satguru premi

रायबरेली, उत्तर प्रदेश, भारत

Joined December 2016

मैं सतगुरु प्रेमी बेसिक शिक्षा परिषद् द्वारा अध्यापक हूँ, गीत,गजल,छन्द और कविताएँ लिखने का प्रयास करता हूँ,पत्र,पत्रिकाओ में मेरी रचनाएँ प्रकाशित होती रहतीं हैं , सारंधा की आन, प्रेमी विरह, छाया ‘ प्रकाशित कृतियाँ हैं।

Copy link to share

हिंदी भाषा

सुंदर सरल शब्द स्वच्छ शशि रश्मि के से सारे सरगम के स्वरों को जो संवारती। शुद्ध सुरसरि के समान सरसर बहे सरस सराहनीय शारद सुधारती। ... Read more

बढ़िया पकड़ावति लीक नहीं

बढ़िया पकड़ावति लीक नहीं । जबते यहु देशु अजाद भवा, हमका नहि लाग अबाद भवा, पर भीतर ते बरबाद भवा, हमका तौ मिला कोउ ठीक नहीं । बढ़... Read more

वो बेटियाँ ही हैं

वो बेटियाँ ही हैं हमें जीना सिखातीं । जिन्दगी-मौत के संघर्ष में, पल रहीं कांटों के मध्य हर्ष में, तीब्र गति से लक्ष्य पर वो बढ़ र... Read more

सब आपनि-आपनि गाय रहें

सब आपनि-आपनि गाय रहें । दुनिया का यहै दस्तूर हवै, सबही का नोट कपूर हवै, मनई बिन पूंछ लंगूर हवै, जब द्याखौ गाल बजाय रहें । सब आप... Read more

बिरवा कहिसि

हमका यहु गर्व हवै बहुतै अपना तन तोहि लुटाइत है। जब भूख ते व्याकुल आयौ कबो, हम आपनि डाल लचाइत है। तुम्हरे जब घामु लगै कसिकै, हंस... Read more