कोई रात है तो बोल दो! स... Read more

जीवनसंगिनी चाहे निज मन...

नाम सतीश जाति है ब्राह्मण, जीवनसंगिनी चाहे निज मन! मनोरमा-सी पत्नी मिले इक, जो निज मन अनुकूल चले जी! दुर्गम जग सरि से तरने में... Read more

उल्फ़त है कहाँ?

आज अपने ही सुजन कितने दलों में बँट गये, कुछ सहज गद्दार लोगों से ही नाहक पट गये! जिनका परिचय वास्तव में गोष्ठियों से ही बढ़ा, मं... Read more

बुन्देली ग़ज़ल

मौन की वे तौ ठाने बैठे, जइसै भौत चिमाने बैठे! बात का कै दइ हमनैं सच्ची, दुश्मन हमखौं माने बैठे! वे ख़िलाफ़ हमरे बतियावे, तर... Read more

महज़ सपना

बहुत दिन हुए नहीं बात की किसी अपने से/बहुत दिन हुए मुलाक़ात नहीं हुई हृदय में उमड़ते सपने से/बहुत दिन हुए नहीं पी चाय किसी अपने के... Read more

सिखलाता है श्वांस नियंत्रण.....

स्वार्थ-अहं अरु द्वेष भाव को सचमुच प्यारे तोड़े योग, व्यर्थ भटकते जीवन को है सही दिशा में मोड़े योग। ००० ध्यान-धारणा आये ख़ुद ही ... Read more

बात कह दो....!

पक्ष में तुम रहो या कि फिर न रहो, दिल दुखे जिससे यूँ बात तो मत कहो! दिल दुखाया किसी बात ने आपका, कह दो,भीतर-ही-भीतर मगर मत दहो!... Read more

किसके सँग हम खेलें होली?

होली आने वाली लेकिन हमजोली है साथ नहीं, किसके सँग हम खेलें होली प्रिय टोली है साथ नहीं! ००० अपने दिल का प्रेम जगाने वाले मीत न... Read more

मनुहार वक़्त की

झेल रहे हम मार वक़्त की, धार तेज है यार वक़्त की। ००० धुल जातीं सब शास्त्र की बातें, पडती जब भी धार वक़्त की! ००० रूठे-रूठे से... Read more

बलि-बलि जाऊँ

कहती क्या,जाने ऋतु बसंत मन का बसंत सूना-सूना है पास नहीं मनमीत कोई, यह दर्द बढ़े निशिदिन दूना। हो गया प्रकृति से हृदय दूर फिर ग... Read more

ख़ुद को ही ख़ुद का सगा कीजिये

आप चिढ़ते हैं मुझसे चिढ़ा कीजिये, चिढ़के पर दोस्त-से मत दिखा कीजिये! ००० बेवफ़ाई जो करनी,तो खुल के करें- मैं ना कहता कि मुझसे वफ... Read more

दो मुक्तक

दो मुक्तक *(1)* प्रलोभन के दाने लिये घूमते वो, फँसें लोग जाले में,तो झूमते वो! जिन्हें आत्मसम्मान है सबसे प्यारा, चरण दिलज़लों... Read more

हे,प्रियवर...!

मैं नहीं देता बधाई हिन्दी दिवस की आखिर क्यों दूँ? हिन्दी हमारी न सिर्फ़ मातृभाषा अपितु है राष्ट्रभाषा भी अतः क्यों बाँधें हम ... Read more

हिन्दी के प्रति...

जन-जन की है भाषा हिन्दी, प्रीति की है परिभाषा हिन्दी! ००० निज गौरव-इतिहास रचेगी, भारत की है आशा हिन्दी! ००० जो अनभिज्ञ हैं,उनक... Read more

दिल कहे....

एक मैंने है कविता रची, उससे सूरत मिले आपकी। ००० पास में जो नहीं आप,तो- गंध कविता में ली भाव की। ००० जानता आपको मैं न,पर- चाह ... Read more

परम-प्रेमिका अब तलक दूर है

प्रेम-पुलकन पलक से झरी जा रही, पर परम-प्रेमिका अब तलक दूर है। उर की अभिलाषा ख़ुद में मरी जा रही, पर परम-प्रेमिका अब तलक दूर है। ... Read more

हम स्वयं के बल रहे...

रास्ते पर बिनु डरे हम चल रहे, इसलिये बस दोस्तों को खल रहे। ००० साथ पाया ना कभी उनका मगर, सच कहूँ तो हम स्वयं के बल रहे। ००० सू... Read more

पिता आपकी याद में...

पिता पर केन्द्रित तीन कुण्डलिया छंद (1) पिता आपकी याद में,गुज़रें दिन अरु रात। किन्तु आपके बिनु मुझे,कुछ भी नहीं सुहात।। कुछ भी ... Read more

नहीं जगाना चाह....

अन्तर्राष्ट्रीय नशा निरोधक दिवस (26 जून) प्रसंग पर (तीन कुण्डलिया छंद) (1) करता नाशी चित्त की,नशा सुनिश्चित मीत। बीड़ी अरु... Read more

वक़्त-वक़्त की बात.....

पहले जब कभी आते थे वह मेरे शहर तब मिलते थे मुझसे सबसे पहले पर अब आते हैं चुपके से शहर की महफ़िलों में और चले जाते हैं हौले से... Read more

बस धता दिखला रहे....

कोई ग़ज़लें ले हजारों घर में ही बैठा मगर, चार कवितायें लिये वह देश भर में छा रहे। ००० द्वेष-नफ़रत में सने जो पग से लेकर सिर तलक, ... Read more

...यह क्या..!

