मेरा नाम सर्वोत्तम दत्त पुरोहित है
मैं राजस्थान के जोधपुर शहर का बाशिंदा हूँ , और न्याय विभाग में कार्यरत मैंने अपनी लेखनी को दिशाहीन चलाया उसके बाद मुझे एक गुरु मिले जिनसे मैंने ग़ज़ल लेखन की बारीकियां सीखी उन गुरुदेव प्यासा अंजुम साहब का मैं ऋणी हूँ और मैं जल्द अपनी ग़ज़ल की किताब जज़्बाती नामा पब्लिश करने वाला हूँ आज तक मैंने तकरीबन 500 ग़ज़ल लिखी है धीरे धीरे वो ग़ज़ल मैं यहाँ अपलोड करूँगा
सादर आभार

Copy link to share

दिखाई देने वाला ख़्वाब हर क़ामिल नहीं होता

दिखाई देने वाला ख़्वाब हर क़ामिल नहीं होता ज़ुबाँ से जो निकल जाए वो दर्देदिल नहीं होता शमा रौशन हुई तो ख़... Read more

जब कभी बैठा हुआ होता हूँ मयखाने में

जब कभी बैठा' हुआ होता' हूँ' मयखाने में पी रहा होता' हूँ' बस गम को मैं' भुलाने में जाम को होठ छुआ करके' भी'... Read more

मिटा ले यार दिल की तश्नगी को

मिटा ले यार दिल की तश्नगी को जगा दिल में ज़रा आवारगी को दिले जज़्बात ले के दिल हूँ आया दिखा दूँ यार मैं भी आशिक़ी क... Read more

अब गुमाँ तुझको कैसे आया है

अब गुमाँ तुझको कैसे आया हैं क्यूँ मुहब्बत से दिल सजाया हैं नफ़रती बस्तियों में उसने' कहीं आशियाँ फिर से' इक बस... Read more

क्यूँ गलत को कहा सही अब तो

क्यूँ गलत को कहा सही अब तो जां का दुश्मन बना यही अब तो ज़िन्दगी एक साँस पर है टीकी जी का जंजाल ये बनी अब तो खेल आँख... Read more

कारवाँ थम रहा है साँसों का

कारवाँ थम रहा है' सांसों का पर भरोसा है तेरे' वादों का बस अँधेरा है और तन्हाई जल रहा है चराग यादों ... Read more

हमारी तिश्नगी ने ग़म पिया है

हमारी तिश्नगी ने ग़म पिया है तभी मर मरके दिल अपना जिया है तिरी यादों को हम कितना भुलाए भुलाके ख़ुदको ग़म इतना लि... Read more

ग़ज़ल

सर हमारा हर जगह झुकता नहीं दिल हमारा लोभ में बिकता नहीं मान जाओ बाज़ भी आ जाओ तुम फिर न कहना यार ये सुनता नहीं ... Read more

ग़ज़ल

ऐ ख़ुदा हमको तिरी रहमत सुहानी चाहिए हर जगह बस तेरी ही सूरत नुरानी चाहिए मैं इबादत करके' माँगू तुझसे बस इतनी दुआ आदमी म... Read more