चिड़िया उड़ी लेकर आशा छाया की वृक्ष की ओर/पर यह क्या? इससे पहले कि वह शरण गहती वृक्ष की/पत्ते झड़ गये सारे गर्मी के कारण देखक... Read more

एक कुण्डलिया छंद

वाह-वाह की भूख भी,होती बड़ी विचित्र। मगर कभी कहते नहीं,जाने क्यों निज मित्र।। जाने क्यों निज मित्र,दिखाते मुझे अँगूठा। देते उसका ... Read more

हम के लिये

'मैं' 'मैं' है और 'तुम' 'तुम' अतः क्योंकर भिड़ना किसी के 'मैं' से? यह जानते हुये भी कि न तो 'मैं' 'तुम' हो सकता है और न ही 'तुम... Read more

माँ तो माँ है......

*मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ प्रस्तुत हैं कुछ दोहे....*?? माँ तो माँ होती सरस,खटती दिन अरु रात। सुखी हो सुत इस वास्ते... Read more

सच की हरदम ही जय होवे

नया वर्ष मंगलमय होवे, दुःख-दर्दों का ख़ुद क्षय होवे. ००० रमा जो निज आनंद ह्रदय में, पस्त हर इक उससे भय होवे. ००० कभी जो बिछड़ा... Read more

तीन कुण्डलिया छंद

(1) सच को मैं जो थामता,उतने हों वो दूर. अहंकार में ख़ुद रमें,हमें कहें मगरूर. हमें कहें मगरूर,चूर नफ़रत में रहते. स्वयं साधते स्... Read more

काश! पुनः लौटें दिन...

चिट्ठियाँ नहीं आतीं अब अपनों की आते हैं कॉल औपचारिकता निभाने जबकि चिट्ठियाँ सिर्फ़ सम्बन्ध निभाने का जरिया नहीं अपितु परिचायक ... Read more

समाये रहें रंग...

लो आ गयी रंगपंचमी आज पर फीका है जीवन का रंग नहीं पास में स्थायी रोज़गार का रंग और न ही जीवन में रस भरने वाली एक सौम्य-संगिनी का... Read more

कठिन बहुत जीवन की राहें...

कभी-कभी लगता है हमको, कठिन बहुत जीवन की राहें, ००० जो कुछ भी उपलब्ध हमें है, उसको हम पहचान न पाते. जो कुछ अपने पास नहीं है, म... Read more

गीत लिखूँ क्या?

भाव अभी अज्ञातवास पर गीत लिखूँ क्या, दोस्त ही खंजर भोंकने तत्पर गीत लिखूँ क्या? ००० आज वही निज साथ छोड़कर ऱूठ गये, जिनका साथ दिय... Read more

होली उत्सव प्रसंग पर...

तीन कुण्डलिया छंद (1) बहे बसंती पवन ले,अपने उर में प्यार. कोयल गाकर कह रही,सरस करो सत्कार. सरस करो सत्कार,पर्व यह प्रेम-भाव का... Read more

उर का कान्हा.....

*चंद दोहे* कठिन स्वयं को जानना,सचमुच मेरे मीत. बिनु जाने ख़ुद को सरस,मिले न दुख पर जीत. ००० कौन है अपना दोस्तो,कौन पराया यार. ... Read more

कुण्डलिया छंद के बारे में...

प्रिय मित्रो, मैं आपसे 'कुण्डलिया छंद' के बारे में कुछ बातें साझा करना चाहता हूँ.इतना सब जानते हैं कि *दोहा-रोला* से मिलकर बन... Read more

काश....

एक पत्नी का होना भी ज़रूरी है जीवन में/ऐसा मुझे लगता है पल-प्रतिपल/क्योंकि कुछ बातें ऐसी होती हैं ज़िन्दगी में जिन्हें बहन तो क्... Read more

तीन कुण्डलिया

(१) आ़यी जीवनसंगिनी,नहीं अब तलक यार. जाने कब देगा सरस,दुलहिन इक करतार. दुलहिन इक करतार,माँगती रहती माता. मिलेगी या न यार,प्रश्न ... Read more

हे,मन

बढ़तों का हाथ थामते लोग समझ रहे ख़ुद को तीसमारखाँ जो देते रहे साथ उनका हरदम उनको छोड़कर थाम रहे हाथ तथाकथित रहनुमाओं का पाते ... Read more

गाना होगा

हों लाख व्यस्ततायें पगले, पर गान तो निज गाना होगा. आखिर तो किसी के भी दिल में, निज प्यार के हित थाना होगा. *** दिल ढूँढ़े मीत स... Read more

तीन कुण्डलिया छंद

(१) मेरे-तेरे में लगा,क्यों कर के साहित्य. दिखे न अब उर का सरस,लेखन में लालित्य. लेखन में लालित्य,कहाँ से आये भैया. रहा व्यक्ति ... Read more

एक कुण्डलिया

परम्परा को तोड़ना,नव-पीढ़ी की रीत. जो कुछ गाया जा सके,वही कहाये गीत. वही कहाये गीत,सहज में जो आ जाये. अनपढ़ भी सुन बन्धु,जिसे निज... Read more

नवनीत है बेटी

छंद-ग़ज़ल अरु गीत है बेटी, प्यार भरा संगीत है बेटी. दुःख-दर्दों में साथ निभाये, माँ की सच्ची मीत है बेटी. पूत कपूत भले हो लेकिन,... Read more

नवनीत है बेटी

छंद-ग़ज़ल अरु गीत है बेटी, प्यार भरा संगीत है बेटी. दुःख-दर्दों में साथ निभाये, माँ की सच्ची मीत है बेटी. पूत कपूत भले हो लेकिन,... Read more